NDTV Khabar

IND VS SA: सबसे तेज पिचों में से एक कर रही टीम इंडिया का इंतजार, लेकिन...!

दक्षिण अफ्रीकी धरती पर बतौर कप्तान अपने पहले ही इम्तिहान में फेल होने के बाद  विराट कोहली और टीम इंडिया आत्मचिंतन कर रहे हैं, लेकिन 24 जनवरी से वॉन्डर्स में दौरे की सबसे तेज पिच टीम इंडिया के स्वागत का इंतज़ार कर रही है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
IND VS SA: सबसे तेज पिचों में से एक कर रही टीम इंडिया का इंतजार, लेकिन...!

टीम इंडिया का फाइल फोटो

खास बातें

  1. क्या मिलेगा नवदीप सैनी व शार्दुल ठाकुर को भेजने का फायदा?
  2. रविवार से प्रैक्टिस शुरू करेगी टीम इंडिया
  3. जोहांसबर्ग में घरेलू मैदानों पर दक्षिण अफ्रीका का सबसे खराब रिकॉर्ड
नई दिल्ली:

दक्षिण अफ्रीकी धरती पर बतौर कप्तान अपने पहले ही इम्तिहान में फेल होने के बाद  विराट कोहली और टीम इंडिया आत्मचिंतन कर रहे हैं, लेकिन 24 जनवरी से वॉन्डर्स में दौरे की सबसे तेज पिच टीम इंडिया के स्वागत का इंतजार कर रही है. मतलब यह है कि क्लीन स्वीप से बचना है तो जल्दी ही कुछ सोचना होगा. वैसे चयनकर्ताओं ने नेट्स में बल्लेबाजों की मदद के लिए  दिल्ली के नवदीप सैनी और मुंबई के शार्दुल ठाकुर को जोहांससबर्ग भेजा है.
 


यहां घरेलू टीम का रिकॉर्ड अपनी ज़मीं पर सबसे खराब रहा है. 1956 से अब तक कुल 37 मैच खेले गए हैं. मेजबान टीम ने इनमें से 15 मैच जीते और 11 हारे हैं. बाकी 11 मैच ड्रॉ छूटे. भारत ने यहां साल 2006 में जीत दर्ज की थी. यानी पिच जितनी तेज होगी, उतना ही मौका विपक्षी टीम के पास होगा. यही वजह है कि सीरीज में बड़ा अंतर साबित हुए एबी डिविलियर्स भी भारतीय पेसर्स से सावधान रहने की बात कर चुके हैं.

यह भी पढ़ें : IND VS SA: टीम इंडिया की मदद को 'इन दो' और गेंदबाजों को बीसीसीआई दक्षिण अफ्रीका भेजेगा


टिप्पणियां

और अब दक्षिण अफ़्रीकी पूर्व विकेटकीपर मार्क बाउचर ने भी कहा है, 'ये दक्षिण अफ्रीका की सबसे तेज और उछाल वाली पिच है, लेकिन भारत ने भी यहां टेस्ट मैच जीता हुआ है. अगर वो सही जगह पर गेंदबाजी करते हैं, तो प्रोटियाज बल्लेबाज़ों पर दबाव डाल सकते हैं, लेकिन दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों की  लंबाई देखकर लगता है कि बहुत सी गेंद भारतीय बल्लेबाजों के कान के पास से गुजरेंगी.

VIDEO : सेंचुरियन में शतक बनाने के बाद विराट कोहली का अंदाज.

दुनिया की सबसे तेज पिचों में शुमार वॉंडर्स की पिच को तेज़ गेंदबाज़ों का स्वर्ग यूं ही नहीं कहा जाता. ये विश्व के उन चुनिंदा वेन्यू में शुमार है जहां तेज़ गेंदबाज़ हर 50 गेंद में विकेट झटकते हैं. यही नहीं हर दिन यहां पर करीब 10 विकेट आउट होने का रिकॉर्ड है. मतलब नतीजा तो पक्का है, और मौका भारत के पास भी रहेगा उस नतीजे को अपने पक्ष में करने का अगर वो पिछली हार को भुलाकर बेखौफ क्रिकेट खेले. 
 

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement