मैच फिक्सिंग ने किया इन 5 पाकिस्तानी क्रिकेटरों का करियर बर्बाद

मैच फिक्सिंग (Match fixing) क्रिकेट की दुनिया में एक ऐसा काला जाल है जिसमें फंसकर कई दिग्गज क्रिकेटरों का करियर बर्बाद हो गया है.

मैच फिक्सिंग ने किया इन 5 पाकिस्तानी क्रिकेटरों का करियर बर्बाद

पाकिस्तानी क्रिकेटर जिनका करियर मैच फिक्सिंग ने किया बर्बाद

मैच फिक्सिंग (Match fixing) क्रिकेट की दुनिया में एक ऐसा काला जाल है जिसमें फंसकर कई दिग्गज क्रिकेटरों का करियर बर्बाद हो गया है. अभी हाल ही में पाकिस्तान (Pakistan Cricket) के उमर अकमल (Umar Akmal) पर सटोरियों से मिलने और जानकारी छुपाने के आरोप में 3 साल के लिए पाकिस्तानी बोर्ड (PCB) ने बैन लगा दिया है. उमर अकमल से पहले भी कई ऐसे पाकिस्तानी क्रिकेटर रहे हैं जिनका नाम मैच फिक्सिंग या फिर स्पॉट फिक्सिंग में आया और उनका करियर तबाह हो गया. ऐसे में जानते हैं कुछ ऐसे ही पाकिस्तानी क्रिकेटरों के बारे में जो मैच फिक्सिंग कर अपने करियर से हाथ धो बैठे.

सलीम मलिक (Saleem Malik)
पाकिस्तान के दिग्गज बल्लेबाज और पूर्व कप्तान सलीम मलिक (Saleem Malik) पर साल 2002 में मैच फिक्सिंग का आरोप लगा जिसके बाद उनको पाकिस्तान बोर्ड ने आजीवन प्रतिबंध लगा दिया. अभी हाल ही में सलीम मलिक ने सोशल मीडिया पर वीडियो शेयर कर अपनी गलती की माफी मांगी और पाकिस्तान बोर्ड से अपील की और कहा कि उन्हें दूसरा मौका मिलना चाहिए. 

सलमान बट (Salman Butt)
पाकिस्तान के पूर्व सलामी बल्लेबाज और कप्तान रहे सलमान बट (Salman Butt) भी स्पॉट फिक्सिंग कर दागी क्रिकेटरों की लिस्ट में शामिल हो चुके हैं. उनपर 2010 के इंग्लैंड दौरे पर लॉर्ड्स पर खेले गए चौथे टेस्ट में स्पॉट फिक्सिंग की थी. सलमान बट ने खुद इस बात को मानकर अपना आऱोप मान लिया था. बट ने लॉर्ड्स टेस्ट (Lords Test) मैच के दौरान साथी गेंदबाज आसिफ और आमिर को नो गेंद फेंकने क लिए उकसाया था. सलमान बट को आईसीसी ने बैन भी किया और साथ ही लॉर्ड्स कोर्ड ने उन्हें जेल की सजा भी सुनाई थी. बता दें कि बट को साढ़े तीन साल जेल में रहने की सजा सुनाई गई थी लेकिन 7 महीने की सजा काटने के बाद जेल से रिहा हो गए थे. 

मोहम्मद आसिफ (Mohammad Asif)
पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज मोहम्मद आसिफ ( Mohammad Asif) भी साल 2010 में लॉर्ड्स टेस्ट के दौरान स्पॉट फिक्सिंग में फंसे थे. आसिफ को भी जेल जाना पड़ा था. इसके अलावा आईसीसी ने 7 साल का बैन भी लगाया था. 

मोहम्मद आमिर (Mohammad Amir)
पाकिस्तानी क्रिकेट को सबसे बड़ा झटका युवा तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर (Mohammad Amir) के रूप में लगा था. आमिर जब स्पॉट फिक्सिंग में पकड़े गए तो उनकी उम्र महज 19 साल थी. इस घटना ने पूरे क्रिकेट जगत को हिला कर रख दिया था. आमिर को लॉर्ड्स टेस्ट मैच में फिक्सिंग के तहत नो बॉल की थी. फिक्सिंग में फंसने के बाद उनका करियर लगभग खत्म ही हो गया था. आमिर पर 5 साल का बैन लगा. हालांकि आमिर ने 2016 में पाकिस्तान क्रिकेट में वापसी की लेकिन अपना जो करियर वो बना सकते थे वो नहीं बना सके. आमिर ने अब टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया है.

दानिश कनेरिया (Danish Kaneria)
पाकिस्तान के स्पिनर दानिश कनेरिया (Danish Kaneria) का करियर भी फिक्सिंग में आने के बाद खत्म हुआ. उनपर इंग्लिश काउंटी मैचों में स्पॉट फिक्सिंग करने का आरोप था. इंग्लैंड क्रिकेट ने उनपर लाइफ बैन लगा दिया था. कनेरिया ने हाल ही में अपने उस अपराध को कबूला भी था और माफी भी मांगी थी. कनेरिया के बैन होने के बाद उनका करियर अधूरा ही रह गया.

मोहम्मद इरफान (Mohammad Irfan)
पाकिस्तान के तेज गेंदबाज मोहम्मद इरफान (Mohammad Irfan) पर साल 2017 में पाकिस्तान सुपर लीग (PSL) में स्पॉट फिक्सिंग मामले में दोषी पाए गए थे. उनपर पाकिस्तान बोर्ड ने 1 साल का बैन लगा दिया था. इरफान पर पीएसल के दौरान सट्टेबाजों से संपर्क की जानकारी पाकिस्तान बोर्ड से नहीं बताने का दोषी पाया गया था जिसके कारण उन्हें 1 साल के लिए बैन किया गया. हालांकि बाद में इरफान ने अपनी गलती की माफी भी मांगी थी. 

VIDEO:  कुछ महीने पहले विराट कोहली ने अपने करियर को लेकर बड़ी बात कही थी. 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com