NDTV Khabar

पाकिस्‍तान के सईद अजमल बोले, 'आज तक समझ नहीं पाया सचिन तेंदुलकर को उस मैच में आउट क्‍यों नहीं दिया गया'

पाकिस्‍तान के दिग्‍गज ऑफ स्पिनर सईद अजमल ने कहा है कि वे आज तक यह बात समझ नहीं पाए हैं कि वर्ल्‍डकप 2011 के सेमीफाइनल में उनकी गेंद पर सचिन तेंदुलकर को एलबीडब्‍ल्‍यू आउट क्‍यों नहीं दिया गया था.

139 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्‍तान के सईद अजमल बोले, 'आज तक समझ नहीं पाया सचिन तेंदुलकर को उस मैच में आउट क्‍यों नहीं दिया गया'

अपने संदिग्‍ध एक्‍शन को लेकर पाकिस्‍तानी स्पिनर सईद अजमल विवादों में रहे (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. अजमल का दावा, मेरी गेंद पर सचिन एलबीडब्‍ल्‍यू आउट थे
  2. वर्ल्‍डकप 2011 के सेमीफाइनल मैच की है यह घटना
  3. एक्‍शन पर अंगुली उठने के बाद अजमल क्रिकेट से ले चुके हैं संन्‍यास
कराची: इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्‍यास लेने वाले पाकिस्‍तान के दिग्‍गज ऑफ स्पिनर सईद अजमल ने कहा है कि वे आज तक यह बात समझ नहीं पाए हैं कि वर्ल्‍डकप2011 के सेमीफाइनल मैच में उनकी गेंद पर मास्‍टर ब्‍लास्‍टर सचिन तेंदुलकर को एलबीडब्‍ल्‍यू आउट क्‍यों नहीं दिया गया था. गौरतलब है कि वर्ल्‍डकप 2011 का सेमीफाइनल मैच मोहाली में भारत और पाकिस्‍तान की टीमों के बीच खेला गया था. इस मुकाबले को छह वर्ष से अधिक समय बीत चुका है लेकिन सईद अजमल अभी भी मानते हैं कि उन्‍होंने सचिन को आउट कर दिया था. हालांकि अम्‍पायरों ने यह फैसला भारतीय बल्‍लेबाज के पक्ष में दिया था.

यह भी पढ़ें: अजमल ने एक बार हरभजन और अश्विन को भी बताया था 'चकर', 6 खास बातें

टिप्पणियां
अजमल ने कहा कि वे अब तक यह बात समझ नहीं पाए हैं कि अंपायरों ने सचिन को उनकी गेंद पर नाट आउट कैसे करार दिया था. गौरतलब है कि संदिग्‍ध गेंदबाजी एक्‍शन के कारण अजमल विवादों में भी रहे. 40 साल के अजमल ने हाल ही में क्रिकेट को अलविदा कहा है. मोहाली के जिस सेमीफाइनल मैच का जिक्र अजमल कर रहे हैं, उसे भारतीय टीम ने जीता था. बाद में फाइनल में श्रीलंका को हराकर भारतीय टीम वर्ल्‍डकप चैंपियन बनी थी.

वीडियो: गावस्‍कर बोले, निडर गेंदबाज हैं कुलदीप यादव और चहल
मोहाली में पाकिस्तान के खिलाफ सेमीफाइनल में तेंदुलकर ने 85 रन बनाए थे. अजमल ने ही उन्‍हें आउट किया था. पाकिस्‍तान टीम की कई जीतों में अहम योगदान देने वाले अजमल ने कहा,‘मैं आश्‍वस्त था कि वह (सचिन) एलबीडब्‍ल्‍यू आउट थे लेकिन आज तक मुझे समझ में नहीं आया कि अंपायरों ने उन्हें आउट क्‍यों नहीं दिया.’उन्होंने माना कि भारतीय बल्लेबाजों को गेंदबाजी करना आसान नहीं था. उन्होंने कहा,‘तेंदुलकर एंड कंपनी को गेंदबाजी करना हमेशा कौशल और क्षमता का परीक्षण होता था.’अजमल ने 35 टेस्ट मैचों में 178 विकेट, 113 वनडे में 184 विकेट और 64 टी20 अंतरराष्ट्रीय में 85 विकेट लिए. अपने सफल करियर के बावजूद अजमल ने कहा कि पिछले दो साल उनके लिये निराशाजनक रहे. उन्होंने कहा कि एक्शन को लेकर प्रतिबंध से मैं काफी निराश और आहत था. (इनपुट: एजेंसी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement