पीसीबी मिस्बाह के एक साल के काम की समीक्षा करेगा और अब पाक कोच के पास इसे छोड़कर कोई विकल्प नहीं

वसीम खान ने कहा, ‘हम उनसे भविष्य की योजनाओं, विशेषकर जिम्बाब्वे के खिलाफ आगामी घरेलू श्रृंखला के बारे में भी पूछेंगे कि उनकी युवा खिलाड़ियों को इस टीम के खिलाफ उतारने की योजना है या नहीं.

पीसीबी मिस्बाह के एक साल के काम की समीक्षा करेगा और अब पाक कोच के पास इसे छोड़कर कोई विकल्प नहीं

पाकिस्तान टीम के कोच मिस्बाह-उल-हक

कराची:

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) जिम्बाब्वे के खिलाफ घरेलू श्रृंखला से पहले राष्ट्रीय टीम के मुख्य कोच और मुख्य चयनकर्ता मिस्बाह उल हक के एक साल के प्रदर्शन की समीक्षा करेगा. पीसीबी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी वसीम खान ने मीडिया से कहा कि वह और चेयरमैन एहसान मनी जल्द ही मिस्बाह के साथ बैठक करके उनके प्रदर्शन के बारे में चर्चा करेंगे. मिस्बाह ने करीब एक साल पहले पाकिस्तान के कोच और चीफ सेलेक्टर का पद संभाला था. तब  से लेकर पाकिस्तान टीम के प्रदर्शन में खास सुधार तो नहीं आया, लेकिन मिस्बाह एक वजह से जरूर निशाने पर आ गए, जो अब उनके लिए मुसीबत का सबब बनने जा रहा है और मिस्बाह के पास कोई विकल्प नहीं है.

वसीम खान ने कहा, ‘हम उनसे भविष्य की योजनाओं, विशेषकर जिम्बाब्वे के खिलाफ आगामी घरेलू श्रृंखला के बारे में भी पूछेंगे कि उनकी युवा खिलाड़ियों को इस टीम के खिलाफ उतारने की योजना है या नहीं.'एक विश्वस्त सूत्र ने कहा कि जब पीसीबी के शीर्ष अधिकारी मिस्बाह से मिलेंगे तो वे उन्हें बोर्ड की नयी आचार संहिता के बारे में भी बताएंगे, जो किसी को भी बोर्ड में दो पद पर काबिज होने की अनुमति नहीं देती. 

बोर्ड के इसी नियम के कारण मिस्बाह का चीफ सेलेक्टर का पद जाता दिख रहा है. पिछले दिनों पीसीबी ने शोएब अख्तर से चीफ सेलेक्टर पद को लेकर बात करी थी, लेकिन इस बाबत आधिकारिक ऐलान होना अभी बाकी है. कुल मिलाकर यह साफ है कि मिस्बाह को एक पद छोड़ना ही पड़ेगा और यह पद कोच का तो नहीं ही होने जा रहा. जब पीसीबी ने मिस्बाह को दो पद दिए थे, तब से ही पीसीबी की आलोचना हो रही थी. और फिर हालिया समय में संविधान से नियम भी निकलकर सामने आ गया, जो मिस्बाह के दो पद में रोड़ा बन गया.

VIDEO: कुछ दिन पहले विराट ने करियर को लेकर बड़ी बात कही थी. ​

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com