Budget
Hindi news home page

'रैंकिंग की रेस में भारत और ऑस्ट्रेलिया'

ईमेल करें
टिप्पणियां
'रैंकिंग की रेस में भारत और ऑस्ट्रेलिया'
नई दिल्ली: वर्ल्ड कप के ख़िताब की दावेदार को लेकर अटकलों का दौर शुरू हो गया है, लेकिन उससे पहले भारत-ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड की टीमों को ट्रॉयएंगुलर सीरीज़ में हिस्सा लेना है जहां ना सिर्फ़ इनकी ताक़त का अंदाज़ा होगा बल्कि वर्ल्ड कप से पहले रैंकिंग का फैसला भी हो जाएगा।  

शुक्रवार से ऑस्ट्रेलिया में शुरू होनेवाली ट्राई सीरीज़ वर्ल्ड कप का ड्रेस रिहर्सल तो होगी ही, इस टूर्नामेंट के पहले मैच से ही आईसीसी रैंकिंग की रेस भी शुरू हो जाएगी।

फिलहाल ICC वनडे रैंकिंग लिस्ट में ऑस्ट्रेलिया और भारत दोनों के 117 अंक हैं...लेकिन ऑस्ट्रेलिया रैंकिंग के पायदान पर सबसे आगे अव्वल नंबर पर है।

शुक्रवार को सिडनी में होने वाले मैच में ऑस्ट्रेलिया इंग्लैंड को हराकर इस अंतर को बढ़ाना चाहेगा।

टीम इंडिया टेस्ट सीरीज़ में ऑस्ट्रेलिया के हाथों हुई हार का बदला लेने के इरादे से मैदान पर उतरेगी।

कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी वनडे में अपनी अहमियत का अहसास ज़रूर करवाना चाहेंगे, हालांकि वन-डे में उनकी कप्तानी या योग्यता को लेकर कोई सवाल नहीं है लेकिन वनडे में उनके सामने बेहद बड़ा मिशन है।  

टीम इंडिया की मुश्किलें कम नहीं हैं, फिर भी बड़ी बात ये है कि डिफेंडिंग चैंपियन टीम इंडिया ख़िताब की मज़बूत दावेदार मानी जा रही है। इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया में लगातार खेलने की वजह से टीम के कई खिलाड़ियों पर वर्ल्ड कप के दौरान थकान का असर नहीं हो इसके लिए टीम इंडिया को संतुलन बनाकर खेलने की ज़रूरत होगी।

टेस्ट के नतीजे से वनडे के नतीजे को आंकने की गलती जानकार नहीं कर रहे हैं, और आंकड़ों की माने तो किसी एक टीम का पलड़ा भी भारी नहीं माना जा रहा है।

आंकड़ों के मुताबिक : पिछले साल टीम इंडिया ने 24 वनडे मैच खेले जिसमें उन्हें 14 में जीत मिली, 8 में टीम को हार का सामना करना पड़ा और 1 मैच टाई रहा। यानि पिछले साल टीम इंडिया ने

58.3 फ़ीसदी मैच जीते, जबकि ऑस्ट्रेलियाई टीम ने 18 मैच खेले जिसमें 13 में उन्हें जीत मिली और 5 मैच में उन्हें हार का सामना करना पड़ा। यानि पिछले साल ऑस्ट्रेलियाई टीम 72.2 फ़ीसदी मैच  ही जीत पाई।

वर्ल्ड कप के बाद (यानी 2 अप्रैल 2011 के बाद) से टीम इंडिया ने 95 वनडे खेले जिसमें 57 में भारत को जीत मिली जबकि 31 में हार मिली और 3 मैच टाई रहे, 4 मैचों का नतीजा नहीं निकल पाया।

इस दौरान टीम इंडिया ने 60 फ़ीसदी मैच जीते....इसी दौरान ऑस्ट्रेलियाई टीम ने 78 में से 44 मैचों में जीत हासिल की और 28 में उसे हार का सामना करना पड़ा, 1 मैच टाई रहा और 5 का नतीजा नहीं निकल पाया...यानि इस दौरान ऑस्ट्रेलिया ने भारत से क़रीब चार फीसदी कम 56.4 फ़ीसदी मैच जीते।  

यानि आंकड़ों के लिहाज़ से भी दोनों टीमों में कांटे की टक्कर रही है। ट्राई सीरीज़ में भारत ऑस्ट्रेलिया की टीमें लीग स्तर पर दो बार टकराएंगी और वर्ल्ड कप में मनोबल के लिहाज़ से इन दोनों मैचों की अहमियत बहुत ज़्यादा होगी, ज़ाहिर है इस ये भी परख हो जाएगी की डिफेंडिंग चैंपियन टीम इंडिया वर्ल्ड कप के लिए कितनी तैयार हो गई है।
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement