NDTV Khabar

बॉलिंग कोच जहीर खान की मौजूदगी के बावजूद अपने इस पूर्व सहयोगी की वापसी के लिए अड़ सकते हैं रवि शास्‍त्री...

आंध्रप्रदेश के 54 वर्षीय भरत अरुण ने 80 के दशक में भारत की ओर से दो टेस्‍ट और चार वनडे मैच खेले हैं.

320 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बॉलिंग कोच जहीर खान की मौजूदगी के बावजूद अपने इस पूर्व सहयोगी की वापसी के लिए अड़ सकते हैं रवि शास्‍त्री...

सूत्रों के अनुसार, भरत अरुण गेंदबाजी कोच के तौर पर रवि शास्‍त्री की पहली पसंद थे (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. जहीर 100 दिन से अधिक समय के लिए उपलब्‍ध नहीं रहेंगे
  2. गेंदबाजी कोच के रूप में अरुण ही थे शास्‍त्री की पसंद
  3. 2014 में भरत अरुण टीम इंडिया के बॉलिंग कोच थे
नई दिल्ली: टीम इंडिया के नव नियुक्त कोच रवि शास्त्री अपने सहयोगी स्टाफ में जहीर खान की मौजूदगी के बावजूद भरत अरुण की गेंदबाजी कोच के रूप में वापसी करने के लिये कह सकते हैं. आंध्रप्रदेश के 54 वर्षीय भरत अरुण ने 80 के दशक में भारत की ओर से दो टेस्‍ट और चार वनडे मैच खेले हैं.  भरत अरुण ने वर्ष 1986 में श्रीलंका के खिलाफ अपने करियर का आगाज किया था. जानकारी के अनुसार, गेंदबाजी कोच के लिये शास्त्री की पसंद भरत अरुण ही थे. अब यह साफ हो गया है कि क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) ने गेंदबाजी कोच के लिए जहीर के नाम की सिफारिश करते समय शास्त्री को विश्वास में नहीं लिया हालांकि उनकी भूमिका भी राहुल द्रविड़ जैसी ही सलाहकार की होगी.

पता चला है कि जहीर पूरे 250 दिन का समय नहीं दे पाएंगे जो कि एक पूर्णकालिक कोच के लिए जरूरी है. वह 100 दिन से अधिक समय के लिये उपलब्ध नहीं रहेंगे. यही नहीं, जहीर का वेतन का पैकेज अभी तय नहीं किया गया है और इस पर बातचीत चल रही है. इससे पहले शास्त्री से जब गेंदबाजी कोच के रूप में उनकी पसंद पूछी गई तो उन्होंने अरुण का नाम लिया लेकिन सीएसी का एक खास सदस्य इसके खिलाफ था. शास्त्री ने इसके बाद कहा, ‘फिर मुझे जैसन गिलेस्पी दे दो.’ गिलेस्पी को अभी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी कोच माना जाता है. तेजतर्रार क्रिकेटर शास्त्री समझते थे कि बीसीसीआई गिलेस्पी जैसे कोच को नहीं ले सकता जिनसे पहले ही पापुआ न्यूगिनी ने अनुबंध कर रखा है.

वीडियो

टिप्पणियां
बीसीसीआई ने वेंकेटेश प्रसाद का नाम भी स्टैंड बाई के रूप में रखा है लेकिन लगता है कि अरुण के अलावा किसी अन्य के नाम पर शास्त्री सहमत नहीं होंगे. प्रसाद को हो सकता है कि भारतीय टीम में पसंद नहीं किया जाए क्योंकि अपने पूर्व के कार्यकाल के दौरान उनको लेकर शिकायत थी कि उन्होंने तेज गेंदबाजों को लाइन-लेंथ वाले मध्यम गति के गेंदबाजों में बदल दिया.बीसीसीआई के विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार शास्त्री इस सप्ताहांत शीर्ष अधिकारियों और प्रशासकों की समिति (सीओए) से मिल सकते हैं. बीसीसीआई सूत्रों ने गोपनीयता की शर्त पर पीटीआई से कहा, ‘रवि हालांकि जहीर का पूरा सम्मान करते हैं लेकिन उनका मानना है कि पूर्णकालिक गेंदबाजी कोच का होना जरूरी है. जहीर गेंदबाजों के लिये रोडमैप तैयार कर सकते हैं और अरुण उसे लागू करेंगे. रवि शनिवार को सीओए से बात कर सकते हैं और यह साफ कर सकते हैं कि उन्हें श्रीलंका दौरे के लिए भी टीम में अरुण चाहिए. ’ अगर शास्त्री टीम में अरुण को लाने में सफल रहते हैं तो इससे वह अपने धुर विरोधी रहे सौरव गांगुली से भी बदला ले लेंगे जो उनको रखने के खिलाफ थे. अरुण को 2014 में जो डावेस की जगह गेंदबाजी कोच बनाया गया था और वह 2016 में शास्त्री को बाहर किये जाने तक टीम के साथ थे.

भरत अरुण का खिलाड़ी के रूप में करियर भले ही अच्छा नहीं रहा हो लेकिन उन्हें हमेशा बेहतरीन अकादमी कोच माना जाता रहा है और तेज गेंदबाजी से जुड़ी चीजों पर उनकी अच्छी पकड़ है. अरुण और शास्त्री दोनों ही अस्सी के दशक के शुरुआती वर्षों में अंडर-19 के दिनों से दोस्त हैं. शास्त्री की सिफारिश पर ही तत्कालीन अध्यक्ष एन श्रीनिवासन ने अरुण को सीनियर टीम का गेंदबाजी कोच नियुक्त किया था. तब वह राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में गेंदबाजी सलाहकार थे. (भाषा से इनपुट)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement