मैन ऑफ द मैच रवींद्र जडेजा ने मोहाली में दिखाई थी 'तलवारबाजी', विराट-कुंबले हंसी नहीं रोक पाए, देखें वीडियो...

मैन ऑफ द मैच रवींद्र जडेजा ने मोहाली में दिखाई थी 'तलवारबाजी', विराट-कुंबले हंसी नहीं रोक पाए, देखें वीडियो...

रवींद्र जडेजा ने मोहाली से पहले कानपुर टेस्ट में भी ऐसा ही जश्न मनाया था...

खास बातें

  • रवींद्र जडेजा ने मोहाली में करियर की तीसरी टेस्ट फिफ्टी लगाई है
  • न्यूजीलैंड के खिलाफ कानपुर में भी कुछ ऐसा ही जश्न मनाया था
  • जडेजा ने अश्विन के साथ मोहाली में 97 रनों की अहम साझेदारी की
नई दिल्ली:

मोहाली टेस्ट में ऑलराउंड प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच का खिताब पाने वाले 'सर' रवींद्र जडेजा आमतौर पर गेंद से कमाल करते देखे जाते हैं. टीम इंडिया में 'सर' के नाम से चर्चित रवींद्र जडेजा ने मोहाली टेस्ट में सोमवार को बल्ले से भी कमाल किया था और दोनों पारियों में 4 विकेट चटकाए. आप उनके बल्ले की खामोशी को इसे से समझ सकते हैं कि उन्होंने टीम इंडिया की ओर से इससे पहले 22 टेस्ट मैच खेले थे और महज दो फिफ्टी ही लगा पाए थे. ऐसे में उन्होंने जब मोहाली में करियर की तीसरी फिफ्टी और करियर का सबसे बड़ा टेस्ट स्कोर (90 रन) बनाया, तो जश्न तो बनता ही था और उन्होंने कुछ ऐसा ही किया. उनके इस अंदाज को देखकर कोच अनिल कुंबले और कप्तान विराट कोहली भी हंसने को मजबूर हो गए. वैसे भी दोनों के लिए जडेजा की यह पारी राहत लेकर आई, क्योंकि इसी वजह से टीम इंडिया की बढ़त उनके आउट होने के समय 100 के करीब पहुंच गई, जबकि एक समय टीम के पीछे रह जाने का खतरा मंडरा रहा था. बीसीसीआई ने उनके अनूठे जश्न का वीडियो भी सोशल मीडिया पर पोस्ट किया... आप भी नीचे देखिए जडेजा का यह अनूठा अंदाज...

टीम इंडिया का 100वां ओवर, जडेजा की फिफ्टी, जश्न शुरू...
टीम इंडिया अगर इंग्लैंड पर पहली पारी में बढ़त ले पाई, तो केवल आर अश्विन के 72 रन और रवींद्र जडेजा की फिफ्टी की वजह से. जडेजा ने पहले अश्विन के साथ 97 रनों की साझेदारी करके टीम इंडिया के स्कोर को इंग्लैंड के स्कोर 283 रन के पार पहुंचाया, फिर नवोदित जयंत यदाव के साथ लंच से पहले 50 से अधिक रन जोड़ते हुए टीम इंडिया के 100 ओवर में करियर की तीसरी फिफ्टी पूरी की और बढ़त को 50 के पार पहुंचा दिया. यह उनके करियर का बेस्ट स्कोर भी रहा. इसके लिए उन्होंने 104 गेंदें खेलीं और 6 चौके व एक छक्का लगाया. फिर क्या था उन्होंने एक बार फिर मैदान पर तलवारबाजी दिखाई. इससे पहले वह न्यूजीलैंड के खिलाफ भी ऐसा कर चुके हैं... अंत में वह शतक से चूक गए और 90 रन पर आउट हो गए, जिसमें 10 चौके और एक छक्का लगाया.

पहले कलाई से, फिर बल्ले से तलवारबाजी का नजारा
रवींद्र जडेजा ने मोहाली में फिफ्टी का जश्न पहले दाएं हाथ की कलाई को तलवार के अंदाज में घुमाकर मानाय, फिर बल्ले को तलवार की तरह भांजने लगे. वैसे भी तलवारबाजी के शौकीन रवींद्र जडेजा इसका प्रदर्शन करने से कहीं नहीं चूकते. फिर चाहे वह शादी का माहौल हो या क्रिकेट के मैदान पर रन बनाने का जश्न. हां, यह बात अलग है कि मैदान पर उनका बल्ला ही तलवार बन जाता है.

बीसीसीआई ने मोहाली टेस्ट का यह वीडियो शेयर किया..


कानपुर में विराट ने बुलाया, तब रुके...
जडेजा इसका प्रदर्शन न्यूजीलैंड के खिलाफ कानपुर टेस्ट में भी कर चुके हैं. कानुपर में उन्होंने 58 गेंदों में फिफ्टी (3 छक्के, 2 चौके) पूरी की, तो सेलिब्रेशन के दौरान बल्ले को ऐसे घुमाने लगे, जैसे तलवार चला रहे हों. उसी समय कप्तान विराट कोहली ने पारी घोषित कर दी और रोहित शर्मा और जडेजा का वापस लौटने का इशारा किया, लेकिन जडेजा कहां रुकने वाले थे, उन्होंने अपना सेलिब्रेशन जारी रखा और बल्ले को तलवार की तरह भांजते रहे. विराट ने जब देखा कि जडेजा तो रुक ही नहीं रहे, तो फिर उन्होंने मुस्कराते हुए खुद भी‘तलवार’ घुमाना का इशारा करके उसे बंद करने और वापस आने का संकेत दिया. तब कहीं जडेजा ने अपना एक्शन बंद किया और वापस लौटे.

शादी के दौरान भी की थी तलवारबाजी
राजकोट में मंगेतर रीवा सोलंकी के साथ रवींद्र जडेजा ने अप्रैल में शादी की थी. इस अवसर पर उन्होंने संगीत समारोह के दौरान तलवारबाजी में भी हाथ आजमाया था और अपनी इस कला का प्रदर्शन किया था. देखें वीडियो 

 

रीवा राजकोट के एक बिज़नेसमैन हरदेव सिंह सोलंकी की बेटी हैं। रीवा ने आत्मीय इंस्टीट्यूट से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है. विवाह समारोह के दौरान जश्न में गोली चलाने के मामले में प्राथमिकी भी दर्ज की गई थी. कहा गया था कि उनके किसी रिश्तेदार ने गोलियां चलाई हैं.

घुड़सवारी का भी है शौक
रवींद्र जडेजा को घुड़सवारी का भी शौक है. वह अपने घोड़ों से इस कदर प्यार करते हैं कि टीम इंडिया से बाहर कर दिए जाने के दौरान न तो बैट को हाथ लगाया और न ही बॉल को, बल्कि उन्होंने अपना सारा समय दोस्तों और घोड़ों के साथ बिताया था. उन्होंने कहा था कि इससे उनमें आत्मविश्वास आया और इसी वजह से वे रणजी में अच्छा प्रदर्शन कर सके और वापसी संभव हुई.

 
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com