Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Sachin Tendulkar का खुलासा, वनडे में ओपनिंग के लिए करना पड़ा था 'ऐसा', फैंस को दिया संदेश..

Sachin Tendulkar का खुलासा, वनडे में ओपनिंग के लिए करना पड़ा था 'ऐसा', फैंस को दिया संदेश..

Sachin Tendulkar ने फैंस को संदेश देते हुए कहा, कभी भी जोखिम लेने से डरो मत (फाइल फोटो)

खास बातें

  • कहा-ओपनिंग का मौका देने की विनती करनी पड़ी थी
  • एक वीडियो शेयर करते हुए उन क्षणों को किया याद
  • फैंस से बोले, नाकामी से डर से जोखिम लेने से मत डरिये
नई दिल्ली:

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के लिए वनडे मैचों में भारतीय पारी की शुरुआत करना क्रिकेट करियर के लिहाज से 'टर्निंग प्वाइंट' साबित हुआ था. हालांकि महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के लिए पारी की शुरुआत करना आसान नहीं रहा था. उन्होंने बताया है कि 1994 में न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे में भारत के लिये पारी का आगाज (Open the innings in ODI) करने के लिये उन्हें मान- मनुहार और विनती करनी पड़ी थी. तेंदुलकर के लिये मध्यक्रम बल्लेबाजी से हटकर पारी का आगाज करने का कदम ‘मास्टरस्ट्रोक' साबित हुआ था जिससे वह 50 ओवर के प्रारूप में विश्व रिकॉर्ड 49 शतक जड़ने में कामयाब रहे थे.

विराट कोहली बोले, 'सचिन तेंदुलकर हमेशा मेरे लिए प्रेरणा रहे, उनके जैसा बनना चाहता था'

लिंकडिन पर एक वीडियो साझा करते हुए तेंदुलकर (Sachin Tendulkar)ने आकलैंड में न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे के दौरान हुए क्षणों को याद किया. उन्होंने कहा, ‘1994 में जब मैंने भारत के लिए बल्लेबाजी का आगाज किया था तो सभी टीमों की रणनीति विकेट बचाये रखने की होती थी. इस लिहाज से मैंने थोड़ा हटकर करने की कोशिश की.' तेंदुलकर ने कहा, ‘‘मैंने सोचा कि मैं आगे बढ़कर प्रतिद्वंद्वी गेंदबाजों से डटकर सामना कर सकता हूं. लेकिन मुझे विनती करनी पड़ी कि प्लीज,  मुझे मौका दो. अगर मैं विफल रहूंगा तो मैं फिर आपके पास नहीं आऊंगा.'

अपने उस कदम को उदाहरण के तौर पर इस्तेमाल करते हुए पूर्व बल्लेबाज तेंदुलकर (Sachin Tendulkar)ने अपने प्रशंसकों से आग्रह किया कि विफलता के डर से जोखिम लेने से डरो मत. 46 वर्ष के तेंदुलकर ने कहा, ‘न्यूजीलैंड के खिलाफ ऑकलैंड में पहले मैच में मैंने 49 गेंद में 82 रन बनाये इसलिये मुझे दोबारा नहीं पूछना पड़ा कि मुझे दूसरा मौका मिलेगा या नहीं. वे चाहते थे कि मैं पारी का आगाज करूं लेकिन मैं यह कहने की कोशिश कर रहा हूं कि असफलता से डरो मत.'मध्यक्रम के बाद पारी का आगाज करने पर उन्होंने सितंबर 1994 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कोलंबो में अपना पहला वनडे शतक जड़ा था.

वीडियो: विराट कोहली ने रोहित शर्मा के साथ मतभेद से किया इनकार



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)