NDTV Khabar

प्रदीप कुमार की कलम से : कुमार संगाकारा नहीं, रन मशीन कहिए जनाब

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
प्रदीप कुमार की कलम से : कुमार संगाकारा नहीं, रन मशीन कहिए जनाब
नई दिल्ली: श्रीलंका के कुमार संगाकारा ने टेस्ट क्रिकेट मैचों में 12 हजार रन के आंकड़े को पार कर लिया। वेलिंगटन के बेसिन रिजर्व टेस्ट मैच में न्यूजीलैंड के खिलाफ संगाकारा ने जैसे ही पांच रन पूरे किए, उन्होंने 12 हजार टेस्ट रन पूरे कर लिए।

सचिन तेंदुलकर, रिकी पॉन्टिंग, जैक कैलिस और राहुल द्रविड़ के बाद वह इस मुकाम तक पहुंचने वाले पांचवें बल्लेबाज़ हैं, लेकिन इन चारों बल्लेबाज़ों के मुकाबले कुमार संगाकारा का प्रदर्शन कहीं ज्यादा जोरदार है। उन्होंने सबसे कम पारियों में 12 हजार रन पूरे किए हैं।

संगाकारा ने 130वें टेस्ट की 224वीं पारी में ये मुकाम बनाया है। यहां तक पहुंचने के लिए सचिन तेंदुलकर और रिकी पॉन्टिंग को 247-247 पारियां खेलनी पड़ी थीं, जबकि जैक कैलिस 249वीं टेस्ट पारी में इस मुकाम तक पहुंचे और भारतीय क्रिकेट की दीवार राहुल द्रविड़ को तो 255 टेस्ट पारियां खेलनी पड़ीं।

12 हजार रन के सफर में संगाकारा ने 37 शतक बनाए हैं। शतकों के मामले में वह तेंदुलकर और जैक कैलिस से भले पीछे हों, लेकिन औसत के मामले में उनसे कहीं आगे हैं।

अगर इन रिकॉर्ड में संगाकारा के 177 टेस्ट कैच और 20 स्टंपिंग को जोड़ दिया जाए तो कुमार संगाकारा एक मुकम्मल ऑलराउंडर नज़र आते हैं।

इतना ही नहीं संगाकारा ने 390 वनडे मैचों में 40 से ज्यादा की औसत से 13,372 रन बनाए हैं। इसमें 20 शतक शामिल हैं। वहीं विकेटकीपर के तौर पर संगाकारा ने वनडे में 389 कैच लपके हैं और 93 स्टंप किए हैं।

दरअसल, बीते पंद्रह साल से कुमार संगाकार श्रीलंकाई क्रिकेट का सबसे भरोसेमंद चेहरा बनकर उभरे हैं। बढ़ती उम्र का उन पर कोई असर नहीं दिख रहा है।

संगाकारा 37 को पार कर चुके हैं, लेकिन इस उम्र में भी वे रन मशीन बने हुए हैं। 2014 में टेस्ट क्रिकेट ही नहीं वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन उनके बल्ले से ही निकले।

2014 में संगाकारा ने 12 टेस्ट मैचों में 71 से ज्यादा की औसत से 1493 रन बनाए, जबकि 28 वनडे में उन्होंने करीब 47 की औसत से 1256 रन बनाए। पूरे साल संगाकारा से ज्यादा न तो टेस्ट में और न ही वनडे में किसी दूसरे बल्लेबाज ने रन बनाए।

संगाकारा को करीब से जानने वाले जानते हैं कि जितना बेहतरीन क्रिकेटर हैं, उतना ही दिमागी तौर पर तीक्ष्ण बुद्धि के हैं। यही वजह है कि वे गेंदबाजों की धुनाई करने से पहले उसे अपने दिमाग से ही हरा देते हैं।

बढ़ती उम्र और लगातार क्रिकेट के दबाव को देखते हुए, संगाकारा ने वनडे क्रिकेट से संन्यास लेने का मन बनाया है, वह वर्ल्ड कप 2015 के बाद संन्यास ले सकते हैं, लेकिन टेस्ट क्रिकेट में उनका सफ़र अभी जारी रहेगा।

संगाकारा को टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन के सचिन तेंदुलकर को रिकॉर्ड को पछाड़ने के लिए करीब चार हजार रन बनाने हैं। वह जिस रफ्तार से खेल रहे हैं, अगर उस रफ्तार को वह कायम रख पाए तो अगले तीन साल में वह सचिन तेंदुलकर के सर्वाधिक टेस्ट रनों का रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं।


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement