संजय बांगर की चयनकर्ता देवांग गांधी के साथ कथित बदसलूकी के मुद्दे पर BCCI ने कही यह बात..

संजय बांगर की चयनकर्ता देवांग गांधी के साथ कथित बदसलूकी के मुद्दे पर BCCI ने कही यह बात..

BCCI ने कहा है, हम संजय बांगर से तभी पूछताछ करेंगे जब मैनेजर या कोच इस बारे में शिकायत करें

खास बातें

  • कहा, मैनेजर या कोच की रिपोर्ट पर ही करेंगे बांगर से पूछताछ
  • पहले उस चयनकर्ता को आधिकारिक शिकायत दर्ज करनी होगी
  • मीडिया की खबरों के अनुसार, बांगर ने की थी देवांग गांधी से बहस
नई दिल्ली:

Sanjay Bangar: राष्ट्रीय चयनकर्ता देवांग गांधी (Devang Gandhi) के साथ कथित तौर पर बदसलूकी के आरोपों पर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) भारत के 'बर्खास्त' बल्लेबाजी कोच संजय बांगर (Sanjay Bangar)से तभी पूछताछ करेगी जब निवर्तमान प्रशासनिक प्रबंधक सुनील सुब्रहमण्यम (Sunil Subramanian) या मुख्य कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) इस मसले पर आधिकारिक रिपोर्ट दाखिल करें. ऐसी खबरें हैं कि बांगर (Sanjay Bangar) ने हाल ही में वेस्टइंडीज दौरे पर गांधी से उनके होटल के कमरे में तीखी बहस की.

हैट्रिक को लेकर हरभजन ने एडम गिलक्रिस्ट को दी नसीहत, कहा 'रोना बंद करें'

बोर्ड के एक अधिकारी ने से कहा ,‘इन हालात में नियमों का कड़ाई से पालन करना होगा. सबसे पहले तो बांगर (Sanjay Bangar) ने कथित तौर पर जिनके साथ बदसलूकी की है, उन राष्ट्रीय चयनकर्ता गांधी को आधिकारिक शिकायत दर्ज करनी होगी.'सहयोगी स्टाफ की नियुक्ति की प्रभारी राष्ट्रीय चयन समिति होती है. सहयोगी स्टाफ में से सिर्फ बांगर को ही हटाया गया जबकि भरत अरुण (गेंदबाजी कोच) और आर. श्रीधर (क्षेत्ररक्षण कोच) को पद पर बरकरार रखा गया है. बीसीसीआई अधिकारियों ने गांधी और बांगर की झड़प की पुष्टि की लेकिन उन्हें नहीं लगता कि मामला और आगे बढ़ेगा क्योंकि अब बांगर का बीसीसीआई से करार नहीं है.

SL vs NZ T20: बाउंड्री पर टकराए श्रीलंका के दो खिलाड़ी, आखिरी ओवर में न्यूजीलैंड को मिल गया छक्का

इस अधिकारी ने कहा,‘निवर्तमान प्रशासनिक प्रबंधन सुब्रहमण्यम को अपनी रिपोर्ट में इस घटना का उल्लेख करना होगा. इसके अलावा मुख्य कोच रवि शास्त्री को भी लिखित में देना होगा कि ऐसी कोई घटना हुई है.'उन्होंने कहा,‘यदि ऐसा नहीं होता है तो सीओए के सामने इसे रखने का सवाल ही नहीं होता.'उन्होंने कहा,‘बर्खास्त होने पर किसी का भी निराश होना स्वाभाविक है. लेकिन उसे ऐसा क्यो लगा कि उसके कार्यकाल को बढ़ाया ही जाएगा. शास्त्री, अरुण और श्रीधर का प्रदर्शन अच्छा था तो उन्हें बरकरार रखा गया. बांगर (Sanjay Bangar) का प्रदर्शन खराब था तो उसे हटाया गया.'अधिकारी ने कहा,‘बांगर को गांधी से सवाल पूछने ही नहीं चाहिये थे. उन पर चिल्लाने का कोई औचित्य नहीं था.'

वीडियो: वीरेंद्र सहवाग से एनडीटीवी की खास बातचीत..



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com