NDTV Khabar

विदर्भ की रणजी ट्रॉफी जीत में 'मुंबई के योगदान' का जिक्र कर फंसे संजय मांजरेकर, ट्विटर पर हुए ट्रोल

विदर्भ की टीम पहली बार रणजी ट्रॉफी चैंपियन बनने के बाद हर किसी की प्रशंसा हासिल कर रही है. टीम ने अपने प्रदर्शन से हर किसी को चौंकाते हुए इंदौर में हुए फाइनल मुकाबले में प्रबल दावेदार मानी जा रही दिल्‍ली की टीम को हराया.

41 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
विदर्भ की रणजी ट्रॉफी जीत में 'मुंबई के योगदान' का जिक्र कर फंसे संजय मांजरेकर, ट्विटर पर हुए ट्रोल

संजय मांजरेकर ने टीम इंडिया की ओर से 37 टेस्‍ट और 74 वनडे मैच खेले हैं (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. पहली बार रणजी ट्रॉफी चैंपियन बनी है विदर्भ की टीम
  2. टीम ने फाइनल में दिल्‍ली को पराजित किया है
  3. मांजरेकर ने पंडित, जाफर को योगदान का किया था जिक्र
नई दिल्‍ली: विदर्भ की टीम पहली बार रणजी ट्रॉफी चैंपियन बनने के बाद हर किसी की प्रशंसा हासिल कर रही है. टीम ने अपने प्रदर्शन से हर किसी को चौंकाते हुए इंदौर में हुए फाइनल मुकाबले में  प्रबल दावेदार मानी जा रही दिल्‍ली की टीम को हराया. टीम ने प्रतियोगिता में अपने अभियान के दौरान कर्नाटक, बंगाल और पंजाब जैसी टीमों को शिकस्‍त दी. जबर्दस्‍त प्रदर्शन के कारण विदर्भ की टीम की हर तरफ हो रही वाहवाही के बीच पूर्व क्रिकेटर संजय मांजरेकर अपने एक ट्वीट के कारण ट्रोलर्स के निशाने पर आ गए. दरअसल विदर्भ की जीत का जिक्र करते हुए टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर मांजरेकर ने इसमें मुंबई के दो दिग्‍गजों की योगदान के बारे में बात कर दी. मुंबई की ओर से खेल चुके मांजरेकर का यह कमेंट सोशल मीडिया पर लोगों को पसंद नहीं आया. लोगों ने इसके लिए उन्‍हें जमकर आड़े हाथ लिया. मांजरेकर ने अपने ट्वीट में लिखा था, 'विदर्भ ने इस बात का जिक्र नहीं किया. स्‍क्‍वॉड में मुंबई के दो दिग्‍गजों, आपका स्‍वागत है.' दरअसल मांजरेकर का आशय मुंबई के पूर्व क्रिकेटर और वर्तमान में टीम के कोच चंद्रकात पंडित और इसी टीम के वसीम जाफर से थे. पंडित और जाफर, दोनों ही पूर्व में मुंबई की ओर से खेल चुके हैं. विदर्भ टीम के साथ पंडित इस समय कोच और जाफर बल्‍लेबाज के रूप में जुड़े हुए हैं. पंडित मुंबई के कोच की जिम्‍मेदारी भी संभाल चुके हैं. मांजरेकर की इस टिप्‍पणी पर नाराजगी जताते हुए कई लोगों ने ट्वीट किए.


एक यूजर ने लिखा, 'ये दोनों आप ही की तरह प्रोफेशनल्‍स हैं. यह दिखाता है कि मुंबई ने अपने टेलेंट मैनेजमेंट स्किल को गंवा दिया जिसे विदर्भ ने हासिल किया. आशा हैं आप मेरी बात समझ गए होंगे.'

वीडियो: पूर्व तेज गेंदबाज आशीष नेहरा से खास बातचीत
एक अन्‍य शख्‍स ने लिखा, मुंबई की ओर से चंद्रकांत पंडित को हटाना हास्‍यास्‍पद था. वैसे, विदर्भ को इस पर कोई ऐतराज नहीं होगा. एक अन्‍य यूजर ने लिखा, ट्रोलर्स को आमंत्रित करने का यह अच्‍छा तरीका है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement