NDTV Khabar

नंबर चार पर बल्‍लेबाजी में टीम इंडिया के किस खिलाड़ी का चलेगा जादू?

पुणे वनडे में दिनेश कार्तिक का नंबर 4 पर आकर एक चैंपियन की तरह खेलना भारतीय फैंस के लिए अच्छी ख़बर है. दिनेश कार्तिक ने पुणे में 92 गेंदों पर नाबाद 64 रन बनाए.

190 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
नंबर चार पर बल्‍लेबाजी में टीम इंडिया के किस खिलाड़ी का चलेगा जादू?

नंबर चार के लिहाज से एमएस धोनी अभी भी टीम इंडिया के सबसे सफल बल्‍लेबाज हैं (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. पुणे वनडे में दिनेश कार्तिक ने नाबाद 64 रन बनाए
  2. नंबर चार पर उनका यह प्रदर्शन अच्‍छी खबर
  3. इस क्रम पर अब तक आजमाए जा चुके कई खिलाड़ी
नई दिल्‍ली: पुणे वनडे में दिनेश कार्तिक का भारतीय टीम के लिए नंबर 4 पर आकर एक चैंपियन की तरह खेलना भारतीय फैंस के लिए अच्छी ख़बर है. दिनेश कार्तिक ने पुणे में 92 गेंदों पर नाबाद 64 रन बनाए. टीम मैनेजमेंट और कप्तान विराट कोहली इसे एक अच्छी मुश्किल की तरह देख सकते हैं. क्योंकि, नंबर 4 पर एक साथ कई विकल्प आ गए हैं. ये और बात है कि नंबर 4 पर किसी स्टार की जगह अब तक पक्की नहीं कही जा सकती. लक्ष्मण सहित कई दिग्गजों ने नंबर 4 पर टीम इंडिया के प्रयोग को लेकर सवाल उठाए हैं. पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण कहते हैं, "केदार जाधव चौथे नंबर पर नहीं आए तोमुझे बहुत हैरानी हुई. ऑस्ट्रेलिया सीरीज़ से ही ऐसा देखने को मिल रहा है. पहले मनीष पांडे के साथ ऐसा हुआ और अब केदार जाधव के साथ. अगर जाधव ने मुंबई में जैसा शॉट खेला उसकी वजह से ये फ़ैसला लिया गया है तो मुझे हैरानी होती है. इससे कंफ़्यूज़न और असुरक्षा की भावना बढ़ रही है जो टीम के लिए सही नहीं है. दिनेश कार्तिक की ज़रूर तारीफ़ करनी होगी कि उन्हें मौक़ा मिला और उन्होंने उसे अच्छी तरह भुनाया." पुणे में 231 के लक्ष्य का पीछा करते हुए विराट कोहली 29 के स्कोर पर आउट हुए तो इस बार चौथे नंबर पर केदार जाधव की जगह दिनेश कार्तिक को मौक़ा मिला. कार्तिक ने 92 गेंदों की पारी में 4 चौके के सहारे 69.56 का स्ट्राइक रेट रखते हुए एक अच्छी पारी खेली. टीम को जीत हासिल करवाई और अपना आत्मविश्वास भी बढ़ा लिया. कार्तिक कहते हैं, "अब तक सब ठीक रहा है. मानसिक रूप से अभी कई पहलुओं पर काम करना है. मैं नहीं कह सकता कि मैं कैसा महसूस कर रहा हूं. लेकिन मैंने ज़रूरत के वक्त अच्छे रन बनाये. मैं आगे भी आत्मविश्वास हासिल कर और रन बनाने और मैच में दिलाने की कोशिश करता रहूंगा."
विराट खुश हैं कि नंबर 4 पर उनका प्रयोग कामयाब रहा. विराट कहते हैं. "दिनेश ने अहम मौक़े पर अच्छा प्रदर्शन किया. ये उनके और टीम दोनों के लिए बहुत अच्छा है." कई जानकार ख़ासकर नंबर 4 पर इतने ज़्यादा प्रयोग सही नहीं मानते. नंबर 4 पर एमएस धोनी सहित मनीष पांडे, केदार जाधव, केएल राहुल और हार्दिक पांड्या जैसे खिलाड़ी आज़माये जा चुके हैं. इन धोनी का निजी औसत नंबर 4 पर उनके अपने करियर औसत से बेहतर रहा है. मनीष पांडे भी नंबर 4 पर अपना जौहर दिखा चुके हैं. केदार जाधव को ज़्यादा मौक़े नहीं मिल पाये. जबकि, केएल राहुल को लेकर विराट कह चुके हैं कि वे  उन्‍हें नंबर 4 पर अब और नहीं आज़माना चाहते. हार्दिक पांड्या और दिनेश कार्तिक नंबर 4 के नये स्टार बनकर उभर रहे हैं.
 
आंकड़ों में नंबर 4 के स्टार
----------------------------------------

एमएस धोनी
                        मैच -रन- औसत-शतक
नंबर 4 पर प्रदर्शन:   26 -1223- 58.23- 1
वनडे मैचों में प्रदर्शन: 308 - 9801 - 51.85 - 11
--------------
             
मनीष पांडे
                        मैच -रन- औसत- शतक
नंबर 4 पर प्रदर्शन:  8 -183- 36.60- 1  
वनडे मैचों में प्रदर्शन: 19 - 430- 43.0- 1
--------------

केदार जाधव
                          मैच -रन- औसत- शतक
नंबर 4 पर प्रदर्शन: 3 -18- 9.0- 0   
वनडे में प्रदर्शन:  36 - 779-  43.27-    2
--------------
 
केएल राहुल
                            मैच -रन- औसत- शतक
नंबर 4 पर प्रदर्शन: 2 -17- 17 - 0   
वनडे में प्रदर्शन:  10 - 248- 35.42- 1
--------------

हार्दिक पांड्या
                         मैच -रन- औसत- शतक
नंबर 4 पर प्रदर्शन: 4 -142-35.5 - 1      
वनडे में प्रदर्शन:  28 - 576- 38.4 -1
--------------

दिनेश कार्तिक
                          मैच -रन- औसत- शतक
नंबर 4 पर प्रदर्शन: 12 - 278-39.71 -3      
वनडे में प्रदर्शन:  75 -1466 - 29.91 -9
--------------
वीडियो: टीम इंडिया के मिडिल ऑर्डर में इतने ज्‍यादा प्रयोग ठीक नहीं
ये आंकड़े नंबर 4 के विकल्प तो देते हैं. पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर तक कहते रहे हैं कि नंबर चार की मुश्किल को ठीक किये जाने की ज़रूरत है. कप्तान विराट कोहली कहते भी रहे हैं कि वे प्रयोग करते रहेंगे. मिशन 2019 वर्ल्ड कप के लिहाज़ से नंबर 4 के लिए कई खिलाड़ियों को तैयार करना एक रणनीति हो सकती है. लेकिन ये रणनीति जितनी जल्दी पुख़्ता हो जाए, टीम के लिए उतना बेहतर होगा.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement