भारत का 500वां टेस्ट : सचिन, गावस्कर और द्रविड़ जो न कर पाए, वह काम सहवाग आसानी से कर गए

भारत का 500वां टेस्ट : सचिन, गावस्कर और द्रविड़ जो न कर पाए, वह काम सहवाग आसानी से कर गए

वीरेंदर सहवाग (फाइल फोटो)

खास बातें

  • सर्वाधिक स्कोर के मामले में तेंदुलकर, द्रविड़ और गावस्कर को पीछे छोड़ा
  • टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज ट्रिपल सेंचुरी बनाने का रिकॉर्ड सहवाग के नाम
  • स्ट्राइक रेट के मामले में तो कोई सहवाग के आस पास भी नहीं
नई दिल्ली:

टीम इंडिया अपना 500वां टेस्ट मैच खेल रही है. टीम इंडिया के मास्टर ब्लास्टर और भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने अपने नाम कई रिकॉर्ड बनाए, सबसे ज्यादा टेस्ट मैच (200) खेलने का रिकॉर्ड, टेस्ट में सबसे ज्यादा 15,921 रन बनाने का रिकॉर्ड, सबसे ज्यादा टेस्ट शतक बनाने का रिकॉर्ड. सिर्फ तेंदुलकर ही नहीं राहुल द्रविड़ और लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर भी टेस्ट क्रिकेट के हीरो कह जाते हैं. गावस्कर ने सबसे पहले टेस्ट क्रिकेट में दस हजार रन पूरे किए. 'दीवार' के नाम से जाने जाने वाले राहुल द्रविड़ ने टेस्ट क्रिकेट में 13,288 रन बनाए हैं और उन्हें भारत के तीसरे बल्लेबाज के रूप में दस हज़ार रन बनाने का गौरव हासिल है.

टेस्ट क्रिकेट में दो बार इस मुकाम तक पहुंचे :
इन तीन खिलाड़ियों ने भारतीय टेस्ट क्रिकेट को एक नई ऊंचाई तक पहुंचाया. लेकिन तीनों जो नहीं कर पाए, वह वीरेंदर सहवाग ने कर दिखाया. वीरेंदर सहवाग ने इन खिलाड़ियों की तरह न टेस्ट क्रिकेट में दस हज़ार रन पूरे किए और न उनका औसत 50 से ज्यादा है. लेकिन इस खिलाड़ी ने ऐसे कुछ रिकॉर्ड अपने नाम किए जो सचिन, गावस्कर, राहुल द्रविड़ और लक्ष्मण जैसे दिग्गज भी नहीं कर पाए. वीरेंदर सहवाग ने टेस्ट क्रिकेट में दो बार ट्रिपल सेंचुरी मारने का गौरव हासिल किया. सहवाग के अलावा भारत का कोई भी खिलाड़ी टेस्ट क्रिकेट में एक पारी में 300 से भी ज्यादा रन नहीं बना पाया है. अगर टेस्ट क्रिकेट में भारत की तरफ से पहले तीन सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर की बात की जाए तो वीरेंदर सहवाग ने ही पहले तीन स्थान पर कब्ज़ा किया है. सहवाग के साथ अगर दूसरे खिलाड़ियों की तुलना की जाए तो वीवीएस लक्ष्मण चौथे स्थान पर हैं.

तेंदुलकर, द्रविड़ और गावस्कर को पीछे छोड़ा :
अगर सचिन तेंदुलकर की बात की जाए तो टेस्ट क्रिकेट में तेंदुलकर का सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर 248 रन है, जो उन्होंने 2004 में बांग्लादेश के खिलाफ बनाया था. इसी तरह टेस्ट क्रिकेट में द्रविड़ का सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर 270 रन है, जबकि गावस्कर का 236 रन. टेस्ट मैचों में सहवाग का सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर 319 रन है जो उन्होंने 2008 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ बनाया था. चेन्नई में खेले गए इस मैच में सहवाग 309 गेंदों का सामना करते हुए 42 चौकों और पांच छक्कों की मदद से इस मुकाम तक पहुंचे थे. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ यह मैच ड्रॉ रहा था. सहवाग का दूसरा सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर 309 रन है, जो उन्होंने 2004 में पाकिस्तान के खिलाफ मुल्तान के मैदान पर बनाया था. अपनी इस पारी में सहवाग ने 39 चौके और छह छक्के लगाए थे. भारत ने इस मैच को पारी और 52 रन से जीत लिया था. सहवाग की इस पारी के लिए उन्हें 'मुल्तान का सुल्तान' कहा जाता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज ट्रिपल सेंचुरी सहवाग ने बनायी :
सहवाग का तीसरा सर्वाधिक स्कोर 293 रन है. 2009 में श्रीलंका के खिलाफ सहवाग ने यह स्कोर बनाया था. सहवाग की इस शानदार पारी की वजह से भारत ने इस मैच को पारी और 24 रन से जीत लिया था. अगर टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज ट्रिपल सेंचुरी की बात किया जाए तो सहवाग दुनिया के सभी बल्लेबाज़ों को पीछे छोड़ते हुए पहले स्थान पर हैं. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ट्रिपल सेंचुरी बनाने के लिए सहवाग ने 278 गेंदों का सामना किया था और यह दुनिया की सबसे तेज ट्रिपल सेंचुरी है. इस मामले ऑस्ट्रेलिया के मैथ्यू हेडन दूसरे स्थान पर हैं. 2003 में हेडन ने ज़िम्बाब्वे के खिलाफ अपनी ट्रिपल सेंचुरी के लिए 362 गेंदों का सहारा लिया था. तीसरे स्थान पर भी सहवाग ने अपना कब्ज़ा जमाया है.

स्ट्राइक रेट में सहवाग सबसे आगे :
एक और मामले में भी सहवाग ने तेंदुलकर, लक्ष्मण, द्रविड़ और गावस्कर को पीछे छोड़ा है और वह है स्ट्राइक रेट. टेस्ट क्रिकेट में सहवाग ने सबसे ज्यादा स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं. टेस्ट क्रिकेट में सहवाग का स्ट्राइक रेट 82 के करीब है और टेस्ट क्रिकेट में यह शानदार स्ट्राइक रेट है. स्ट्राइक रेट के मामले में भारत के कोई भी बड़े बल्लेबाज सहवाग के आसपास नहीं हैं. टेस्ट मैचों में सचिन तेंदुलकर का स्ट्राइक रेट 54 के करीब है, जबकि राहुल द्रविड़ का 43 के करीब. अगर लक्ष्मण की बात किया जाए तो टेस्ट क्रिकेट में उनका स्ट्राइक रेट 49 की करीब है. सहवाग ने अपने पहले टेस्ट मैच की पहली पारी शतक भी मारा है जो भारत की तरफ से कम ही खिलाड़ी कर पाए हैं.