शाहिद अफरीदी ने मो. हफीज का किया समर्थन, स्‍पॉट फिक्सिंग मामले को लेकर कह दी इतनी बड़ी बात...

Spot-fixing: शाहिद अफरीदी ने कहा, 'मुझे लगता है कि यदि ऐसे उदाहरण (लाइफ बैन करने जैसे) पहले पेश किए जाते तो ऐसा दोबारा नहीं होता. ढुलमुल कार्रवाई के कारण ही हमारे क्रिकेट में लगातार ऐसे मामले सामने आ रहे हैं.'

शाहिद अफरीदी ने मो. हफीज का किया समर्थन, स्‍पॉट फिक्सिंग मामले को लेकर कह दी इतनी बड़ी बात...

Shahid Afridi खेल में व्‍याप्‍त भ्रष्‍टार के खिलाफ खुलकर आवाज उठाते रहे हैं

खास बातें

  • कहा, पीसीबी पहले ही कार्रवाई करता तो ऐसे मामले नहीं आते
  • ढीले रुख के कारण क्रिकेट में भ्रष्‍टाचार के मामले सामने आ रहे
  • हफीज भी इससे पहले सख्‍त कार्रवाई की कर चुके हैं वकालत

Shahid Afridi: पाकिस्‍तान के शाहिद अफरीदी (Shahid Afridi) काफी समय से क्रिकेट के खेल में व्‍याप्‍त भ्रष्‍टाचार (corruption in cricket) के लिए जिम्‍मेदार प्‍लेयर्स पर कड़ी कार्रवाई की वकालत करते रहे हैं. बूम-बूम अफरीदी के नाम से लो‍कप्रिय अफरीदी ने एक बार फिर मैच/स्‍पॉट फिक्सिंग (Spot-fixing )के खिलाफ आवाज बुलंद की हैं. ऐसे समय जब युवा क्रिकेटर उमर अकमल के 'कथित व्‍यवहार' को लेकर पा‍किस्‍तान क्रिकेट में फिक्सिंग को लेकर चर्चाओं का दौर फिर शुरू हो गया है, अफरीदी ने इस बुराई के खिलाफ बयान दिया है. बेहतरीन ऑलराउंडर की हैसियत से पाकिस्‍तान के लिए खेले अफरीदी ने मोहम्‍मद हफीज (Muhammad Hafeez) के उस बयान का समर्थन किया है, जिसमें हफीज ने मुल्‍क में खेल में व्‍याप्‍त भ्रष्‍टाचार के खिलाफ सख्‍ती से कार्रवाई करने की मांग पाकिस्‍तान के क्रिकेट प्रशासन से की थी. 

गौरतलब है कि हफीज ने ऐसे भ्रष्‍टाचार में दोषी पाए गए प्‍लेयर्स पर आजीवन प्रतिबंध लगाने की मांग की है. यही नहीं, उन्‍होंने पीएसएल में स्‍पॉट फिक्सिंग के लिए प्रतिबंध के बाद 'वापसी' करने वाले शरजील खान (Sharjeel Khan) के मामले को लेकर भी सवाल उठाए हैं. पीएसएस में भ्रष्‍टाचार का दोषी पाए जाने के बाद शरजील पर पीसीबी ने पांच साल का बैन लगाया था लेकिन बाद में उनकी सजा कम कर दी गई थी. शरजील से पहले तेज गेंदबाज मोहम्‍मद आमिर को भी स्‍पॉट फिक्सिंग का दोषी पाया गया था लेकिन बैन की अवधि को पूरा करने के बाद वे पाकिस्‍तान की टीम में वापसी कर चुके हैं.

जियो चैनल के साथ बातचीत में अफरीदी ने कहा, 'मुझे लगता है कि यदि ऐसे उदाहरण (लाइफ बैन करने जैसे) पहले पेश किए जाते तो ऐसा दोबारा नहीं होता. ढुलमुल कार्रवाई के कारण ही हमारे क्रिकेट में लगातार ऐसे मामले सामने आ रहे हैं.' अफरीदी ने कहा, 'मेरी किसी के खिलाफ व्‍यक्तिगत तौर पर बात नहीं कर रहा लेकिन यदि बोर्ड उदाहरण पेश करना चाहे तो ऐसा कर सकता है. ऐसा करके ही ऐसे मामले पर विराम लगाया जा सकता है.' गौरतलब है कि पाकिस्‍तान के क्रिकेट में हाल ही में उमर अकमल का नाम भ्रष्‍टाचार स्‍कैंडल में सामने आया है. आरोप है कि पीएसएल में कथित तौर पर फिक्सिंग के लिए उमर से बुकी ने अप्रोच किया था लेकिन इस पाकिस्‍तानी क्रिकेटर ने इसकी जानकारी पीसीबी को नहीं दी.

VIDEO: अपने करियर के बारे में विराट कोहली ने कही यह बात

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com