वर्ल्‍डकप-2019 के फाइनल के दौरान 'बहुचर्चित ओवरथ्रो' को लेकर शेन वॉर्न ने कही यह बात...

वर्ल्‍डकप-2019 के फाइनल के दौरान 'बहुचर्चित ओवरथ्रो' को लेकर शेन वॉर्न ने कही यह बात...

वॉर्न उस समिति में शामिल हैं जो वर्ल्‍डकप फाइनल में अम्पायरों द्वारा उस गेंद पर लिए गए फैसले की समीक्षा करेगी

खास बातें

  • कहा, ऐसे ओवरथ्रो वाली गेंद को डेड बॉल दिया जाना था
  • इस फैसले की समीक्षा करने वाले समिति में शामिल हैं वॉर्न
  • आईसीसी टेस्‍ट चैंपियनशिप के प्रयोग को अच्‍छा बताया

वर्ल्‍डकप 2019 (World Cup 2019) के फाइनल में जिन परिस्थितियों में न्‍यूजीलैंड को हराकर मेजबान इंग्‍लैंड (England vs New Zealand) विजेता बना, वह काफी समय तक विश्‍व क्रिकेट में चर्चा का विषय रहेगा. इस मैच के दौरान जब इंग्‍लैंड के बेन स्‍टोक्‍स (Ben Stokes)बैटिंग कर रहे थे तो कीवी फील्‍डर का थ्रो उनके बल्‍ले से टकराकर चौके के लिए बाउंड्री से बाहर चला गया था. इस पर मैदान पर मौजूद अम्‍पायर ने इंग्‍लैंड के पक्ष में 6 रन (ओवरथ्रो के 4 रन और दो रन बल्‍लेबाजों ने दौड़े थे) दिए थे. इंग्‍लैंड इन रनों के सहारे बाद में न्‍यूजीलैंड के स्‍कोर को बराबर करने में सफल हो गया था. निर्धारित ओवर में मैच टाई होने के बाद सुपरओवर का सहारा लिया गया था. इसमें भी दोनों टीमों ने बराबर रन बनाए थे, बाद में बाउंड्री काउंट के आधार पर इंग्‍लैंड को विजेता घोषित किया गया था. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व स्पिनर और एमसीसी की विश्‍व क्रिकेट समिति के सदस्य शेन वॉर्न (Shane Warne) का मानना है कि आईसीसी वर्ल्‍डकप-2019 के फाइनल में इस तरह के ओवरथ्रो को 'डेड बॉल' दिया जाना चाहिए था.

Beach पर शर्टलेस हुए टीम इंडिया के खिलाड़ी, विराट कोहली ने शेयर की तस्वीर

वॉर्न (Shane Warne) जिस समिति में शामिल हैं वो वर्ल्‍डकप फाइनल में अम्पायरों द्वारा उस गेंद पर लिए गए फैसले की समीक्षा भी करेगी. दरअसल, वर्ल्‍डकप के फाइनल में ओवरथ्रो पर दिए गए चार रन को लेकर काफी विवाद रहा है. यह चार रन इंग्लैंड की न्यूजीलैंड पर जीत में काफी निर्णायक साबित हुए थे. कई पूर्व क्रिकेटरों ने भी वर्ल्‍डकप के बाद इस तरह की हार को लेकर न्‍यूजीलैंड टीम के प्रति सहानुभूति जताई थी.  फाइनल मैच में 242 रनों का पीछा कर रही इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने अंतिम ओवर में दो रन दौड़कर लिए थे और दूसरा रन लेने के दौरान फील्डर का थ्रो बेन स्टोक्स के बल्ले से टकराकर बाउंड्री पार चला गया था जिससे इंग्लैंड के खाते में चार रन आए थे. मैदानी अंपायर कुमार धर्मसेना ने अपने साथी अंपायरों से बात करने के बाद छह रन इंग्लैंड को दिए थे.

वेस्‍टइंडीज के खिलाफ टेस्‍ट सीरीज के पहले टीम इंडिया मैनेजमेंट के सामने है यह उलझन..

वॉर्न (Shane Warne) ने कहा, ' मैं उस समिति में हूं जो इसकी समीक्षा कर रही है. मुझे लगता है कि खेल का कानून बहुत सही है. मैंने सुझाव दिया कि बल्लेबाज के शरीर पर लगते ही गेंद डेड बॉल होनी चाहिए चाहे वह बाउंड्री पर जाए या नहीं. यह एक डेड बॉल होनी चाहिए और आप दौड़ नहीं सकते. मुझे लगता है कि यही खेलभावना है." ऑस्‍ट्रेलिया के महान स्पिनर वार्न आईसीसी टेस्ट चैम्पियनशिप को लेकर भी बहुत उत्साहित हैं. उन्होंने कहा, "मुझे विश्व टेस्ट चैंपियनशिप बहुत पसंद है और मैं चाहता हूं कि आईसीसी ने इसकी अधिक मार्केटिंग की होती और इसके पीछे थोड़ा और पैसा लगाया होता ताकि वे इसे अधिक प्रमोट कर पाते. हां, मुझे यह चीज अच्छी लगी कि इसके कारण सभी टेस्ट मैच महत्वपूर्ण हुए हैं. मुझे यकीन है कि आने वाले वर्षों में वे इसे सही कर लेंगे क्योंकि मुझे नहीं लगता कि उन्होंने इस बार इसे पूरी तरह से सही से लागू किया है." उन्होंने कहा कि उन्हें टेस्ट मैच की जर्सी के पीछे लगे नंबर और नाम अच्छे लगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

वॉर्न ने कहा, "मुझे टेस्ट क्रिकेट में नंबरों से कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि मुझे लगता है कि इससे प्रशंसकों के लिए खिलाड़ियों की पहचान करना आसान है इसलिए मुझे इससे कोई परेशानी नहीं है. मुझे लगता है कि यह जंपर्स पर भी होना चाहिए था क्योंकि खिलाड़ियों के जंपर्स पहनने के बाद आप उनके नंबर नहीं देख सकते." गौरतलब है कि वॉर्न (Shane Warne)से पहले ऑस्‍ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर ब्रेट ली और एडम गिलक्रिस्‍ट टेस्‍ट क्रिकेट में खिलाड़‍ियों की सफेद जर्सी के पीछे लिखे नाम और नंबर को बेहूदा बता चुके हैं. (इनपुट: IANS)

वीडियो: विराट कोहली ने रोहित शर्मा के साथ मतभेद से किया इनकार