शेन वॉर्न की बातों का जवाब देकर उनकी टिप्पणी को सही नहीं ठहराना चाहता : स्टीव वॉ

शेन वॉर्न की बातों का जवाब देकर उनकी टिप्पणी को सही नहीं ठहराना चाहता : स्टीव वॉ

नई दिल्ली:

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ ने शेन वॉर्न के तानों का जवाब तो दिया है, लेकिन उन्होंने कहा कि कप्तान को हमेशा ऐसे मुश्किल काम करने पड़ते हैं जिसकी वजह से कई खिलाड़ी उनसे नाराज़ हो जाते हैं। वॉ ने जवाब देते वक्त इस बात का ख़्याल रखा कि वो वॉर्न को लेकर कोई निजी टिप्पणी न दे दें।

तीन दिनों पहले ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज स्पिनर शेन वॉर्न (145 टेस्ट, 708 विकेट) ने स्टीव वॉ पर ताना कसते हुए स्टीव वॉ को एक स्वार्थी कप्तान बताया था। मगर पूर्व कप्तान वॉ (168 टेस्ट, 10927 रन, 92 विकेट) ने कहा कि वो शेन वॉर्न की बातों का जवाब देकर उनकी टिप्पणी को सही नहीं ठहराना चाहते।

वॉ ने बताया कि उन्होंने 1999 में वेस्ट इंडीज के खिलाफ शेन वॉर्न को ड्रॉप किया, तब बतौर कप्तान उन्हें वो करना ज़रूरी था। 17 साल पहले विंडीज़ दौरे पर गई ऑस्ट्रेलियाई टीम में फ़ाइनल टेस्ट के दौरान शेन वॉर्न को शामिल नहीं किया गया, जिसे लेकर शेन वॉर्न खफ़ा हो गए। वॉर्न की नाराजगी 17 साल बाद भी बरकरार है।

वॉ ने कहा कि वॉर्न को टीम से बाहर रखने का फ़ैसला आसान नहीं था। वो कहते हैं कि ना सिर्फ़ वॉर्न बल्कि किसी भी खिलाड़ी को बताना कि वो टीम में नहीं हैं, मेरे लिए आसान नहीं था। ट्रिपल मर्शियल रेडियो पर वॉ ने कहा कि एडम डेल या ग्रेग ब्लेविट को ये बताना कि वो टीम में नहीं हैं, आसान नहीं था। ऐसे कई खिलाड़ी थे जिन्हें कहना पड़ता था कि वो नहीं खेल रहे हैं।"

वॉ बताते हैं कि ये बतौर कप्तान ये सबसे मुश्किल काम होता है कि वो खिलाड़ी को बताए उसे प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं मिली है। लेकिन इसलिए आप टीम के कप्तान होते हैं ताकि टीम के हित में मुश्किल फ़ैसले ले सकें। वॉ मानते हैं कि ऐसे में कप्तान को तैयार रहना चाहिए कि उसे खिलाड़ी नापसंद कर अपनी नाराजगी जाहिर करें।

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com