Khabar logo, NDTV Khabar, NDTV India

सिडनी टेस्ट : एक शतक, तीन अर्धशतकों की बदौलत ऑस्ट्रेलिया ने बनाए 348 रन

ईमेल करें
टिप्पणियां
सिडनी टेस्ट : एक शतक, तीन अर्धशतकों की बदौलत ऑस्ट्रेलिया ने बनाए 348 रन
सिडनी: डेविड वार्नर (101) के करियर के 12वें शतक, क्रिस रोजर्स (95), शेन वॉटसन (नाबाद 61) और कप्तान स्टीवन स्मिथ (नाबाद 82) के उम्दा अर्धशतकों की बदौलत ऑस्ट्रेलिया ने सिडनी क्रिकेट मैदान (एससीजी) पर भारत के साथ जारी चौथे टेस्ट मैच के पहले दिन मंगलवार का खेल खत्म होने तक अपनी पहली पारी में दो विकेट पर 348 रन बनाकर मजबूत स्थिति कायम कर ली है।

टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने उतरी मेजबान टीम के लिए वार्नर और रोजर्स ने पहले विकेट के लिए 200 रन जोड़े और अपनी टीम को मजबूत नींव प्रदान दी। इसी नींव पर वॉटसन और स्मिथ ने बुलंद इमारत खड़ी करनी शुरू की और तीसरे विकेट के लिए 144 रनों की साझेदारी कर दी। यह साझेदारी 3.26 के औसत से हुई है।

स्मिथ ने 134 गेंदों का सामना कर 10 चौके लगाए हैं जबकि इस सीरीज में दूसरा अर्धशतक लगाने वाले वॉटसन ने अब तक 132 गेंदों का सामना किया है और छह चौके लगाए हैं। स्मिथ इस सीरीज में तीन शतक और दो अर्धशतक लगा चुके हैं।

मेजबान टीम 90 ओवरों का सामना कर 4.03 के औसत से रन बटोरने में सफल रही है। 90वें ओवर की चौथे गेंद पर वॉटसन को एक जीवनदान भी मिला।

चार मैचों की सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त हासिल कर चुकी मेजबान टीम ने अपने सलामी बल्लेबाजों के उम्दा खेल के कारण पहला सत्र पूरी तरह अपने नाम किया। दूसरे सत्र में भी मेजबान सलामी बल्लेबाज हावी रहे।

इस सत्र में हालांकि भारतीय गेंदबाजों ने वार्नर और फिर रोजर्स के रूप में दो सफलता हासिल की, लेकिन तब तक ऑस्ट्रेलियाई टीम अच्छी स्थिति हासिल कर चुकी थी। तीसरे सत्र में एक बार फिर भारतीय गेंदबाज विकेट के लिए तरसे। यह सत्र एक बार फिर ऑस्ट्रेलिया के नाम रहा।

पहली ही गेंद के साथ ताबड़तोड़ अंदाज में खेल रहे वार्नर ने पहले तो 45 गेंदों पर अर्धशतक पूरा किया और फिर 108 गेंदों पर इस सीरीज में अपना तीसरा और कुल 12वां सैकड़ा ठोका। वार्नर दिशाहीन दिख रहे भारतीय गेंदबाजों को ऐसे खेल रहे थे, मानो वे एकदिवसीय मैच खेल रहे हों।

दूसरी ओर, उनके साथी रोजर्स भी काफी सुदृढ़ और संयमित अंदाज में बल्लेबाजी कर रहे थे। रोजर्स ने 91 गेंदों पर इस सीरीज का अपना लगातार पांचवां अर्धशतक पूरा किया। वह ऐसा करने वाले चौथे ऑस्ट्रेलियाई सलामी बल्लेबाज हैं।

दूसरे स्लिप में 19 के निजी योग पर लोकेश राहुल द्वारा जीवनदान पाने वाले रोजर्स हालांकि अपने शतक से पांच रनों से चूक गए और 204 रनों के कुल योग पर मोहम्मद समी की गेंद पर बोल्ड हुए। रोजर्स ने 160 गेंदों पर 13 चौके लगाए।

रोजर्स से पहले वार्नर का विकेट गिरा। वार्नर को रविचंद्रन अश्विन ने मुरली विजय के हाथों कैच कराया। वार्नर ने 114 गेंदों का सामना कर 16 झन्नाटेदार चौके लगाए। यह इसी सीरीज में उनका तीसरा शतक है। वह एडिलेड टेस्ट की दोनों पारियों में शतक लगा चुके हैं।

वार्नर के अलावा कप्तान स्टीवन स्मिथ और भारतीय कप्तान विराट कोहली भी इस सीरीज में तीन-तीन शतक लगा चुके हैं।

वार्नर ने 63 के निजी योग पर अपने मरहूम साथी फिलिप ह्यूज को याद दिया। एससीजी पर ही 25 नवम्बर को टेस्ट बल्लेबाज ह्यूज को शेफील्ड शील्ड मुकाबले के दौरान सीन एबॉट की बाउंसर गेंद पर चोट लगी थी।

ह्यूज को अस्पताल ले जाया गया था, जहां खतरे से उबारने के लिए उनका ऑपरेशन किया गया, लेकिन दो दिनों बाद उनकी मौत हो गई। वार्नर और ह्यूज काफी अच्छे दोस्त थे। वार्नर ने एससीजी पर 63 के कुल योग पर पहुंचने के साथ ही दोनों हाथ उठाकर अपने साथी को याद किया और फिर झुककर उस स्थान को चूमा, जहां ह्यूज गश्त खाकर गिरे थे।

वार्नर इस दौरान अपनी भावनाओं पर काबू नहीं रख सके। वार्नर की आंखों में आंसू थे। दर्शकों ने वार्नर के इस अवतार को स्वागत किया और तालियों की गड़गड़ाहट के साथ वार्नर के माध्यम से ह्यूज को श्रद्धांजलि दी। वार्नर बल्लेबाजी से पहले अपने आंसू पोछते नजर आए। यह वाकई काफी भावनात्मक पल था।

भारतीय टीम चार बदलावों के साथ इस मैच में खेल रही है। चेतेश्वर पुजारा, इशांत शर्मा और शिखर धवन को बाहर कर दिया गया जबकि महेंद्र सिंह धोनी ने संन्यास ले लिया है। धोनी की जगह रिद्धिमान साहा ने लिया जबकि धवन और पुजारा के स्थान पर सुरेश रैना और रोहित शर्मा को मौका मिला। भुवनेश्वर कुमार पहली बार इस सीरीज में खेल रहे हैं। उन्होंने इशांत की जगह ली।

ऑस्ट्रेलिया ने इस मैच के लिए एक परिवर्तन किया। तेज गेंदबाज मिशेल जानसन के स्थान पर मिशेल स्टार्क को अंतिम एकादश में शामिल किया गया। स्टार्क ब्रिस्बेन टेस्ट में खेले थे।

ऑस्ट्रेलिया ने एडिलेड और ब्रिस्बेन में जीत हासिल करते हुए 2-0 की बढ़त हासिल कर ली थी। मेलबर्न में खेला गया तीसरा टेस्ट मैच बराबरी पर छूटा था। मेलबर्न टेस्ट के बाद ही भारतीय टीम के सफलतम कप्तानों में से एक धोनी ने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहा था।


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement