NDTV Khabar

कुछ ऐसे CAB ने किया Devang Gandhi का बचाव मतलब मनोज तिवारी...

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कुछ ऐसे CAB ने किया Devang Gandhi का बचाव मतलब मनोज तिवारी...

मनोज तिवारी की फाइल फोटो

खास बातें

  1. रणजी मुकाबले में में बंगाल कप्तान ने की थी शिकायत
  2. राष्ट्रीय चयनकर्ता गांधी गए थे बंगाल ड्रेसिंग रूम में
  3. प्रोटोकॉल के खिलाफ है सेलेक्टर का ड्रेसिंग रूम में जाना
कोलकाता:

बीसीसीआई के राष्ट्रीय चयनकर्ता देवांग गांधी को (Debang Gandhi)को बंगाल के ड्रेसिंग रूम में अनाधिकृत रूप से प्रवेश करने पर बाहर निकाल दिया गया. देवांग को यहां ईडेन गार्डन मैदान पर बंगाल और आंध्र प्रदेश के खिलाफ जारी रणजी ट्रॉफी मैच के दूसरे दिन मेजबान टीम के ड्रेसिंग रूम से बाहर किया गया. उन्हें रणजी ट्रॉफी मैच के बीसीसीआई भ्रष्टाचार निरोधक अधिकारी सौमेन कर्माकर ने बाहर निकाला. यह घटना उस समय की है जब बंगाल के सीनियर खिलाड़ियों ने देवांग के ड्रेसिंग रूम में प्रवेश करने को लेकर भ्रष्टाचार निरोधक प्रोटोकॉल पर सवाल उठाए भ्रष्टाचार निरोधक प्रोटोकॉल के अनुसार मैच के लिए चुने गए खिलाड़ी और टीम सपोर्ट स्टाफ ही ड्रेसिंग रूम में मौजूद रह सकते हैं.

यह भी पढ़ें:  इसलिए कोई अपराध नहीं हैं हवाई शॉट खेलना, रोहित शर्मा ने कहा


इस बीच, क्रिकेट एसोएिशन ऑफ बंगाल (सीएबी) ने देवांग का बचाव किया है और कहा है कि वह कुछ मेडिकल सहायता लेने के लिए गए ड्रेसिंग रूम में गए थे. सीएबी के सचिव अविशेक डालमिया ने कहा कि भ्रष्टाचार निरोधक अधिकारी ने देवांग को थोड़े समय के लिए ड्रेसिंग रूम में प्रवेश करने की इजाज दी थी. सीएबी ने एक बयान में कहा, "देवांग गांधी जोकि एक राष्ट्रीय चयनकर्ता हैं, वह वीरवार को उस समय ड्रेसिंग रूम में प्रवेश करना चाहते थे जब मैच खेला नहीं जा रहा था. मैच रेफरी से अनुमति मिलने के बाद ही भ्रष्टाचार निरोधक अधिकारी ने देवांग को थोड़े समय के लिए ही ड्रेसिंग रूम में प्रवेश करने की इजाजत दी"

यह भी पढ़ें: इस वजह जेम्स एंडरसन के इस ऐतिहासिक रिकॉर्ड को तोड़ना होगा बहुत ही मुश्किल

सीएबी ने कहा, "गांधी चिकित्सा उपचार के लिए ड्रेसिंग रूम में जाना चाहते थे और उन्होंने इसकी जानकारी भ्रष्टाचार निरोधक अधिकारी को भी दी. अधिकारी ने फिर उन्हें मेडिकल रूम के बाहर ही चिकित्सा सुविधा देने की बात कही ताकि प्रोटोकॉल बना रहे." सीएबी के इस बयान के बाद अब मनोज तिवारी की मुश्किलें बढ़ने वाली है क्योंकि तिवारी की शिकायत पर ही देवांग को भ्रष्टाचार निरोधक अधिकारी द्वारा बंगाल की ड्रेसिंग रूम से बाहर किया गया था. प्रशंसक मान कर चल रहे हैं कि कैब तिवारी पर कार्रवाई कर सकता है. 

टिप्पणियां

VIDEO:  पिंक बॉल बनने की पूरी कहानी, स्पेशल स्टोरी. 

पूर्व कप्तान मनोज ने संवाददाताओं से कहा, "हमें भ्रष्टाचार निरोधक प्रोटोकॉल को मानना होगा. एक राष्ट्रीय चयनकर्ता बिना अनुमति के टीम के ड्रेसिंग रूम में नहीं जा सकता. "उन्होंने कहा, "केवल चुने हुए खिलाड़ी और अधिकारी ही ड्रेसिंग रूम में प्रवेश कर सकते हैं"



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... धर्मेंद्र ने जब अपनी मम्मी से पूछा था 'तू हमेशा जिंदा रहेगी' तो मां बोली थीं- तेरे नाना नानी जिंदा हैं...

Advertisement