NDTV Khabar

'यह हरकत' भारी न पड़ जाए 'विवादों के अंबाती रायुडू' को, बीसीसीआई ने मांगा 7 दिन के भीतर जवाब

टीम इंडिया से बाहर चल रहे हैदराबाद रणजी ट्रॉफी के कप्तान अंबाती रायुडू एक बार फिर से गलत कारणों से चर्चा में हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
'यह हरकत' भारी न पड़ जाए 'विवादों के अंबाती रायुडू' को, बीसीसीआई ने मांगा 7 दिन के भीतर जवाब

भारत के लिए 34 वनडे खेल चुके अंबाती रायुडू

खास बातें

  1. अंबाती रायुडू जवाब दो!
  2. आखिर और कितने विवाद?
  3. रायुडू और विवाद, मतलब चोली-दामन का साथ
नई दिल्ली: अपने छोटे से करियर में टीम इंडिया के लिए 34 वनडे खेलने वाले और अपने प्रदर्शन से ज्यादा विवादों के लिए जाने वाले बल्लेबाज हैदराबाद के रणजी ट्रॉफी कप्तान अंबाती रायुडू और मैनेजर किशन राव को खास मामले में नोटिस जारी कर दिया है. इन दोनों से बोर्ड ने सात दिन के भीतर अपना जवाब दाखिल करने को कहा है. 

बता दें कि हैदराबाद के अंबाती रायुडू को पिछले दशक के शुरुआती दौर में अति प्रतिभाशाली बल्लेबाज करार दिया था. क्रिकेट पंडितों की इस भविष्यवाणी को अंबाती रायुडू ने अपने प्रदर्शन से सही भी साबित किया. साल 2002 में भारतीय अंडर-19 टीम के इंग्लैंड दौर में भारत ने क्लीन स्वीप किया था. इस सीरीज के एक मैच में रायुडू ने तब 16 साल की उम्र में पारी की शुरुआत करते हुए नाबाद 177 की पारी खेली. इसके बाद उन्हें भारतीय क्रिकेट की बड़ी उम्मीद कहा जाने लगा था. लेकिन जल्द ही उनका और विवादों का चोली दामन का साथ हो गया गया. चलिए अंबाती रायुडू के करियर के प्रमुख विवादों पर नजर डालते हैं. 

1. साल 2004-05 रणजी सेशन में खराब प्रदर्शन (11.92 के औसत से 155) के बाद कोच राजेश यादव से मतभेद. अगला रणजी सेशन आंध्र प्रदेश के लिए खेला.

2. आंध्र प्रदेश के साथ एक साल खेलने के बाद रायुडू फिर से हैदराबाद लौटे, लेकिन एक बार फिर से अंपायरों के साथ उनका विवाद हो गया. 

यह भी पढ़ें : क्रिकेटर अंबाती रायुडू ने की बुजुर्ग के साथ हाथापाई, कैमरे में कैद हुई वारदात

3. एक रणजी ट्रॉफी मुकाबले में उनकी पूर्व भारतीय क्रिकेटर और हैदराबाद के तत्कालीन सेलेक्टर शिवलाल यादव के बेटे और रणजी क्रिकेटर संतोष यादव के साथ बीच मैच में हाथापाई की नौबत आ गई.

4. साल 2007 में सिर्फ 21 साल की उम्र में अंबाती रायुडू ने जी ग्रुप की इंडियन क्रिकेट लीग (आईसीएल)
 का दामन थाम लिया. यह वह कदम था, जो उनका करियर खत्म कर सकता था. 

वास्तव में अंबाती रायुडू के नाम इतने विवाद हैं कि अगर उन्हें 'विवादों का रायुडू' कह दिया जाए, तो एक बार को गलत नहीं ही होगा. और अब एक बार फिर से गलत कारणों के चलते बीसीसीआई ने उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी करके सात दिन के भीतर जवाब दाखिल करने को कहा है. और यह विवाद फिर से 32 साल के अंबाती रायुडू के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है. 

टिप्पणियां
VIDEO : चलिए पिछले दिनों विराट कोहली के मुंबई रिसेप्शन का आनंद उठाइए.

दअसल पिछले दिनों सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के खत्म हुए लीग मुकाबलों के तहत हैदराबाद के कप्तान अंबाती रायुडू और मैनेजर किशन राव ने कर्नाटक के खिलाफ खेले गए मैच में अंपायर के निर्णय पर घोर आपत्ति जताई थी. और उनका आपत्ति जताने का तरीका भी सही नहीं था. इसी बात पर अब रायुडू और किशन राव को सात दिन के भीतर बोर्ड को जवाब देना है.  

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement