NDTV Khabar

इस वजह से क्रिस गेल को मानहानि केस में मिले करीब डेढ़ करोड़ रुपये

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इस वजह से क्रिस गेल को मानहानि केस में मिले करीब डेढ़ करोड़ रुपये

क्रिस गेल की फाइल फोटो

खास बातें

  1. ऑस्ट्रेलियाई प्रकाशक फेयरफैक्स मीडिया के खिलाफ जीते गेल
  2. प्रकाशक ने रिपोर्ट छाप गेल पर लगाया था आरोप
  3. फेयरफैक्स के पत्रकार गेल का करियर खत्म करना चाहते थे-गेल के वकील
सिडनी:

भारत में मानहानि में किसी मामले में रकम मिलने का कानून क्या है, इसे लेकर आम जनता भ्रमित भी रहती है और हंसती भी है. वजह यह है कि याद नहीं आता कि भारतीय कानून के तहत कब किसी शख्स को आखिरी बार मोटी रकम मिली. या कभी मिली भी? लेकिन ऑस्ट्रेलिया में ऐसा नहीं है. विंडीज के धाकड़ बल्लेबाज क्रिस गेल के मामले में ऐसा बखूबी साबित हुआ है. गेल को ऑस्ट्रेलियाई प्रकाशक फेयरफैक्स मीडिया के खिलाफ मामला जीतने के करीब डेढ़ साल बाद भारतीय मुद्रा में करीब डेढ़ करोड़ रुपये की रकम मिली है.

सिडनी में 2017 में एक न्यायाधीश ने इस दावे को ठुकरा दिया और कहा कि यह सच नहीं है और उन्होंने यह भी कहा कि फेयरफैक्स मीडिया को गलत तरीके से प्रेरित किया गया है. इस मामले पर गेल की कानूनी मामलों को संभालने वाली टीम ने कहा कि फेयरफैक्स के पत्रकार क्रिकेट खिलाड़ी के करियर को खत्म करना चाहते हैं. गेल ने रिपोर्ट आने के बाद फेयरफैक्स मीडिया के खिलाफ मानहानिस का केस दर्ज किया था. 

यह भी पढ़ें: IND vs AUS: पहले टेस्ट से पहले अनिल कुंबले ने दिया 'अहम सुझाव', विराट कोहली मानेंगे ?

वेस्टइंडीज के अनुभवी बल्लेबाज क्रिस गेल को एक मानहानि मामले में 173,000 पाउंड (300,000 आस्ट्रेलियाई डॉलर, करीब 1,55,99,858.79 रुपये) की राशि दी गई है. केस अपने पक्ष में जाने के बाद न्यू साउथ वेल्स के सर्वोच्च न्यायालय की न्यायाधीश लूसी मैकुलम ने गेल को फेयरफैक्स मीडिया द्वारा मानहानि के जुर्माने के तौर पर 173,000 पाउंड की राशि अदा करने का आदेश दिया. 


VIDEO: ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए रवाना होने से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में विराट कोहली

न्यायाधीश लूसी ने कहा कि इस मानहानि के मामले से गेल का पेशेवर जीवन कहीं न कहीं प्रभावित हुआ है. हालांकि, फेयरफैक्स मीडिया के प्रवक्ता का कहना है कि लूसी को गुमराह किया गया है, ताकि फेयरफैक्स को उचित कार्यवाही का मौका न मिले. गेल पर फेयरफैक्स मीडिया ने 2016 में आरोप लगाया था कि उन्होंने एक 39 वर्षीया मसाज थेरेपिस्ट के समक्ष अंग प्रदर्शन किया था. 

टिप्पणियां


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार से बाबूलाल मरांडी की पार्टी ने वापस लिया समर्थन

Advertisement