इन वजहों से सचिन तेंदुलकर और गौतम गंभीर ने किया चार दिनी टेस्ट के विचार को खारिज

इन वजहों से सचिन तेंदुलकर और गौतम गंभीर ने किया चार दिनी टेस्ट के विचार को खारिज

सचिन तेंदुलकर की फाइल फोटो

खास बातें

  • आईसीसी ने दिया था चारदिनी टेस्ट का विचार
  • विराट कोहली ने भी जतायी थी असहमति
  • और कई क्रिकेटर विचार को बता चुके हैं हास्यास्पद
मुंबई:

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) और गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) जैसे भारत के पूर्व टेस्ट खिलाड़ियों ने आईसीसी के चार दिनी टेस्ट के आइडिया को नकार दिया है. एक दिन पहले भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने भी इस आइडिया को नकार दिया था. इन दोनों का विचार है कि टेस्ट में पांचवें दिन स्पिनरों का बोलबाला रहता है और वे हालात का फायदा उठाकर अपनी टीम के लिए योगदान देते हैं लेकिन आईसीसी का यह आइडिया उसने उनका यह हक छीन लेगा. सचिन ने कहा, "स्पिनर पुरानी हो चुकी गेंद और टूटी हुई विकेट का फायदा उठाकर पांचवें दिन कमाल करते हैं. यह सब टेस्ट क्रिकेट का हिस्सा है. ऐसे में क्या यह उचित होगा कि स्पिनरों का यह हक उनसे छीना जाए"

यह भी पढ़ें:  कुछ ऐसे तीसरे दिन ही ऑस्ट्रेलिया ने न्यूजीलैंड पर कसा शिकंजा

सचिन ने कहा, "आज टी-20 हो रहे हैं. वनडे हो रहे हैं और अब तो टी-10 भी होने लगे हैं. ऐसे में क्रिकेट के सबसे प्यूरेस्ट फॉर्म के साथ छेड़छाड़ जायज नहीं है. इसकी कोई जरूरत नहीं है." सचिन ने यह भी कहा कि टेस्ट से एक दिन कम करने से इस खेल को लोकप्रिय नहीं बनाया जा सकता.  इसकी जगह आईसीसी को पिचों की क्वालिटी पर ध्यान देना चाहिए. इससे पहले, गम्भीर ने भारतीय कप्तान कोहली का समर्थन करते हुए कहा कि वह भी आईसीसी के इस प्रस्ताव के पक्ष में नहीं हैं. गम्भीर ने कहा, "यह हास्यास्पद विचार है. टेस्ट से एक दिन कम करने से परिणाम नहीं आएंगे और फिर नई तरह की बातें शुरू हो जाएंगी"

यह भी पढ़ें: जेम्स एंडरसन ने तोड़ा इयान बॉथम का रिकॉर्ड, अब नजर इन दिग्गजों पर

कोहली ने शनिवार को कहा था कि वह आईसीसी के चार दिन के टेस्ट मैच के पक्ष में नहीं हैं क्योंकि उनना मानना है कि यह खेल के सबसे शुद्ध प्रारूप के साथ न्याय नहीं होगा. कोहली के मुताबिक टेस्ट क्रिकेट को आगे ले जाने के लिए डे-नाइट टेस्ट बहुत है क्योंकि इसके माध्यम से टेस्ट क्रिकेट का व्यापक बाजारीकरण किया जा सकता है. कोहली ने भारत और श्रीलंका के बीच यहां खेले जाने वाले पहले टी-20 मैच की पूर्व संध्या पर कहा था, "मेरे हिसाब से इसमें बदलाव नहीं होने चाहिए. जैसा मैंने कहा टेस्ट क्रिकेट को आगे ले जाने के लिए डे-नाइट टेस्ट लाया गया है, इससे उत्साह पैदा होता है, लेकिन इससे ज्यादा इससे छेड़छाड़ नहीं की जानी चाहिए. मुझे नहीं लगता कि ऐसा किया जाना चाहिए."

यह भी पढ़ें: इरफान पठान को इसी समय 'यह' एहसास हो गया था, अब किया संन्यास का ऐलान

उन्होंने कहा, "आप टेस्ट क्रिकेट में ज्यादा से ज्यादा डे-नाइट टेस्ट का बदलाव कर सकते हो. इसका चलन शुरू हो चुका है. किसी और बात पर ध्यान केंद्रित करने की जगह सिर्फ डे-नाइट टेस्ट पर ही फोकस किया जाए तो इस फॉरमेंट में काफी आकर्षण आ सकता है." आईसीसी विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप-2023 से चार दिन के टेस्ट मैच कराने को लेकर विचार कर रही है. ऑस्ट्रेलिया के टेस्ट कप्तान टिम पेन सहित कई खिलाड़ी इसकी आलोचना कर चुके हैं. अब कोहली भी इसमें शामिल हो गए हैं.

VIDEO: पिंक बॉल बनने की कहानी जान लीजिए, स्पेशल रिपोर्ट

कोहली ने कहा कि अगर पांच दिन के टेस्ट को चार दिन का कर दिया जाता है तो वो दिन भी आ जाएगा जब तीन दिन के टेस्ट की बात की जाने लगेगी. कोहली से पहले ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन, ग्लैन मैक्ग्रा, नाथन लॉयन, दक्षिण अफ्रीका के वार्नोन फिलेंडर भी इसकी खिलाफत कर चुके हैं.
 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com