'यह बड़ा कारनामा' सौरव गांगुली ने 13 साल की उम्र में ही कर डाला था, सचिन तेंदुलकर भी नहीं कर सके

'यह बड़ा कारनामा' सौरव गांगुली ने 13 साल की उम्र में ही कर डाला था, सचिन तेंदुलकर भी नहीं कर सके

खास बातें

  • हैप्पी बर्थ-डे टू यू दादा !
  • 46 के हुए सौरव गांगुली
  • बार-बार ये दिन आए..!
नई दिल्ली:

भारतीय पूर्व कप्तान सौरव गांगुली का आज रविवार को जन्मदिन है. और दादा अब 46 साल के हो गए हैं. सौरव के जन्मदिन पर उनकी कप्तानी में खेले और गहरी छाप छोड़ने वाले खिलाड़ियों सहित सचिन तेंदुलकर ने उन्हें सोशल मीडिया के जरिए जन्मदिन की बधाई दी. इसके अलावा सोशल मीडिया पर गांगुली के चाहने वालों ने अपने चहेते खिलाड़ी की प्रशंसा में गुणगान करते हुए दादा को शुभकामनाए दीं. 

वास्तव में सौरव गांगुली को अगर टाइगर मंसूर अली खान पटौती के बाद भारत का सर्वश्रेष्ठ कप्तान करार दिया जाए, तो एक बार को गलत नहीं ही होगा. करीब दो हजार के दशक में टीम की कमान संभालने वाले सौरव ने भारतीय क्रिकेट की अगली पीढ़ी को तैयार तो किया ही, साथ ही उन्हें विदेशी जमीं पर आंख में आंख डालकर लड़ना भी सिखाया. यही वजह है कि उनकी कप्तानी में खेले खिलाड़ियों ने सौरव के 46वें जन्मदिन पर उनकी शान में जमकर कसीदे काढ़े हैं.

सौरव की कप्तानी में कई यादगार पारियां खेलने वाले वीरेंद्र सहवाग ने गांगुली के करियर की चार खास बातों का जिक्र करते हुए ट्विटर पर  पूर्व कप्तान को बधाई दी. 

वहीं सचिन तेंदुलकर ने भी अपने ट्विटर अकाउंट से बंगाली भाषा में पोस्ट करते हुए अपने पूर्व साथी को जन्मदिन की शुभकामनाएं दीं.

यह भी पढ़ें: खास फोटो के साथ महेंद्र सिंह धोनी को दी सुरेश रैना ने 37वें जन्मदिन की बधाई, दिग्गजों के 'संदेश'

इन दोनों दिग्गजों के अलावा स्टायलिश हैदराबादी वीवीएस लक्ष्मण और मोहम्मद कैफ ने नेटवेस्ट ट्रॉफी में यादगार पलों को साझा करते हुए सौरव गांगुली को बधाई दी. वास्तव में सौरव गांगुली ने अपने करियर में कई बड़ी उपलब्धियां हासिल कीं.

लेकिन एक काम सौरव गांगुली ने ऐसा किया, जिसके बारे में आप नहीं ही जानते होंगे. और जो कारनामा वास्तव में सचिन तेंदुलकर भी नहीं कर सके थे. यह कारनामा सौरव ने साल 1985 में किया था.

VIDEO: कुछ दिन पहले दिल्ली स्थित तुसाद म्युजियम में सौरव गांगुली का पुतला लगाया गया.​

इस साल सौरव गांगुली अपने बड़े भाई स्नेहाशीष गांगुली (तब 17 साल) के साथ बंगाल के लिए अंडर-22 ट्रॉफी में खेले. यह मैच सीके नायुडु ट्रॉफी (अंडर-22) के तहत खेला गया था. बड़ी बात यह थी कि उस समय सौरव गांगुली सिर्फ 13 साल के ही थे. और 13 साल की उम्र में प्रदेश की अंडर-22 के लिए खेलना एक बड़ी बात थी. बहरहाल, दादा आपको एनडीटीवी की तरफ से जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com