NDTV Khabar

'ऐसे आया'...'ऐसे छाया'...और आज मिल ही गई इंडिया कैप!

करीब तीन साल पहले तक इस खिलाड़ी के बारे में ज्यादा किसी ने नहीं सुना था. लेकिन फिर कुछ ऐसा हुआ कि सभी एकदम से चौंक गए. वास्तव में श्रेयस अय्यर का चौंकाना सिर्फ यहीं ही खत्म नहीं हुआ.

60 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
'ऐसे आया'...'ऐसे छाया'...और आज मिल ही गई इंडिया कैप!

श्रेयस अय्यर (टीम इंडिया के नए सदस्य)

खास बातें

  1. श्रेयस अय्यर को मिला प्रदर्शन का इनाम
  2. साल 2015 में दिल्ली डेयर डेविल्स ने 2.6 करोड़ में खरीदा था
  3. 2015-16 रणजी ट्रॉफी सेशन में बनाए थे हजार से ज्यादा रन
नई दिल्ली: करीब तीन साल पहले तक इस खिलाड़ी के बारे में ज्यादा किसी ने नहीं सुना था. लेकिन फिर कुछ ऐसा हुआ कि सभी एकदम से चौंक गए. वास्तव में श्रेयस अय्यर का चौंकाना सिर्फ यहीं ही खत्म नहीं हुआ. इस धाकड़ युवा बल्लेबाज ने फिर एक और धमाका किया, तो राष्ट्रीय चयनकर्ताओं ने भी उनके बल्ले की धमक को सम्मान देने पर मजबूर हो गए. अय्यर की लगातार कोशिशें रंग लाई और धर्मशाला में उनका वह सपना पूरा हो ही गया, जो कोई भी युवा क्रिकेटर अपने बचपन के दिनों से पालता है. 

मुंबई के साल 2014 तक श्रेयस अय्यर की पहचान टीम इंडिया के अंडर-19 खिलाड़ी के रूप में थी. यूएई में खेले गए जूनियर विश्व कप में अय्यर ने लगातार दो अर्धशतक जड़े थे. मुंबई रणजी ट्रॉफी सेलेक्टरों ने उनकी प्रतिभा को पहचाना और उन्हें मौका दिया. नतीजन साल 2014-15 के पहले ही रणजी ट्रॉफी सेशन में अय्यर ने मुंबई की तरफ से 50.56 के औसत से सबसे ज्यादा रन 809 रन बना डाले. अय्यर द्वारा दिए गए 'अपने परिचय' को आईपीएल की टीमों ने भी सुना. खिलाड़ियों की नीलामी हुई, तो श्रेयस अय्यर ने सभी को चौंका दिया. 

यह भी पढ़ें : 'यहां' विराट कोहली पर भारी हैं रोहित शर्मा...पर 'ये' चुनौतियां भी हैं धर्मशाला की राह में

वजह थी दिल्ली डेयर डेविल्स का उन्हें 2.6 करोड़ रुपये में खरीदना. लेकिन अय्यर इस कीमत पर पूरे खरे उतरे. अय्यर ने 14 मैचों मे 439 रन बनाने के साथ ही आईपीएल का इमर्जिंग प्लेयर ऑफ द ईयर अवार्ड जीतकर बहुत ही शानदार अंदाज में राष्ट्रीय परिदृश्य पर अपनी उपस्थिति दर्ज करायी.लेकिन बात यहीं ही खत्म नहीं हुई. अब पारी अय्यर के छाने की थी. साल 2015-16 के आखिर तक देश का मीडिया उन्हें राष्ट्रीय टीम में जगह देने के बारे में लिखने लगा. पूर्व क्रिकेटर उनके समर्थन में लेख लिखने लगे. और वजह बना उनका रणजी ट्रॉफी का घरेलू प्रदर्शन. 

अय्यर ने साल 2015-16 रणजी ट्रॉफी सेशन में अपने प्रदर्शन को एक नए ही मुकाम पर पहुंचा दिया. इस सत्र में अय्यर ने 73.38 के औसत से 1321 रन ठोक डाले. इसमें उनका फाइनल में बनाया गया शतक भी शामिल रहा, जिसके चलते मुंबई ने अपना 41वां रणजी ट्रॉफी खिताब जीता.हालांकि, अय्यर अपने टी-20 इंटरनेशनल करियर का आगाज पहले ही कर चुके हैं, लेकिन रविवार को 23 साल के श्रेयस अय्यर को श्रीलंका के खिलाफ अपना पहला अंतरराष्ट्रीय खेलना का मौका मिल ही गया. 

टिप्पणियां
VIDEO:  सुबह वॉर्म-अप सेशन के दौरान अय्यर को टीम इंडिया कैप दी गई
उम्मीद है कि उनमें दिखाए गए पिछले भरोसों की तरह अय्यर इस भरोसे पर भी खरे उतरेंगे. और लंबे समय तक टीम इंडिया को अपनी सेवाएं देंगे. 

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement