NDTV Khabar

'इस एक फॉर्मूले' पर अमल से बड़े सितारे में तब्दील हो गए हार्दिक पंड्या!

करीब एक साल पहले टीम इंडिया के बैटिंग-ऑलराउंडर हार्दिक पटेल ने धर्मशाला से ही अपने अंतरराष्ट्रीय करियर का आगाज किया था. आलोचक कहीं ज्यादा थे, प्रशंसक कम. लेकिन तब एक फॉर्मूला जिंदगी में आया और सबकुछ बदल गया.

69 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
'इस एक फॉर्मूले' पर अमल से बड़े सितारे में तब्दील हो गए हार्दिक पंड्या!

खास बातें

  1. कोच की सलाह..और दौड़ पड़ी हार्दिक की गाड़ी
  2. आराम के बाद धर्मशाला में मैदान पर उतरेंगे हार्दिक
  3. धर्मशाला से धर्मशाला तक बहुत कुछ बदल गया!
नई दिल्ली: टीम इंडिया रविवार को धर्मशाला में श्रीलंका के खिलाफ सीरीज का पहला डे-नाइट वनडे मुकाबला खेलने जा रही है, तो एक बार फिर से चर्चा उस खिलाड़ी पर आकर सिमट गई है, जिसने अपने वनडे करियर का आगाज ही करीब एक साल पहले इसी मैदान से किया था. टेस्ट सीरीज में आराम के बाद हार्दिक पंड्या एक बार फिर से खेलने और धूम मचाने के लिए तैयार हैं. जब उन्होंने वनडे करियर का आगाज किया था, तो आलोचक ज्यादा थे प्रशंसक कम, लेकिन साल भर ही में यह क्रिकेटर देखते ही देखते टीम इंडिया के सबसे बड़े उभरते सितारे में तब्दील हो गया. अगर ऐसा हुआ, तो इसके पीछे था एक बहुत ही 'खास फॉर्मूला' 

करीब साल भर पहले तक आलोचक हार्दिक के सिर्फ सिर्फ प्रदर्शन ही नहीं, बल्कि और कई बातों को लेकर भी उंगली उठाते थे. मसलन हेयर स्टाइल, टैटू वगैरह-वगैरह. साल भर पहले कई  क्रिकेट पंडित यह भी कहते थे कि पता नहीं क्यों इस खिलाड़ी को मौका दे दिया. न तो गेंदबाजी में ही दम है  और न ही बल्लेबाजी में कुछ खास किया है. लेकिन हार्दिक पंड्या ने साल भरे भीतर ही सभी के मुंह बंद कर दिए. पिछले कुछ ही महीनों में हार्दिक ने कई मैच्योर पारियां खेलकर दिखाया है कि निचले क्रम में मैनेजमेंट उन पर जीत के लिए बतौर बल्लेबाज-ऑलराउंडर के रूप में भरोसा कर सकता है.

यह भी पढ़ें : इस 'वजह' से धर्मशाला में पहले वनडे से पहले डरे हुए हैं रोहित शर्मा और उपल थरंगा!

टेस्ट सीरीज से आराम के बाद वह धर्मशाला का वह मैदान पंड्या के हार्दिक स्वागत के लिए तैयार है, जहां उन्होंने 16 अक्टूबर 2016 को अपने वनडे करियर की शुरुआत की. आगाज के बाद हार्दिक की गाड़ी अंतरराष्ट्रीय पटरी पर छुक-छुक करके चल रही थी. इक्का-दुक्का कुछ अच्छी पारियां आईं जरूर, लेकिन पूरी तरह से कुछ भी सही नहीं जा रहा था. स्कोर नहीं हो रहे थे और विकेट भी नहीं मिल रहे थे. फिर कोच की सलाह के बाद हार्दिक ने अपनाया 'वी फॉर्मूला'. इसके तहत उन्होंने ये बातें की:-

यह भी पढ़ें : कोटला से छिन सकती है टेस्ट मैचों की मेजबानी, ICC की मेडिकल समिति की रिपोर्ट में बताई गई वजह
-क्रीज पर उतरने के बाद शुरुआती 20 गेंदों तक हुक व पुल शॉट खेलने से किनारा
-स्वीप शॉटों से पूरी तरह से तौबा
- शुरुआती 20 गेंदों तक सिर्फ 'वी' (लांग-ऑन और लांग-ऑफ के बीच, सीधे बल्ले से) में खेलना 

VIDEO:  हार्दिक पंड्या के इस खास अंदाज को देखिए
इसका पूरा फायदा हार्दिक पंड्या को मिला. करियर के आगाज के करीब साल भर बाद मतलब इसी साल 17 सितम्बर को हार्दिक ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 83 रन बनाए. और उनकी इस पारी के 44 रन 'वी फॉर्मूले' के 'रास्ते' से ही आए. इस मैच के ठीक दो मैच बाद हार्दिक को बैटिंग ऑर्डर में प्रमोशन मिला, तो फिर से उन्होंने 78 रन ठोक डाले. वास्तव में यह असर 'वी फॉर्मूले' पर अमल का ही था. और अब हार्दिक उसी मैदान पर ही नहीं, बल्कि पूरी सीरीज में इसी फॉर्मूले से लंकाइयों की लंका लगाने के लिए तैयार हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement