NDTV Khabar

भारत-पाक क्रिकेट सीरीज को लेकर पाकिस्तान में बदलने लगे सुर...

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारत-पाक क्रिकेट सीरीज को लेकर पाकिस्तान में बदलने लगे सुर...

विराट कोहली और शाहिद अफरीदी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के इस्लामाबाद में बयान के बाद भारत और पाकिस्तान के क्रिकेट संबंधों पर फिलहाल पानी पड़ता दिख रहा है। सुषमा और पाक प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज की मुलाकात के बाद क्रिकेट को लेकर कोई बात सामने नहीं आई।

इतनी हायतौबा क्यों
इसके बाद से भारत-पाक क्रिकेट सीरीज को लेकर सवाल खड़े होने लगे हैं। इस बीच पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेट कप्तान मोहम्मद यूसुफ ने बयान दिया है कि उन्हें समझ नहीं आ रहा कि दोनों देशों के बीच क्रिकेट के आयोजन को लेकर इतनी हायतौबा क्यों है? उन्होंने कहा कि अगर दोनों टीमों के बीच क्रिकेट नहीं हो पाता है, तो इससे ना तो वर्ल्ड क्रिकेट को और न ही दोनों देशों में क्रिकेट के खेल पर फर्क पड़ने वाला है। जबकि पूर्व कप्तान जावेद मियांदाद का मानना है कि जल्दबाजी में की गई सीरीज से पाकिस्तान को फायदा नहीं होने वाला।

इस बीच पीसीबी ने अपनी डेडलाइन दो दिनों के लिए और बढ़ा दी है। उनका कहना है कि अगर अगले दो दिनों में भारतीय सरकार इसकी इजाजत नहीं देती, तो वो इस सीरीज को खत्म हुआ मान लेंगे। शायद उन्हें उम्मीद है कि विदेश मंत्री भारत लौटने के बाद इस विषय पर कुछ सकारात्मक बयान दे सकती हैं। शहरयार खान के मुताबिक सुषमा स्वराज और पाकिस्तानी अधिकारियों के बीच बातचीत के दौरान क्रिकेट सीरीज को लेकर कोई बात नहीं हुई। हालांकि एक दिन पहले बैठक के दौरान खबरिया चैनल्स बता रहे थे कि शहरयार खान के मुताबिक भारत इस सीरीज के लिए राजी नहीं है। उन्होंने यहां तक कहा था कि अगर सीरीज नहीं होती है, तो उन्हें करीब 5 करोड़ डॉलर यानी करीब 350 करोड़ रुपए (भारतीय रुपया) का नुकसान हो जाएगा। उन्होंने यह भी कहा था कि ऐसी सूरत में वो अपनी सरकार के साथ इस बात पर चर्चा करेंगे कि वो अगले साल टी-20 वर्ल्ड कप के दौरान भारत जाएं या नहीं।


टिप्पणियां

नहीं होगा बड़ा नुकसान
पूर्व पाकिस्तान्नी कप्तान मोहम्मद यूसुफ यह नहीं मानते कि भारत-पाक सीरीज नहीं होने से पाकिस्तान को बड़ा नुकसान होने वाला है। उन्होंने कहा, "पीसीबी आर्थिक रूप से काफी मजबूत है। पीसीबी के अधिकारियों को काफी अच्छी सैलरी और सुविधाएं मिलती हैं। इसलिए अधिकारियों को इस बारे में बात बंद कर देनी चाहिए कि इस सीरीज से वर्ल्ड क्रिकेट को बढ़ावा मिलेगा।"

उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान सुपर लीग का आयोजन होने जा रहा है जो इस बात का प्रमाण है कि पीसीबी को पैसों की दिक्कत नहीं है।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement