NDTV Khabar

राहुल जौहरी पर सुप्रीम कोर्ट को रिपोर्ट सौंपेंगे विनोद राय, लेकिन...

राय ने कहा कि यह बिल्कुल भी कठिन स्थिति नहीं थी और यथा स्थिति बरकरार रहेगी, लेकिन अहम बात यह है कि पैनल के दो सदस्यों ने जौहरी को  दोषमुक्त करार दिया है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राहुल जौहरी पर सुप्रीम कोर्ट को रिपोर्ट सौंपेंगे विनोद राय, लेकिन...

विनोद राय की फाइल फोटो

खास बातें

  1. बुधवार को ही राहुल जौहरी को पैनल से मिली क्लीन चिट
  2. डायना एडुल्जी ने दी थी राहुल जौहरी के खिलाफ राय
  3. जौहरी के पक्ष में रहा था 2-1 से फैसला
मुंबई:

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की क्रिकेट प्रशासकीय समिति के चेयरमैन विनोद राय ने कहा है कि बोर्ड के सीईओ राहुल जौहरी को फिर से संस्थान में लौटने की अनुमति देना उनके लिए मुश्किल निर्णय नहीं था. साथ ही, उन्होंने कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट की परीक्षा पर खरे उतरेंगे. कुछ दिन पहले ही मीटू अभियान के तहत एक महिला ने राहुल जौहरी पर सेक्सुअल हरमसेंट का आरोप लगाया था. हालांकि, तब राहुल बीसीसीआई से नहीं जुड़े थे. बावजूद इसके बीसीसीआई ने इस मामले की जांच के लिए तीन सदस्यीय पैनल गठित कर दिया था. और अब बुधवार को पैनल ने राहुल जौहरी को क्लीन चिट दे दी, हालांकि डायना पूर्व कप्तान डायना एडुल्जी ने राहुल के खिलाफ अपनी राय दी. लेकिन कुल मिलाकर 2-1 से फैसला राहुल जौहरी के पक्ष में गया. वहीं, विनोद राय ने डायना एडुल्जी की राय पर ही सवाल खड़ा कर दिया है. 

राय ने कहा कि यह बिल्कुल भी कठिन स्थिति नहीं थी और यथा स्थिति बरकरार रहेगी, लेकिन अहम बात यह है कि पैनल के दो सदस्यों ने जौहरी को दोषमुक्त करार दिया है. तीसरे सदस्य ने कहा है कि जौहरी को काउंसलिंग प्रक्रिया से गुजरना चाहिए. इसका अर्थ है कि जौहरी को पद पर बरकरार रहना चाहिए और उनकी काउंसिल होने चाहिए. राय ने पूर्व महिला कप्तान डायना एडुल्जी की राय पर सवाल उठाते हुए कहा कि अगर उन्होंने जौहरी को बीसीसीआई से बहाल किए जाने की वकालत की थी, तो फिर उन्होंने काउंसलिंग की सिफारिश कैसे की. राय ने कहा कि वह मामले की रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को भेजेंगे. 
 
यह भी पढ़ें:  IND vs AUS: ऑस्ट्रेलिया टीम में दो उप-कप्तान, शुरुआती दो टेस्ट के लिए दो नए खिलाड़ियों को मिली जगह


सीओए के चेयरमैन ने कहा कि 27 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है और हम इसे कोर्ट के समक्ष रखेंगे. अगर किसी भी पहलू पर सुप्रीम कोर्ट मेरे फैसले की फिर से समीक्षा करना चाहता है, तो इसका बहुत स्वागत है. बता दें कि पैनल की रिपोर्ट बाहर आए कुछ हिस्से को छोड़कर बहुत ही गुप्त है. इसी बीच बुधवार से फिर से ऑफिस जाना शुरू करने वाले राहुल जौहरी ने कहा कि मैं बहुत ही राहत महसूस कर रहा हूं. मैं नजदीकी दस्तों और परिवार का आभारी हूं. मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि सत्य की जीत होगी. इस मामले में और ज्यादा न बोलते हुए जौहरी ने कहा कि बोर्ड में मेरी भूमिका प्रशासकीय है और इसी बात पर मुझे काम करना और इस पर ध्यान देना है.  

VIDEO: जानिए कि धोनी के टी-20 से बाहर होने पर क्रिकेट विशेषज्ञों ने क्या कहा. 

टिप्पणियां

ध्यान दिला दें कि पूर्व में भी डायना एडुल्जी इस बात पर जोर दिया था कि जौहरी को इस्तीफा देना चाहिए या फिर उन्हें हटा देना चाहिए. लेकिन पैनल के दो सदस्यों के द्वारा जौहरी को दोषमुक्त करार दिया गया है. बहरहाल, जौहरी के कट्टर आलोचक और बीसीसीआई की भ्रष्टचार ईकाई के पूर्व अध्यक्ष नीरज ने ट्विटर पर सीओए के फैसले की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि एक ऐसे शख्स को लैंगिक संवेदनशीलता और काउंसलिंग की जरूरत है, लेकिन बावजूद इसके वह सीईओ पद पर बना रह सकता है. शाबाश सीओए!

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement