NDTV Khabar

विराट कोहली को ज़रूरत हो तभी बल्लेबाज़ी के लिए आना चाहिए : NDTV से सुनील गावस्कर

94 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
विराट कोहली को ज़रूरत हो तभी बल्लेबाज़ी के लिए आना चाहिए : NDTV से सुनील गावस्कर

सुनील गावस्‍कर (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: रांची में दूसरे दिन टीम इंडिया ने सिर्फ़ 1 विकेट खोकर 120 रन बनाये हैं और फ़िलहाल हालात नियंत्रण में नज़र आ रहे हैं. लेकिन भारतीय फ़ैन्स के ज़ेहन में सबसे बड़ा सवाल ये बना हुआ है कि विराट कितने फ़िट हैं? क्या वो नंबर 4 पर बल्लेबाज़ी के लिए आ सकेंगे? पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर की राय इन सबसे अलग है. सनी कहते हैं, "मुझे नहीं लगता है कि विराट को नंबर 4 पर बल्लेबाज़ी के लिए आना चाहिए. उन्हें ज़्यादा चोट नहीं लगी है. लेकिन वो अगले टेस्ट में बल्लेबाज़ी के लिए और फ़िट हो सकते हैं. उन्हें बल्लेबाज़ी के लिए तभी आना चाहिए जब टीम एकाएक आउट होने लगे या उनकी ज़रूरत पड़ जाए. वरना टीम में (अजिंक्य) रहाणे, (करुण) नायर, (आर) अश्विन और (ऋद्धिमान) साहा जैसे बल्लेबाज़ हैं तो इसकी ज़रूरत नहीं पड़नी चाहिए." रांची में पहले दिन जिस तरह से कंगारू टीम ने बल्लेबाज़ी की और उसके बाद दूसरे दिन ग्लेन मैक्सवेल और कप्तान स्टीवन स्मिथ की शतकीय साझेदारी को देखते हुए ये भी आशंका जताई जा रही थी कि कहीं मेहमान टीम 500 का आंकड़ा पार ना कर ले. लेकिन टीम इंडिया मेहमान टीम को चुनौतीपूर्ण 451 के स्कोर पर रोकने में कामयाब रही. गावस्कर मानते हैं कि टॉस जीतना कंगारू टीम के लिए तो अहम रहा ही, कप्तान स्मिथ ने भी शानदार बल्लेबाज़ी कर अपनी टीम को मज़बूत हालत में पहुंचा दिया. गावस्कर के मुताबिक फ़िलहाल मैच में ऑस्ट्रेलिया का पलड़ा भारी नज़र आ रहा है.

पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने NDTV से ख़ास बातचीत में इन सबके पीछे टीम इंडिया के साथ ख़ासकर अजिंक्य रहाणे और रवींद्र जडेजा की जमकर तारीफ़ की. पूर्व कप्तान गावस्कर ने कहा, "अजिंक्य रहाणे एक अनुभवी कप्तान की तरह नज़र आये. जिस तरह से उन्होंने गेंदबाज़ी में बदलाव किये और जिस तरह से रवींद्र जडेजा ने शानदार गेंदबाज़ी की, उसकी वजह से ऑस्ट्रेलियाई टीम का स्कोर साढ़े चार सौ पर ही रुक गया." वो जडेजा की गेंदबाज़ी की तारीफ़ करते हुए ये भी कहते हैं कि बांये हाथ के इस स्पिनर ने क़रीब 90 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से गेंदबाज़ी की और कंगारू बल्लेबाज़ों को मुश्किल में डाले रखा.

28 साल के बाएं हाथ के स्पिनर जडेजा ने 29वें टेस्ट में 8वीं बार और इस सीरीज़ में दूसरी बार पारी में पांच विकेट झटकने का कारनामा कर दिखाया. सीरीज़ में जडेजा के नाम अब सबसे ज़्यादा 17 विकेट हैं जबकि टीम के नंबर 1 स्पिनर आर अश्विन के नाम 16 विकेट. सनी कहते हैं, "जिस तरह से बल्लेबाज़ी में पार्टनरशिप होती है, गेंदबाज़ी में भी बननी चाहिए. लेकिन जो काम अश्विन का था वो जडेजा ने कर दिखाया." गावस्कर ने ख़ासकर जडेजा की उस गेंद की काफ़ी तारीफ़ की जिसपर उन्होंने पैट कमिंस को आउट किया. गावस्कर बताते हैं कि उनकी उस गेंद ने कॉमेन्ट्री बॉक्स में बैठे माइकल क्लार्क को भी बेहद प्रभावित किया. क्लार्क ने बताया कि जडेजा ने उन्हें वैसे ही आउट किया था.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement