NDTV Khabar

जन्मदिन विशेष: उस एक रात और एक मैच ने बदल दी विराट कोहली की जिंदगी...

विराट कोहली, जब यह बल्लेबाज मैदान पर होता है तो बड़े बड़े गेंदबाज़ों की हालत खराब हो जाती है।.पिछले दो सालों से विराट कोहली ने शानदार प्रदर्शन करते हुए कई रिकॉर्ड बनाए हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जन्मदिन विशेष: उस एक रात और एक मैच ने बदल दी विराट कोहली की जिंदगी...

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. इंडियन कैप्टन कोहली का आज जन्मदिन है
  2. कोहली का जन्म 5 नवंबर 1988 को दिल्ली में हुआ था
  3. उस एक रात और एक मैच ने बदल दी विराट कोहली की जिंदगी
नई दिल्ली: विराट कोहली, जब यह बल्लेबाज मैदान पर होता है तो बड़े बड़े गेंदबाज़ों की हालत खराब हो जाती है।.पिछले दो सालों से विराट कोहली ने शानदार प्रदर्शन करते हुए कई रिकॉर्ड बनाए हैं. सिर्फ कप्तान के रूप में नहीं बल्कि एक खिलाड़ी के रूप में भी विराट क्रिकेट प्रेमियों का दिल जीतने में कामयाब हुए हैं. समय के साथ-साथ विराट के व्यवहार में भी कई बदलाव आए हैं. एक इंटरव्यू के दौरान विराट कोहली ने कहा था कि उस दिन वह ज्यादा खुश होंगे, जिस दिन ज्यादा से ज्यादा बच्चे क्रिकेट खेलने लगेंगे और यह कहेंगे कि वह विराट कोहली जैसा बनाना चाहते हैं. कोहली का यह सपना पूरा होते दिख रहा है. आज विराट कोहली का जन्मदिन है. कोहली का जन्म 5 नवंबर 1988 को दिल्ली में हुया. वह 29 साल के हो गए हैं.
 
 मेहनत और निष्ठा से बुरे दौर को पीछा छोड़ा
एक समय ऐसा था जब विराट कोहली के करियर को लेकर कई सवाल उठाये जा रहे थे. कोहली बल्लेबाज के रूप में विफल हो रहे थे, लेकिन अपनी मेहनत और निष्ठा से अपने बुरे दौर को पीछे छोड़ते हुए वह आगे निकल गए. सचिन तेंदुलकर जैसे बल्लेबाज़ों से सलाह लेते हुए उन्होंने अपने बल्लेबाजी में कई बदलाव किए. अपनी कमज़ोरी के ऊपर ज्यादा ध्यान देते हुए उसमें सुधार किए. भारतीय क्रिकेट के वर्तमान दौर की बात होती है तो सबसे ज्यादा जिस नाम का चर्चा होता है वो है-विराट कोहली. सिर्फ खेल नहीं, मैदान के अंदर विराट कोहली के व्यवहार में भी काफी बदलाव आया है. मैदान के अंदर ज्यादा क्रोधी दिखने वाले कोहली अब एक परिपक्व खिलाड़ी की तरह व्यवहार करने लगे हैं जो कि एक अच्छी बात है.  
 
 यह भी पढ़ें: Happy Birthday Kohli: अपने आदर्श सचिन तेंदुलकर से इस मामले में अलग हैं विराट

कोहली ने अपना पापा का सपना पूरा किया
विराट कोहली क्रिकेट के प्रति अपनी प्रतिबद्धता के लिए जाने जाते हैं. 2006 में रणजी ट्रॉफी मैच के दौरान जिसने विराट को देखा होगा शायद ही वह क्रिकेट के प्रति उनकी प्रतिबद्धता पर कभी सवाल उठाएगा. यह एक ऐसा मैच था, जिसने विराट की जिंदगी बदल दी थी. जिस दिन विराट को बैटिंग करनी थी उससे एक रात पहले उनके पिताजी का देहांत हो गया. विराट के सामने दो विकल्प थे - अगले दिन मैच खेलकर दिल्ली को हार से बचाना या अपने पिताजी के दाह-संस्कार में शामिल होना. जब पूरी टीम उम्मीद कर रही थी कि विराट अपने पिताजी के दाह-संस्कार में जाएंगे, तब सबको हैरान करते हुए कोहली अगले दिन बैटिंग करने के लिए मैदान पर उतरे.
 
उस पारी ने कोहली की ज़िंदगी बदल दी
उसी पारी में शानदार बल्लेबाजी करते हुए कोहली ने 90 रन बनाए और दिल्ली को कर्नाटक से हारने से बचा लिया. इस पारी ने कोहली को एक नयी पहचान दी थी. क्रिकेट के प्रति उनकी निष्ठा को देखकर सब हैरान हो गए थे. अपनी पारी पूरी करने के बाद विराट अपने पिताजी के दाह-संस्कार के लिए पहुंचे थे. उस एक ही रात ने विराट की जिंदगी को बदल दिया था. पिताजी की मौत के बाद विराट टूट तो जरूर गए थे, लेकिन अपने पिताजी के सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने जो किया वह काबिलेतारीफ है. एक इंटरव्यू के दौरान जब विराट को इस पारी के बारे में पूछा गया था तो इसका जवाब देते हुए विराट बोले कि उन के लिए यह भी पाप होता अगर वह पारी को बीच में छोड़कर चले जाते.
 
यह भी पढ़ें: Happy Birthday Virat Kohli : चेहरे और कपड़ों पर पोता गया केक, मुस्कुराते रहे विराट कोहली

टिप्पणियां
कोहली के कप्तानी भारत ने जीता अंडर-19 वर्ल्ड कप
घरेलू मैचों में शानदार प्रदर्शन करते हुए विराट ने अपने आपको एक शानदार खिलाड़ी के रूप में साबित किया. विराट कोहली 92 प्रथम श्रेणी मैच खेलते हुए करीब 51 की औसत से 6907 रन बना चुके हैं. विराट कोहली लगातार अच्छे प्रदर्शन करते आ रहे थे. 2004 में दिल्ली की तरफ से विराट कोहली का अंडर-17 विजय मर्चेंट ट्रॉफी के लिए चयन हुआ. इस सीरीज में कोहली ने 117 की औसत से 470 रन बनाए. फिर अगले साल भी कोहली ने विजय मर्चेंट ट्रॉफी में शानदार प्रदर्शन करते हुए 7 मैच खेलते हुए सबसे ज्यादा 757 रन बनाये. शानदार प्रदर्शन के लिए कोहली को अंडर-19 टीम का कप्तान बनाया गया. कोहली की कप्तानी में भारत ने अंडर-19 वर्ल्ड कप में काफी शानदार प्रदर्शन किया था. कोहली ने खुद शानदार बल्लेबाजी करते हुए छह मैचों में करीब 47 की औसत से 235 रन बनाये थे और वेस्ट-इंडीज के खिलाफ 47 गेंदों पर 100 रनों की पारी उस वक्त चर्चा का विषय बनी थी.
 
जब एकदिवसीय मैच में मिला मौका
कोहली के अंडर-19 वर्ल्ड कप के शानदार प्रदर्शन ने सबको प्रभावित किया था, फिर श्रीलंका दौरे के लिए 2008 में कोहली का चयन हुआ. जब सहवाग और तेंदुलकर पूरी तरह फिट नहीं थे तब ओपनर के रूप में टीम इंडिया में कोहली को मौका मिला. श्रीलंका के खिलाफ इस सीरीज में कोहली ने करीब 32 की औसत से 159 रन बनाए जिसमें एक अर्धशतक भी शामिल था. 24 दिसंबर 2009 को कोहली ने अपने एकदिवसीय करियर का पहला शतक श्रीलंका के खिलाफ बनाया. इस मैच में भारत ने जब 315 रनों का पीछा करते हुए सिर्फ 23 रनों के स्कोर पर सहवाग और तेंदुलकर का विकेट गंवा दिया था तब कोहली ने गौतम गंभीर के साथ मिलकर शानदार बल्लेबाजी करते हुए 107 रन बनाए थे. भारत ने इस मैच को जीत लिया था. गंभीर भी इस मैच में 150 रन पर नाबाद थे. अब तक कोहली 202 एकदिवसीय मैच खेलते हुए करीब 56 की औसत से 9030 बना चुके हैं जिसमें 32 शतक और 45 अर्धशतक शामिल हैं.
 
 यह भी पढ़ें: INDvsNZ: राजकोट टी20 मैच में विराट कोहली ने हासिल की यह बड़ी उपलब्धि

टेस्ट मैचों में भी किया है अच्छा प्रदर्शन
एकदिवसीय करियर शुरू करने के तीन साल बाद विराट कोहली को टेस्ट टीम में मौका मिला. 20 जून 2011 को कोहली ने अपना पहला टेस्ट मैच वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला. इस मैच में कोहली दोनों पारियों में कुल मिलाकर सिर्फ 19 रन बना पाए थे. वेस्टइंडीज के खिलाफ इस सीरीज में कोहली कुछ खास नहीं कर पाए और तीन टेस्ट मैच खेलते हुए सिर्फ 72 रन बना पाए. इस सीरीज से ऐसा लग रहा था शायद टेस्ट खिलाड़ी के रूप में उनका करियर ज्यादा दिन नहीं चल पाएगा, लेकिन 22 नवंबर 2011 को वेस्टइंडीज के खिलाफ दोनों पारियों में अर्धशतक लगाकर कोहली ने हवा के रुख को बदल दिया था. कोहली ने अपना पहला टेस्ट शतक ऑस्ट्रेलिया जैसी शानदार टीम के खिलाफ 24 जनवरी 2012 को एडेलैड के मैदान पर ठोका था. अब तक कोहली ने 60 टेस्ट मैच खेलते हुए करीब 50 की औसत से 4658 रन बनाये हैं, जिसमें 17 शतक शामिल हैं. वेस्टइंडीज के खिलाफ और वेस्टइंडीज के मैदान पर अपना टेस्ट करियर शुरू करने वाले कोहली ने अपना पहला दोहरा शतक भी वेस्टइंडीज के खिलाफ और वेस्टइंडीज के मैदान पर 21 जुलाई 2016 को ठोका था..
 
VIDEO: पैर भी बांध दिए जाएं तो भी विराट कोहली रन बनाएंगे : सुनील गावस्कर
वर्ल्ड टी-20 में भी शानदार प्रदर्शन
विराट कोहली ने अपना पहला टी20 मैच 12 जून 2010 को ज़िम्बाब्वे के खिलाफ खेला था. इस मैच में कोहली 26 रन पर नॉटआउट थे. टी-20 में अपना पहला अर्धशतक कोहली ने श्रीलंका के खिलाफ 7 अगस्त 2012 को मारा था. अब तक कोहली ने 54 अंतरराष्ट्रीय टी-20 मैच खेलते करीब हुए करीब 54 की औसत से 1943 रन बना चुके हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement