वीरेंद्र सहवाग का आलोचकों को जवाब, कश्मीरी युवक को जीप से बांधने वाले सेना के मेजर की बहादुरी को सलाम किया...

कश्मीर में श्रीनगर लोकसभा सीट के लिए हुए मतदान के दौरान पोलिंग अधिकारियों और साथियों को पत्थरबाजों से बचाने के लिए पत्थरबाजों में से एक व्यक्ति को जीप से बांधने वाले सेना के मेजर को सम्मानित किए जाने का कई लोगों ने समर्थन किया है.

वीरेंद्र सहवाग का आलोचकों को जवाब, कश्मीरी युवक को जीप से बांधने वाले सेना के मेजर की बहादुरी को सलाम किया...

वीरेंद्र सहवाग सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहते हैं...

खास बातें

  • अभिनेता अनुपम खेर में भी मेजर को स्मानित किए जाने पर खुशी जताई है
  • मेजर लीतुल गोगोई के खिलाफ जांच कमेटी भी गठित की गई थी
  • गोगोई को सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने सम्मानित किया है
नई दिल्ली:

कश्मीर में श्रीनगर लोकसभा सीट के लिए हुए मतदान के दौरान पोलिंग अधिकारियों और साथियों को पत्थरबाजों से बचाने के लिए पत्थरबाजों में से एक व्यक्ति को जीप से बांधने वाले सेना के मेजर को सम्मानित किए जाने का कई लोगों ने समर्थन किया है. समर्थकों में अभिनेता अनुपम खेर के साथ-साथ कई खिलाड़ी भी शामिल हैं. अब सोशल मीडिया पर बेहद सक्रिय रहने वाले क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने भी उनकी सराहना करते हुए उनको सलाम किया है और एक खास संदेश दिया है... हालांकि इस दौरान उनसे अनजाने में एक गलती भी हो गई...

आमतौर पर सोशल मीडिया में मजाकिया ट्वीट करके लोगों का ध्यान खींचने वाले सहवाग ने इस बार गंभीरता दिखाते हुए उन लोगों को कड़ा संदेश दिया है, जो जवान की इस पहल की आलोचना कर रहे थे. हालांकि उन्होंने मेजर का नाम गलत लिखा दिया. वास्तव में उनका नाम लीतुल गोगोई है, जबकि सहवाग ने नितिन गोगोई लिखा. फिर भी उनकी मंशा जवान का सम्मान करने की है और उनके संदेश में यह साफ देखा जा सकता है...

सहवाग ने लिखा, 'मेजर नितिन गोगोई आपको कमेंडेशन मेडल मिलने की बधाई. आपने हमारे सैनिकों और ड्यूटी कर रहे अन्य अधिकारियों को सकुशल बाहर निकाल करके अद्भुत साहस का प्रदर्शन किया है.'
 

 
गौरतलब है कि आतंकवाद विरोधी अभियान में निरंतर प्रयास करने के लिए मेजर गोगोई को पुरस्कृत किया गया है. मेजर लीतुल गोगोई की श्रीनगर लोकसभा सीट के लिए नौ अप्रैल को हुए उपचुनाव में सेना के एक वाहन में एक व्यक्ति को बांधे हुए दिखाये जाने वाले वीडियो के वायरल होने पर सार्वजनिक आलोचना शुरू हो गई थी, जिसके बाद सेना ने एक जांच गठित की थी. इसके बचाव में सेना की ओर से कहा गया कि अगर उस व्यक्ति को ढाल की तरह नहीं खड़ा किया जाता तो सैकड़ों लोगों की भीड़ पोलिंग अधिकारियों और अर्द्धसैनिक बलों के जवानों पर हमला कर देती.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सहवाग के ट्वीट के बाद उनके फैन्स ने भी मेजर के समर्थन में कई ट्वीट किए....