NDTV Khabar

वीवीएस लक्ष्‍मण अपनी 281 रन की ऐतिहासिक पारी को नहीं, इस पारी को मानते हैं 'वेरी-वेरी स्‍पेशल'

लक्ष्‍मण ऑफ स्‍टंप के बाहर की गेंदों को लेग साइड में चौके के लिए बाहर भेजने में माहिर थे, इसी कारण उनके खिलाफ फील्डिंग सजाना किसी भी विपक्षी कप्‍तान के लिए सिरदर्द साबित होता था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
वीवीएस लक्ष्‍मण अपनी 281 रन की ऐतिहासिक पारी को नहीं, इस पारी को मानते हैं 'वेरी-वेरी स्‍पेशल'

वीवीएस लक्ष्‍मण ने टेस्‍ट क्रिकेट में ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ कई यादगार पारियां खेलीं (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. सिडनी की अपनी 167 रन की पारी को सबसे अहम माना
  2. कहा, इस पारी ने उच्‍च स्‍तर पर आगे बढ़ने का भरोसा दिया
  3. भारत के लिए लक्ष्‍मण ने 134 टेस्‍ट और 86 वनडे खेले
हैदराबाद:

टीम इंडिया (Team India)के पूर्व क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्‍मण (VVS Laxman) को उनकी कलात्‍मक बल्‍लेबाजी के लिए जाना जाता था. हैदराबाद के लक्ष्‍मण ऑफ स्‍टंप के बाहर की गेंदों को लेग साइड में चौके के लिए बाहर भेजने में माहिर थे, इसी कारण उनके खिलाफ फील्डिंग सजाना किसी भी विपक्षी कप्‍तान के लिए सिरदर्द साबित होता था. अपने चमकदार करियर के दौरान वीवीएस लक्ष्मण ने कई मैच विजेता पारियां खेली जिसमें ईडन गार्डन्स की ऐतिहासिक 281 रन की पारी भी शामिल है, लेकिन लक्ष्‍मण अपनी इस पारी को अपनी सबसे खास नहीं मानते. उन्‍होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी में खेली गयी 167 रन की पारी को अपने करियर के लिये महत्वपूर्ण करार दिया. गौरतलब है कि लक्ष्‍मण की 281 रन की इस पारी की बदौलत भारतीय टीम ने फॉलोआन खेलने के बावजूद ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ यादगार जीत हासिल की थी.
 
लक्ष्‍मण को बर्थडे पर बधाई देते हुए सचिन ने उजागर कर दिया उनका ड्रेसिंग रूम का सीक्रेट...

टिप्पणियां

लक्ष्मण ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी में 2000 में बनाये गये शतक को अपने 17 शतकों में सर्वश्रेष्ठ बताया. उन्होंने अपनी आत्मकथा ‘281 एंड बियोंड' के विमोचन के अवसर पर कहा, ‘281 निश्चित तौर पर मेरे लिये बेहद यादगार पारी है. कोलकाता का वह टेस्ट मैच और वह सीरीज मेरे लिये यादगार है, लेकिन 167 रन की पारी ने मेरे अंदर आत्मविश्वास भरा कि मैं उच्चस्तर पर अच्छा प्रदर्शन कर सकता हूं.' लक्ष्मण ने कहा, ‘क्योंकि तब हम जैसी स्थिति में थे और जिस तरह की परिस्थितियां थी. तब परिस्थितियां काफी चुनौतीपूर्ण थी और हम दुनिया के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी आक्रमण का सामना कर रहे थे. मैंने अपना पहला टेस्ट शतक बनाया और यह मेरे लिये महत्वपूर्ण था क्योंकि इससे मुझे लगा कि मेरे अंदर उच्च स्तर पर अच्छा प्रदर्शन करने की क्षमता है.'


वीडियो: मैडम तुसाद म्‍यूजियम में विराट कोहली एक नवंबर को ही 44 वर्ष पूरे करने वाले लक्ष्‍मण ने अपने क्रिकेट करियर के दौरान 134 टेस्‍ट और 86 वनडे मैच खेले. टेस्‍ट क्रिकेट में उन्‍होंने 45.97 के बेहतरीन औसत से 8781 रन बनाए जिसमें 17 शतक शामिल थे. वनडे मैचों में लक्ष्‍मण ने भारत के लिए 2338 रन बनाए. उनका औसत 30.76 का रहा और उन्‍होंने छह शतक जमाए. वनडे में 131 रन लक्ष्‍मण का सर्वोच्‍च स्‍कोर रहा.(इनपुट: एजेंसी)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement