NDTV Khabar

वसीम जाफर 'बड़ा इतिहास' रचने की कगार पर पहुंचे, बन पाएंगे पहले एशियाई बल्लेबाज? निशाने पर ये 3 पारियां

यह पारी यह बताती है कि क्रिकेट के प्रति वसीम जाफर का समर्पण किस स्तर का है. वास्तव में वसीम भारत के लिए उतनी क्रिकेट नहीं खेल सके, जिसके वह हकदार थे

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
वसीम जाफर 'बड़ा इतिहास' रचने की कगार पर पहुंचे, बन पाएंगे पहले एशियाई बल्लेबाज? निशाने पर ये 3 पारियां

खास बातें

  1. ..तो ये तीनों पारियां नहीं ही बचेंगी!
  2. शेष भारत में दिग्गजों की भरमार, वसीम को नहीं कर सके पार!
  3. ईरानी ट्रॉफी के दूसरे दिन 285 रन बनाकर नाबाद हैं जाफर
नई दिल्ली: चालीस साल से उम्र में प्रथम श्रेणी क्रिकट में दोहरा शतक बनाने वाले सिर्फ पांचवां बल्लेबाज बनने के बाद अब वसीम जाफर अब उस इतिहास को रचने की कगार पर खड़े हैं, जो उनसे पहले भारत सहित कोई भी एशियाई बल्लेबाज नहीं ही रच सका है. शेष भारत टीम में आर अश्विन जैसे दिग्गज गेंदबाजों के सामने खेलते हुए वसीम जाफर ईरानी ट्रॉफी के दूसरे दिन 285 रन बनाकर नाबाद हैं. बता दें कि वसीम जाफर से पहले विश्व के सिर्फ चार बल्लेबाज ही प्रथम श्रेणी क्रिकेट में चालीस साल से ऊपर की उम्र में तिहरा शतक बना चुके हैं. चलिए बारी-बारी से इनके और इनसे जुड़ी और बातों के बारे में जान लीजिए. 
 
 उम्र                                    बल्लेबाज               रन                    टीम                     बनाम               साल

48 साल, 17 दिन              डब्ल्यूजी ग्रेस              301             ग्लूस्टरशायर              ससेक्स     4 अगस्त 1986
44 साल, 5 महीने, 19 दिन    पैसी हेंड्रेन               301*             मिडिलसेक्स      वूरस्टरशायर   24 जुलाई 1933
41 साल, 6 महीने,            बॉबी एबल                 357*                  सर्रे                     समरसेट        30 मई 1899
41 साल, 2 महीने, 9 दिन    डेव नॉर्स  नटाल        304*                  नटाल                    ट्रांसवॉल     3 अप्रैल 1920



यह भी पढ़ें :  IND VS BAN: इन 'मिक्स रिकॉर्डों' में मोहम्मद सिराज साबित हुए सबसे अनलकी!

अब वसीम जाफर के पास शुक्रवार के पास 40 साल 28 साल की उम्र में खुद का नाम इतिहास में दर्ज कराने का सुनहरा मौका होगा. और जिस अंदाज में वह बल्लेबाजी कर रहे हैं, उससे लगता है कि यह रिकॉर्ड उनकी झोली में आएगा ही आएगा. 

VIDEO: दोहरा शतक पूरा करने के बाद अभिवादन स्वीकार करते वसीम जाफर और यह भी तय है कि अगर वसीम जाफर ने एक बार तीन सौ रनों का आंकड़ा छू लिया, तो ऊपर बताए गए चालीस साल की उम्र के चार में तीन सर्वश्रेष्ठ पारियों के स्कोर को वह पीछे जरूर छोड़ देंगे. वहीं बता दें कि जाफर पहले से ही 40 से ज्यादा की उम्र में 250 से ऊपर का स्कोर बनाने वाले पहले एशियाई बल्लेबाज बन चुके हैं. वास्तव में जाफर के पास चालीस से ऊपर की उम्र में दूसरा सर्वश्रेष्ठ स्कोर बनाने का बेहतरीन मौका है. 


 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement