यशस्वी जायसवाल ने खोला अंडर-19 वर्ल्ड कप में बेहतरीन परफॉरमेंस का राज़

भारतीय क्रिकेट के आने वाले समय में बड़े खिलाड़ी के तौर पर देखे जा रहे जायसवाल ने कहा कि टूर्नामेंट के दौरान उसने सीखा कि दवाब के क्षणों में कैसे बल्लेबाजी करनी है

यशस्वी जायसवाल ने खोला अंडर-19 वर्ल्ड कप में बेहतरीन परफॉरमेंस का राज़

यशस्वी जायसवाल वर्ल्ड कप में प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट रहे थे

नई दिल्ली:

अंडर-19 विश्व कप में मैन आफ द सीरिज रहे भारत के यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) ने भारत लौटने के बाद खत्म हुए वैश्विक टूर्नामेंट में अपनी शानदार सफलता के राज को साझा किया है. ध्यान  दिला दें कि यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal)अंडर-19 वर्ल्ड कप में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे. और उन्हें प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट का का खिताब भी मिला था. उनकी ट्रॉफी भी बात में टूट गई थी. हालांकि अब यह सही हो चुकी है. यशस्वी जायसवाल ने अंडर-19 वर्ल्ड कप के छह मैचों की इतनी ही पारियों में 133.33 के औसत से 400 रन बनाए थे. इसमें पाकिस्तान के खिलाफ सेमीफाइनल में लगायी गयी नाबाद शतकीय पारी भी शामिल है.

यह भी पढ़ें: कुछ ऐसे भारतीय पूर्व और वर्तमान क्रिकेटरों ने वैलेंटाइन-डे पर किया अपनी चाहत का इजहार, Pictures

भारत लौटने के बाद यशस्वी ने कहा कि एस्ट्रो टर्फ पिचों पर अभ्यास करने से उन्हें दक्षिण अफ्रीका की उछाल भरी पिचों पर अच्छा खेलने में मदद मिली. जायसवाल ने कहा कि ज्वाला सर (उनके मेंटोर) ने मुझे कहा था कि मुझे वहां से सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का पुरस्कार लाना है. हमने उछाल भरी पिचों पर बल्लेबाजी का काफी अभ्यास किया था. हमने शार्ट गेंद खेलने का भी काफी अभ्यास किया था.' इस खिलाड़ी ने कहा, ‘मैं शार्ट गेंद को या तो खेल रहा था या छोड़ रहा था. एस्ट्रो टर्फ पर वैसा ही उछाल होता है, जैसा वहां की पिचों पर, इसलिए मैंने एस्ट्रो टर्फ पिचों पर बल्लेबाजी का अभ्यास किया जिसका फायदा हुआ.'

यह भी पढ़ें: कुछ ऐसे भारतीय पेस बैटरी ने पहले टेस्ट से पहले कीवियों को दिखायी पावर

भारतीय क्रिकेट के आने वाले समय में बड़े खिलाड़ी के तौर पर देखे जा रहे जायसवाल ने कहा कि टूर्नामेंट के दौरान उसने सीखा कि दवाब के क्षणों में कैसे बल्लेबाजी करनी है. उन्होंने कहा, ‘अलग-अलग देशों में खेलने का अनुभव शानदार रहा. यहां पिचें अलग तरह की थीं. मैंने मैच के साथ नेट अभ्यास के दौरान भी बल्लेबाजी का लुत्फ उठाया.' बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने कहा, ‘मुझे खेल के दौरान दबाव से निपटने के बारे में काफी कुछ सीखने को मिला क्योंकि ज्यादातर मैचों में दबाव था.'

VIDEO:  पिंक बॉल बनने की पूरी कहानी, स्पेशल स्टोरी. 

मुंबई में टेंट में रहने के साथ पानी-पूरी बेचकर गुजारा करने वाले जायसवाल ने इस मौके पर जूनियर टीम के मुख्य चयनकर्ता आशीष कपूर के प्रति आभार जताया, जिन्होंने उन्हें पारी का आगज करने की सलाह दी थी. उन्होंने कहा, ‘अंडर-19 टीम के सभी चयनकर्ताओं ने मेरी मदद की. आशीष कपूर सर की वजह से मैंने पारी का अगाज करना शुरू किया. मैं सभी चयनकर्ताओं और कोचों का शुक्रिया अदा करना चाहूंगा'

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com