छावला में 90 वर्षीय बुज़ुर्ग महिला के साथ दुष्कर्म, दिल्ली महिला आयोग अध्यक्षा स्वाति मालीवाल पीड़िता से मिलीं

दिल्ली के छावला, नज़फगढ़ इलाके में मानवता को शर्मसार करने वाली घटना सामने आयी है. एक 90 वर्षीय महिला के साथ बलात्कार और मारपीट की गई है.

छावला में 90 वर्षीय बुज़ुर्ग महिला के साथ दुष्कर्म, दिल्ली महिला आयोग अध्यक्षा स्वाति मालीवाल पीड़िता से मिलीं

पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार

नई दिल्ली:

दिल्ली के छावला, नज़फगढ़ इलाके में मानवता को शर्मसार करने वाली घटना सामने आयी है. एक 90 वर्षीय महिला के साथ बलात्कार और मारपीट की गई है. बुज़ुर्ग महिला के अनुसार शाम को करीब 5 बजे अपने घर के बाहर दूध वाले के इंतज़ार कर रही थी. उसी वक्त एक अनजान व्यक्ति ने उन्हें आकर कहा कि दूधवाला आज नहीं आया है और वो उन्हें दूध वाले के पास ले जाएगा. व्यक्ति बुज़ुर्ग महिला को लेकर रेवला खानपुर फार्म ले गया और वहां महिला के साथ ज़बरदस्ती कर बुरी तरह से बलात्कार किया. जब महिला ने अपना बचाव करना चाहा तो उनके साथ मारपीट भी की गई. महिला बहुत दर्द में रोती रही और उस आदमी से रहम की भीख मांगती रही. उसे याद दिलाती रही की वो उसकी दादी के उमर की है पर उसने एक न सुनी.

महिला की आवाज़ सुनकर गांव के कुछ लोगों को पता चल गया और उसकी मदद के लिए पहुंचे. लोगों ने आरोपी को धर दबोचा और पुलिस को बुलाया. पुलिस द्वारा महिला के बेटे को भी बुलाया गया. वहां से पीड़िता को अस्पताल ले जाया गया और मेडिकल जांच कराई गई. महिला की MLC रिपोर्ट से कई चोटों की जानकारी मिलती है. महिला की मेडिकल जांच रिपोर्ट में साफ़ तौर से उनके शरीर और गुप्त अंगों पर चोटों की बात दर्ज है.

Newsbeep

पुलिस ने मामले में सेक्शन 376/323 IPC के तहत FIR दर्ज की है और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. आरोपी का नाम सोनू है और उसकी उम्र 33 वर्ष है और वो गांव रेवला खानपुर का रहने वाला है. दिल्ली महिला आयोग की टीम घटना की सूचना मिलने के वक्त से ही पीड़ित महिला के साथ है एवं उनकी मदद कर रही है. आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल और मेम्बर वंदना सिंह ने मंगलवार शाम को महिला से उनके घर पर जाकर मुलाकात की.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


महिला से मिलने के बाद स्वाति मालिवाल ने कहा, "6 महीने की बच्ची से लेकर 90 वर्ष की बुज़ुर्ग महिला तक कोई भी सुरक्षित नहीं है. इस उम्र में इन महिला को इस प्रकार की प्रताड़ना का सामना करना पड़ा. ये साफ दिखाता है ये कि इन घटनाओं को अंजाम देने वाले लोग इंसान नहीं जानवर हैं. मैं इन बुज़ुर्ग महिला से मिली हूं, इनको न्याय दिलवाने की जंग में हम इनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर साथ चलेंगे! हर हाल में इस केस में 6 महीने में फांसी होनी ही चाहिए!"