मां और बहन की हत्या करने वाली महिला को मौत की सजा

लोक अभियोजक हितेषी बेन गढ़वी ने बताया कि अदालत ने इस मामले को दुर्लभ से दुर्लभतम मानते हुए मंजू को भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत मौत की सजा सुनाई. उसे पांच वर्ष जेल की सजा भी सुनाई गई.

मां और बहन की हत्या करने वाली महिला को मौत की सजा

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:

कच्छ जिले के गांधीधाम की एक अदालत ने 21 वर्ष की एक युवती को अपनी मां और बहन की हत्या के आरोप में मौत की सजा सुनाई है. अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश डी आर भट्ट ने मंजू डुंगरिया को अपनी मां राजीबेन और बहन आरती की 17 फरवरी 2017 में हत्या करने पर मौत की सजा सुनाई. लोक अभियोजक हितेषी बेन गढ़वी ने बताया कि अदालत ने इस मामले को दुर्लभ से दुर्लभतम मानते हुए मंजू को भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत मौत की सजा सुनाई. उसे पांच वर्ष जेल की सजा भी सुनाई गई.

यह भी पढ़ें: दिल्ली के बड़े फाइनेंसर की हत्या का मामला सुलझा, चार आरोपी गिरफ्तार

मंजू के भाई विजय डुंगरिया ने पुलिस को दी अपनी शिकायत में आरोप लगाया था कि मंजू ने राजीबेन, आरती और अपनी एक अन्य बहन मधु पर 2017 को तड़के गांधीधाम के सुंदरपुरी इलाके में उस वक्त हमला किया, जब वे अपने घर में सो रही थीं. शिकायत के अनुसार विजय बाहर सो रहा था और अपनी मां की चीखें सुनकर जाग गया. वह तीनों को अस्पताल लेकर गया, जहां राजीबेन और आरती को मृत घोषित कर दिया गया, जबकि मधु का बचा लिया गया.

Newsbeep

VIDEO: 22 महीने बाद भी शव की तलाश जारी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


विजय की शिकायत के आधार पर मंजू को पुलिस ने उसी दिन गिरफ्तार कर लिया. सरकारी वकील ने कहा कि अदालत ने विजय और मधु की गवाही के आधार पर फैसला सुनाया है.