NDTV Khabar

बीवी के लिए खरीदने आया था गहने, हो गया किडनेप, 50 लाख रुपये की फिरौती देकर छुड़ाया गया

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी. कारोबारी ने इस बाबत एंटेली पुलिस थाने में रविवार को शिकायत दर्ज करवाई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बीवी के लिए खरीदने आया था गहने, हो गया किडनेप, 50 लाख रुपये की फिरौती देकर छुड़ाया गया

प्रतिकात्मक तस्वीर.

कोलकाता:

कोलकाता में एक बांग्लादेश के कारोबारी ने आरोप लगाया है कि कुछ लोगों ने उसे अगवा कर लिया था. उनके चंगुल से छूटने के लिए उसे 50 लाख रुपए की फिरौती देना पड़ी. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी. कारोबारी ने इस बाबत एंटेली पुलिस थाने में रविवार को शिकायत दर्ज करवाई है.बांग्लादेशी कारोबारी बशीर मियां ने शिकायत में कहा कि अपहरणकर्ताओं ने उसे उत्तर 24 परगना जिले के हावड़ा इलाके में एक अज्ञात स्थान पर बंधक बना कर रखा गया था.

अपनी रिहाई के लिए उसने उन्हें 50 लाख रुपए की फिरौती दी. बशीर अपनी पत्नी के लिए गहने खरीदने पिछले हफ्ते कोलकाता आए थे. वह अमेरिकी डॉलर लेकर आए थे. कुछ कारोबारी सौदों के सिलसिले में उन्होंने शनिवार को सियालदह इलाके में एक शॉपिंग मॉल में कुछ लोगों से मुलाकात की.

बांग्लादेश में ट्रेन हादसा 15 लोगों की मौत, 50 से अधिक लोग घायल


पुलिस अधिकारी ने बताया कि मुलाकात के बाद बशीर ने उनके साथ दिन का खाना शॉपिंग मॉल में ही खाया और फिर वह लोग एक अन्य व्यक्ति से मिलने हाबड़ा जाने के लिए ट्रेन में सवार हुए. हाबड़ा में वे लोग बशीर को अज्ञात स्थान पर ले गए और बंधक बना लिया. प्राथमिकी के मुताबिक, उन लोगों ने बशीर से उनके पिता को फोन लगवा कर करीब छह लाख रुपए की फिरौती मांगी. इसके अलावा बशीर के पास मौजूद 44 लाख रुपए भी अपहरणकर्ताओं ने छीन लिए. इसके बाद अपहरणकर्ताओं ने बशीर को भारत-बांग्लादेश सीमा पार भेजने का काम दो एजेंटों को सौंप दिया.

टिप्पणियां

बशीर के अनुसार जब उन्होंने सारी बात बीएसएफ के अधिकारियों को बताने की धमकी दी तो एजेंटों ने उन्हें छोड़ दिया.
इसके बाद बशीर ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई. पुलिस अधिकारी ने बताया कि मामले में जांच शुरू कर दी गई है.
 

VIDEO: बेंगलुरु में पकड़े गए बांग्लादेश और नाइजीरिया के अवैध घुसपैठिए



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement