NDTV Khabar

दुष्कर्म के आरोपों का सामना कर रहे बिशप फ्रैंको मुलक्कल गिरफ्तार: पुलिस 

यह कोई पहला मौका नहीं है जब बिशप मुलक्कल पर इस तरह के आरोप लगे हों. इससे पहले साल 2014 और 2016 के बीच उनके ऊपर एक नन से बार-बार बलात्कार करने और उसका यौन उत्पीड़न करने का आरोप लग चुका है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दुष्कर्म के आरोपों का सामना कर रहे बिशप फ्रैंको मुलक्कल गिरफ्तार: पुलिस 

आरोपी बिशप को पुलिस ने किया गिरफ्तार

नई दिल्ली:

एक नन से बलात्कार के आरोप में केरल पुलिस ने बिशप फ्रांको मुलक्कल को शुक्रवार रात को गिरफ्तार कर लिया. कोट्टयम के पुलिस अधीक्षक हरी शंकर ने बिशप को गिरफ्तार किए जाने की पुष्टि की. शंकर ने पत्रकारों से कहा कि नन बलात्कार मामले में जांच अधिकारी ने पाया कि बिशप ने अपराध किया है. ध्यान हो कि बिशप मुलक्कल को पोप ने उनकी जिम्मेदारियों से गुरुवार को ‘‘अस्थायी’’ तौर पर मुक्त कर दिया है. खास बात यह है कि यह कोई पहला मौका नहीं है जब बिशप मुलक्कल पर इस तरह के आरोप लगे हों. इससे पहले साल 2014 और 2016 के बीच उनके ऊपर एक नन से बार-बार बलात्कार करने और उसका यौन उत्पीड़न करने का आरोप लग चुका है.

यह भी पढ़ें: केरल में नन से रेप के आरोपी बिशप फ्रांको मुलक्कल को वेटिकन ने पद से हटाया


गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही जालंधर में नन से रेप के आरोपी बिशप फ्रैंको मुलक्कल ने पोप को पत्र लिखकर अपने पद से अस्थायी तौर पर हटने की इच्छा जताई थी. 16 सितंबर को लिखे गए पत्र में बिशप ने कहा था कि उन्हें अपना केस लड़ने के लिए और समय की जरूरत है. बिशप मुलक्कल ने कहा कि उन्हें कई बार केरल आना-जाना पड़ सकता है. ऐसे में वे अपनी जिम्मेदारियों को अस्थायी तौर पर सौंपना चाहते हैं. आपको बता दें कि केरल पुलिस ने बिशप को पूछताछ के लिए टीम के सामने उपस्थित होने को कहा है. इसके एक दिन बाद ही बिशप ने अपनी प्रशासनिक जिम्मेदारियां छोड़ दी थीं. बिशप मुलक्कल ने एक सर्कुलर में कहा, 'मेरी अनुपस्थिति में मोन्साइनोर मैथ्यू कोक्कन्डम सामान्य रूप से ही डायोसीस का प्रशासन देखेंगे'.यह सर्कुलर 13 सितंबर को जारी किया गया था.

यह भी पढ़ें: केरल में नन से रेप के आरोपी बिशप फ्रैंको मुलक्कल ने प्रशासनिक जिम्मेदारी छोड़ी

टिप्पणियां

मुलक्कल के खिलाफ कार्रवाई शुरू करने के लिए पुलिस पर बढ़ रहे दबाव के बीच बिशप को समन भेजने का फैसला महानिरीक्षक (एर्णाकुलम रेंज) सखारे की अध्यक्षता में हुई एक बैठक के बाद लिया गया था. इस बैठक में कोट्टायम जिला पुलिस अधीक्षक हरिशंकर और वायकॉम के पुलिस उपाधीक्षक के.सुभाष भी शामिल थे. सर्कुलर में बिशप ने कहा कि मामले की जांच कर रही पुलिस द्वारा उनके खिलाफ एकत्रित किए गए सबूतों में “बहुत से विरोधाभास’’ हैं. सर्कुलर की एक प्रति यहां मीडिया को उपलब्ध कराई गई. नन ने हाल ही में न्याय के लिए वेटिकन के तत्काल हस्तक्षेप और जालंधर डायोसीस के प्रमुख के पद से उनको हटाए जाने की मांग की थी.

VIDEO: केरल में नन से रेप का आरोपी बिशप को नोटिस.

नन ने आरोप लगाया था कि बिशप मुलक्कल अपने खिलाफ चल रहे मामले को दबाने के लिए “राजनीतिक और पैसों की ताकत” का इस्तेमाल कर रहे हैं. वहीं कुछ दिन पहले ही नन से बलात्कार के आरोप को लेकर दूसरे दिन भी केरल पुलिस की पूछताछ से गुजरे बिशप फ्रांको मुलक्कल को पोप फ्रांसिस ने पादरी की जिम्मेदारियों से तत्काल अस्थायी तौर पर मुक्त कर दिया है. कैथोलिक बिशप कॉन्फ्रेंस ऑफ इंडिया (सीबीसीआई) ने यह जानकारी दी. नन को न्याय दिलाने के लिए 13 दिन से प्रदर्शन कर रहीं ननों के समूह ने फैसले का स्वागत किया. उन्होंने कहा कि बिशप के खिलाफ संघर्ष में यह उनकी 'पहली जीत' है. (इनपुट भाषा से)
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement