NDTV Khabar

ग्रेटर नोएडा में बीजेपी नेता और उनके गनर की दिनदहाड़े हत्या

बीजेपी नेता का एक अन्य पीएसओ जख्मी, ग्रेटर नोएडा एक्सटेंशन से गाजियाबाद रोड पर साईं मंदिर के पास हुई वारदात

1.3K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
ग्रेटर नोएडा में बीजेपी नेता और उनके गनर की दिनदहाड़े हत्या

भारतीय जनता युवा मोर्चा के सदस्य शिवकुमार यादव की ग्रेटर नोएडा में हत्या कर दी गई (फाइल फोटो).

खास बातें

  1. बाइक पर आए दो बदमाशों ने फार्च्यूनर कार पर की अंधाधुंध फायरिंग
  2. भाजयुमो के सदस्य शिव कुमार यादव खुद भी विवाद में रहे हैं
  3. यादव को हत्या के मामले में उम्रकैद हुई, फिलहाल जमानत पर रिहा
नई दिल्ली: ग्रेटर नोएडा में भारतीय जनता युवा मोर्चा के सदस्य की गोली मारकर दिनदहाड़े हत्या कर दी गई. बदमाशों के हमले में उनके एक गनर की भी मौत हो गई, जबकि दूसरा गनर गंभीर रूप से घायल हो गया. इस हमले में 12 राउंड से ज्यादा गोलियां चलीं.

पुलिस के मुताबिक कोतवाली फेज-तीन क्षेत्र के बहलोलपुर गांव के रहने वाले भारतीय जनता युवा मोर्चा के सदस्य शिव कुमार यादव अपनी फार्च्यूनर कार से ग्रेटर नोएडा एक्सटेंशन से गाजियाबाद की ओर जा रहे थे.जब वे उस रोड पर बने साईं मंदिर के पास पहुंचे, तभी एक बाइक पर सवार दो लोगों ने पहले उनकी कार को ओवरटेक करने की कोशिश की और सफल न होने पर बाइक सवार एक बदमाश ने चालक और गनर बल्ली को गोली मार दी. इससे कार अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकराकर पलट गई.

यह भी पढ़ें : कश्मीर में बीजेपी नेता गौहर अहमद की हत्या, अंतिम यात्रा में शामिल हुए सैकड़ों लोग

कार के पलटने के बाद दोनों बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी. इस हमले में भाजयुमो नेता शिवकुमार यादव की मौके पर ही मौत हो गई. हमले में घायल गनर बल्ली ने बाद में दम तोड़ दिया. दूसरे गनर रहीसपाल का दिल्ली के एक अस्पताल में इलाज चल रहा है. एसएसपी लव कुमार ने बताया कि पुलिस अभी इस बात की जांच कर रही है कि इस वारदात को अंजाम देने वाले कौन थे और क्या कारण था. उन्होंने बताया कि घटना की जांच के लिए टीमें बना दी गई हैं और शीघ्र ही हत्यारों को पकड़ लिया जाएगा. 

सूत्र बताते हैं कि भाजयुमो नेता शिवकुमार खुद भी काफी विवादित थे. उन पर जमीनों पर कब्जा कर उनकी प्लाटिंग करने के कई आरोप थे. यह भी बताया जाता है कि गांव में भी उनके परिवार की काफी पुरानी रंजिश चली आ रही है. बताया जाता है कि उनके दादा, पिता, चाचा और मां की भी हत्या रंजिश में हुई थी. यह भी बताया जाता है कि पिता की हत्या का बदला लेने के लिए शिवकुमार और उनके परिवार के भाइयों ने भी दूसरी पार्टी के एक व्यक्ति की हत्या की थी. उस मामले में शिव कुमार को अदालत ने उम्रकैद की सजा सुनाई थी. फिलहाल वह जमानत पर जेल से बाहर थे. शिव कुमार की पहचान भूमाफिया के अलावा शिक्षा माफिया के तौर पर भी थी. सूत्र बताते हैं कि गाजियाबाद के विजयनगर थाना क्षेत्र के तिगड़ी में उनके कई स्कूल चल रहे हैं. उस पर भी काफी विवाद हैं.

टिप्पणियां
VIDEO : कश्मीर में बीजेपी नेता की हत्या

हाल ही में उन्होंने राजनीति में पैर जमाने की कोशिश शुरू की थी. कुछ माह पहले ही उन्होंने नोएडा में भारतीय जनता युवा मोर्चा की सदस्यता ली थी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement