NDTV Khabar

120 करोड़ रुपये का कर्ज लेने पर दो कंपनियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज 

पुलिस ने बताया कि बैंक के सहायक उपाध्यक्ष संजय शर्मा के गुरुवार को इस संबंध में शिकायत दर्ज कराने के बाद प्राथमिकी दर्ज की गई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
120 करोड़ रुपये का कर्ज लेने पर दो कंपनियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज 

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली: जाली दस्तावेज के जरिए एचडीएफसी बैंक से कथित तौर पर 120 करोड़ रुपये का कर्ज लेने के लिये दो कंपनियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा में दर्ज प्राथमिकी के अनुसार रशपाल सिंह टोड और मनधीर सिंह टोड के स्वामित्व वाली दो कंपनियों ने जाली दस्तावेजों का इस्तेमाल कर तकरीबन 120 करोड़ रुपये का कर्ज लिया. प्राथमिकी के अनुसार कि ये दोनो भारतीय मूल के हैं. उनके फर्जी दस्तावेज दिये जाने का मामला तब सामने आया जब आरोपी की ओर से बैंक में जमा कराए गए दस्तावेजों की जांच की गई .इसमें कहा गया कि आरोपियों ने मुनाफा दिखाने वाली बैलेंस शीट जमा कराई जबकि कंपनियां पिछले चार वर्षों से घाटे में चल रही थीं.

यह भी पढ़ें: ईडी ने अमरिंदर सिंह के दामाद के खिलाफ दर्ज किया मनी लांड्रिंग का केस, छापेमारी शुरू 

पुलिस ने बताया कि बैंक के सहायक उपाध्यक्ष संजय शर्मा के गुरुवार को इस संबंध में शिकायत दर्ज कराने के बाद प्राथमिकी दर्ज की गई. शिकायत के अनुसार दोनों कंपनियां गुरुग्राम के सेक्टर 53 स्थित उनके शोरूम और कार्यालय से हाई एंड लक्जरी कारों का कारोबार करती हैं. गौरतलब है कि इससे पहले भी एक ऐसा ही मामला सामने आया था. इस मामले में सीबीआई ने कंप्यूटर विनिर्माता आरपी इन्फो सिस्टम्स और उसके निदेशकों पर बैंकों के गठजोड़ के साथ कथित रूप से 515.15 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था.

यह भी पढ़ें: पुणे में एक प्राइवेट कंपनी के एमडी के खिलाफ यौन उत्पीड़न का मामला दर्ज

टिप्पणियां
अधिकारियों ने बताया कि जांच एजेंसी ने इस मामले में कोलकाता में छह स्थानों पर छापेमारी की. आरोप है कि कंपनी के निदेशकों शिवाजी पंजाख् कौस्तुव रे और विनय बाफना व उसके उपाध्यक्ष ने केनरा बैंक ओर नौ अन्य बैंकों के गठजोड़ के साथ 515.15 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है. सीबीआई ने सभी आरोपियों के आवास और कोलकाता में कंपनी के कारपोरेट कार्यालय पर छापेमारी की.

VIDEO: दो हिन्दूवादी नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज.

यह पहला मौका नहीं है जबकि कंपनी ने कानून का उल्लंघन किया है. इससे पहले 2015 में सीबीआई ने कंपनी द्वारा आईडीबीआई बैंक से 180 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था. पहले आईडीबीआई बैंक गठजोड़ का प्रमुख बैंक था. (इनपुट भाषा से) 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement