NDTV Khabar

बेटे ने मां के शव को 3 साल तक फ्रीजर में रखा : पुलिस पेंशन निकालने के संबंध में कर रही है जांच

ऐसी आशंका है कि उसके बेरोजगार बेटे ने महिला की पेंशन राशि लेने के लिए जरूरी उसके अंगूठे का निशान लेने के उद्देश्य से ऐसा किया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बेटे ने मां के शव को 3 साल तक फ्रीजर में रखा : पुलिस पेंशन निकालने के संबंध में कर रही है जांच

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

कोलकाता: कोलकाता में एक दिल दहला देने वाला ताजा मामला सामने आया जिसमें एक बेटे ने अपनी मृत मां के शव को तीन साल तक रसायन का लेप लगाकर फ्रीजर में रखा. इस मामले में कोलकाता पुलिस उस बैंक के संपर्क में है जहां से उसे शक है कि एक मृत महिला के नाम पर पेंशन निकाली जा रही थी.महिला के शव को उसके बेरोजगार बेटे ने पिछले तीन वर्षों से अपने घर में एक फ्रीजर में रखा हुआ था. पुलिस महिला के नाम पर दिये गये उस जीवन प्रमाणपत्र की वास्तविकता भी जांच रही है जिसे उसकी पेंशन के लिए बैंक में पेश किया गया था. ऐसी आशंका है कि उसके बेरोजगार बेटे ने महिला की पेंशन राशि लेने के लिए जरूरी उसके अंगूठे का निशान लेने के उद्देश्य से ऐसा किया. पुलिस ने गुरुवार को बुजुर्ग महिला बीना मजूमदार का शव उस फ्रीजर से बरामद किया था जिसका इस्तेमाल मीट रखने के लिए होता है. इस मृत शरीर को रसायन लगाकर तीन साल तक संरक्षित रखा गया था.

महिला का शव छाती से पेट तक कटा हुआ था और उसके अंदरूनी अंग निकाल लिये गये थे. यह विचित्र मामला शहर के दक्षिणी इलाके बेहाला के एक घर में उस समय सामने आया था जब एक पत्रकार ने इस संबंध में पुलिस को फोन किया. महिला का आरोपी बेटा सुब्रत मजूमदार (50) पिछले दो वर्षों से बेरोजगार है. सुब्रत और उसके पिता गोपाल चन्द्र मजूमदार को गुरुवार की रात गिरफ्तार किया गया था. उन्हें शुक्रवार को अलीपुर अदालत ले जाया गया.

यह  भी पढ़ें : लाश से मिली एक फोटो ने खोला हत्‍या का राज, पढ़ें क्‍या है पूरा मामला

टिप्पणियां
पुलिस ने पिता-पुत्र के खिलाफ आईपीसी की धारा 269 के तहत मामला दर्ज किया है. पुलिस ने बताया कि यह धारा जमानती है. जांच से जुड़े एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि पुलिस यह भी पता लगायेगी कि अवैध रूप से पेंशन निकालने में बैंक से उनकी किसी ने मदद तो नहीं की थी. उन्होंने कहा,‘पुलिस यह भी पता लगायेगी कि यह रसायन कहां से खरीदा गया था और क्या इसे एक वैध उद्देश्य दिखाकर खरीदा गया था.’ पुलिस ने बताया कि वे इस बात की भी जांच करेंगे कि अपनी मां के शव से अंदरूनी अंग निकालने में सुब्रत की किसने मदद की थी.

VIDEO : बीच-बचाव करना पड़ा महंगा, झगड़ा सुलझाने वाले की हत्या​
पड़ोसी जानते थे कि एक निजी अस्पताल में महिला का निधन हो चुका था लेकिन उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी कि उसके शव का क्या हुआ. पुलिस अधिकारी ने कहा कि महिला की मौत करीब तीन साल पहले हो चुकी थी और उसके शव को दो मंजिला मकान के भूतल में एक कमरे में विशाल फ्रीजर में बंद करके रखा गया था. बंद कमरे में दो फ्रीजर रखे हुये थे. अधिकारी ने कहा कि महिला का शव एक फ्रीजर में रखा हुआ था जबकि दूसरा फ्रीजर खाली पड़ा था. पुलिस यह जानने की कोशिश कर रही है कि दूसरा फ्रीजर किस उद्देश्य से रखा गया था. गोपाल चंद्र मजूमदार और बीना दोनों भारतीय खाद्य निगम में काम करते थे और उनकी अच्छी-खासी पेंशन है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement