NDTV Khabar

पश्चिम बंगाल : जहरीली शराब से मौत के मामले में चार आरोपी दोषी करार 

अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश पी. एस. चक्रवर्ती ने मुख्य आरोपी नूर इस्लाम फकीर उर्फ खोड़ा बादशाह एवं तीन अन्य दुखी लस्कर, खैरुल लस्कर और नजमूल उर्फ कोला लस्कर को मामले में दोषी पाया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पश्चिम बंगाल : जहरीली शराब से मौत के मामले में चार आरोपी दोषी करार 

प्रतीकात्मक चित्र

कोलकाता: पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना जिले की एक अदालत ने गुरुवार को जहरीली शराब पीने से मौत के 2011 एक मामले में चार लोगों को दोषी करार दिया. दिसंबर 2011 में दक्षिण 24 परगना जिला के संग्रामपुर में जहरीली शराब पीने से करीब 170 लोगों की मौत हो गयी थी. अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश पी. एस. चक्रवर्ती ने मुख्य आरोपी नूर इस्लाम फकीर उर्फ खोड़ा बादशाह एवं तीन अन्य दुखी लस्कर, खैरुल लस्कर और नजमूल उर्फ कोला लस्कर को मामले में दोषी पाया. इस मामले में शुक्रवार को सजा सुनायी जायेगी. अदालत ने साक्ष्यों के अभाव में छह अन्य को बरी कर दिया. गौरतलब है कि बिहार में ऐसे ही एक मामले में अदालत ने 15 लोगों कुछ दिन पहले ही दोषी करार दिया था.  

यह भी पढ़ें: आरा जहरीली शराब कांड : अदालत ने 15 दोषियों में से 14 को उम्रकैद की सजा सुनाई

बिहार के भोजपुर जिले में जहरीली शराब पीने से 21 लोगों की मौत के मामले में बिहार की एक अदालत ने 15 दोषियों में से 14 को आजीवन कारावास और एक को दो साल की सजा सुनाई. अदालत ने इन सभी आरोपियों को सुनवाई के बाद दोषी पाया था. आरा व्यवहार न्यायालय के प्रथम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश आऱ सी़ द्विवेदी ने सजा के बिंदु पर सुनवाई करते हुए विभिन्न धाराओं के तहत 14 लोगों को आजीवन कारावास तथा 25-25 हजार रुपये का आर्थिक दंड सुनाया. अदालत ने इन 15 आरोपियों में से 14 को एससी/एसटी एक्ट के तहत आजीवन कारावास, धारा 304 के तहत गैरइरादतन हत्या मामले में 10-10 साल की कैद और धारा 328 के तहत पांच वर्ष कैद की सजा सुनाई है.

टिप्पणियां
यह भी पढ़ें: झारखंड के सिमडेगा जिले में जहरीली हड़िया (शराब) पीने से 6 लोगों की मौत, 8 गंभीर

अदालत ने स्पष्ट कहा कि सभी सजाएं एक साथ चलेंगी. एक आरोपी को दो वर्ष कैद की सजा और 2000 रुपये का जुर्माना सुनाया गया है. भोजपुर जिले के नवादा थाना क्षेत्र के अनाइठ गांव में सात दिसंबर, 2012 को जहरीली शराब पीने से 21 लोगों की मौत हो गई थी. मरने वालों में पांच महिलाएं भी थीं. इस मामले में नवादा थाने में दो अलग-अलग प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी. पुलिस ने चार फरवरी, 2013 को 15 आरोपियों के खिलाफ अदालत में आरोपपत्र दाखिल किया. उसके बाद मामले की सुनवाई के क्रम में कुल 69 गवाहों के बयान कलमबंद किए गए. इस मामले में कई आरोपियों की संपत्ति भी जब्त की गई है.(इनपुट भाषा से) 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement