NDTV Khabar

अवैध हथियारों का धंधा करने वाले गिरोह का भंडाफोड़, पांच गिरफ्तार

मेरठ में हथियार बनाने की एक फैक्ट्री मिली, फैक्ट्री के बेसमेंट में भारी मात्रा में हथियार बनाने का समान और मशीनें बरामद

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अवैध हथियारों का धंधा करने वाले गिरोह का भंडाफोड़, पांच गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस ने अवैध हथियारों का जखीरा पकड़ा.

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने अवैध हथियारों को सप्लाई करने वाले एक बड़े गिरोह का भंडाभोड़ किया है. कुल 5 लोग गिरफ्तार किए गए हैं और 84 सेमी ऑटोमेटिक पिस्टल बरामद की गई हैं. ये हथियार मेरठ की एक फैक्ट्री में बनाए गए हैं.

हथियारों की इतनी बड़ी खेप किसी नुमाइश से कम नहीं लगती. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने इसे बरामद किया है. दरअसल स्पेशल सेल को जानकारी मिली कि दिल्ली के टीकरी बॉर्डर इलाके से हथियारों की एक बड़ी खेप जाने वाली है, इसी जानकारी के आधार पर पुलिस ने जाल बिछाया और एक गाड़ी को रुकने का इशारा किया, लेकिन बदमाशों ने गाड़ी नहीं रोकी और पुलिस पर ही गोली चला दी.

टिप्पणियां
पुलिस ने दो लोगों गैंग के सरगना सैदुल्ला और नसीम को पकड़ा जिनके पास से 65 पिस्तौलें मिलीं. इन्होंने पूछताछ में बताया कि ये हथियार मेरठ में तैयार किए जा रहे हैं. मेरठ में हथियारों की एक फैक्ट्री मिली जिसके बेसमेंट में भारी मात्रा में हथियार बनाने का समान और मशीनें थीं. पुलिस ने 3 कारीगरों को भी गिरफ्तार किया जो पिस्टल बनाने में एक्सपर्ट हैं, सभी आरोपी मुंगेर के रहने वाले हैं.

पुलिस की मानें तो सैदुल्ला 15 साल से अवैध हथियारों की तस्करी कर रहा है. पूछताछ में पता चला है कि एक कारीगर एक दिन में 3 पिस्टल बना लेता था. उसे एक पिस्टल के 2 हज़ार रुपये मिलते थे. पिस्तौल की कीमत 50 हज़ार से 80 हज़ार रुपये तक है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement