NDTV Khabar

दिल्ली पुलिस ने नौकरी के बहाने ठगी करने वाले 'बंटी बबली' को किया गिरफ्तार

गिरफ्तार आरोपी की पहचान चेतन सैनी और नैना सिंहल के रूप में की गई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली पुलिस ने नौकरी के बहाने ठगी करने वाले 'बंटी बबली' को किया गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस ने ठगी करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले 'बंटी बबली' को गिरफ्तार किया है. पुलिस के अनुसार आरोपी युवक और युवती लोगों से अलग-अलग तरीके से पैसे ठगते थे. खास बात यह कि दोनों आरोपी टेक सेवी और पढ़े लिखे हैं. नैना सिंघल ने बीटेक किया हुआ है जबकि चेतन डबल एमबीए है. गिरफ्तार आरोपी की पहचान चेतन सैनी और नैना सिंहल के रूप में की गई है. पुलिस की शुरुआती जांच में पता चला है कि दोनों गाजियाबाद में एक साथ रह रहे थे. दोनों ने वहीं अपना दफ्तर खोला हुआ था. दोनों आरोपी लोगों को नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करते थे. दक्षिणपूर्वी जिला पुलिस के डीसीपी चिन्मन बिश्वाल ने बाताय कि अभी तक जांच में पता चला है कि दोनों आरोपियों ने नौकरी डॉट कॉम पर अपने लिए अलग-अलग कंपनियां रजिस्टर्ड करवाई. इन साइट्स की मदद से ही वह लोगों को नौकरी देने का प्रलोभन देते थे.  इन साइट्स को इन्हें फर्जी कागजात के आधार पर रजिस्टर्ड कराया था. लोगों से नौकरी देने के नाम पर यह पहले उनसे सिक्यूरिटी डिपॉजिट मांगते थे. एक बार सिक्यूरिटी मनी एकाउंट में आते ही वह पैसे निकालकर खाता बंद करवा लेते थे.

यह भी पढ़ें: मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाला गिरोह गिरफ्तार

पुलिस की जांच में पता चला है कि आरोपियों ने जो खाते खुलावाया था उसे पैसे निकालने के बाद बंद करा देते थे. पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने माना कि अभी तक उन्होंने 50 से ज्यादा लोगों से लाखों रुपये की ठगी की है. पुलिस ने आरोपियों के पास से दर्जनों पैन कार्ड, पासबुक, एटीएम कार्ड, मोबाइल फोन और नकली जॉब लेटर भी बरामद किया है. पुलिस फिलहाल इस पूरे मामले की जांच में जुटी है. 
 
गौरतलब है कि इसी साल फरवरी में दिल्ली पुलिस ने एक ऐसे आरोपी को गिरफ्तार किया था जो मल्टीनेशनल कंपनियों में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करता था.पुलिस ने आरोपियों के पास से कई फर्जी दस्तावेज और लैपटॉप भी कब्जे में लिया है.

यह भी पढ़ें: विदेश भेजने के नाम पर ठगने वाले गिरोह का पर्दाफाश, चार गिरफ्तार

टिप्पणियां
गिरफ्तार आरोपी की पहचान अंकुश के रूप में की गई है. पुलिस  की शुरुआती जांच में आरोपी द्वारा अलग-अलग जगह कंपनी चलाते हुए 100 से ज्यादा लोगों को ठगने की बात सामने आ रही है. हालांकि पुलिस को अभी तक सिर्फ 50 ऐसे लोगों के बारे में पता चला है जिन्हें गिरोह ने ठगा है.शाहदरा जिला पुलिस उपायुक्त नुपूर प्रसाद के अनुसार कुछ दिन पहले आनंद विहार थाने में आरोपियों के खिलाफ शिकायत मिली थी. इसके बाद पुलिस की विशेष टीम ने मिली शिकायत पर काम करते हुए आरोपियों की तलाश शुरू की. पुलिस की जांच में पता चला कि आरोपी आनंद विहार स्थित जिस दफ्तर से यह प्लेसमेंट सेल चला रहे थे वह फर्जी दस्तावेज पर लिया गया था.

VIDEO: फर्जी आर्मी अफसर गिरफ्तार.

टीम ने पीड़ित द्वारा दिए उन फोन नंबर की भी जांच की जिनसे उनके पास नौकरी के लिए कॉल आए थे. जांच के दौरान ही पुलिस टीम को सूचना मिली की इस कंपनी का एक और ब्रांच जगतपुरी इलाके में चल रहा है.पुलिस की टीम ने वहां छापेमारी कर दो महिलाओं को हिरासत में लिया है. बाद में उनसे हुई पूछताछ के आधार पर इस गिरोह के सरगना और मुख्य आरोपी को गिरफ्तार किया गया.हम फिलहाल इस मामले की जांच कर रहे हैं. जरूरत पड़ने पर और भी गिरफ्तारी हो सकती है.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement