NDTV Khabar

लव कमांडो संस्था: सुरक्षा देने के नाम पर प्रेमी जोड़ों से जबरन वसूलते थे बड़ी रकम, विरोध करने पर करते थे मारपीट

पुलिस ने संस्था से जुड़े 3 और लोगों राजेश मल्होत्रा, कैलाश चंद और गोविंदा प्रेमी को रविवार को राजीव चौक मेट्रो स्टेशन से गिरफ्तार किया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लव कमांडो संस्था: सुरक्षा देने के नाम पर प्रेमी जोड़ों से जबरन वसूलते थे बड़ी रकम, विरोध करने पर करते थे मारपीट

पुलिस ने संस्था से जुड़े तीन लोगों को गिरफ्तार किया है.

नई दिल्ली:

अपने घर से निकले बागी प्रेमी जोड़ों की शादी कराने के नाम पर बनी संस्था लव कमांडो पर अब ऐसे ही जोड़ों से वसूली करने का आरोप लग रहा है. पुलिस ने इस संस्था के तीन और कर्मचारियों को अरेस्ट किया है. उनसे कई सनसनीखेज जानकारियां मिलने की बात कही जा रही है. लव कमांडो के पहाड़गंज में बने इस दफ्तर में प्रेमी जोड़े इस उम्मीद में आते थे कि उन्हें शरण और मदद मिलेगी. लेकिन यहां आकर पाते थे कि वो एक गिरोह के चंगुल में हैं. इन कमरों में उन्हें बहुत बुरी हालत में रखा जाता था, उनसे मारपीट होती थी, उनसे बड़ी रक़म ऐंठ ली जाती थी.

पुलिस ने संस्था से जुड़े 3 और लोगों राजेश मल्होत्रा, कैलाश चंद और गोविंदा प्रेमी  को रविवार को राजीव चौक मेट्रो स्टेशन से गिरफ्तार किया है. हाल ही दिल्ली महिला आयोग और पहाड़गंज पुलिस ने प्रेमी जोड़ों की शिकायत पर लव कमांडो के शेल्टर होम पर छापा मार कर कई प्रेमी जोड़ों को रिहा कराया. इन जोड़ों का आरोप है कि लव कमांडो के सदस्य उनकी मजबूरी का नाजायत फायदा उठा कर उनसे मोटी रकम वसूलते हैं. 

बिहार में मनचलों ने पहले की छेड़छाड़, फिर लड़के-लड़की को पीटा, वीडियो वायरल


इनकी वेबसाइट देखकर इनसे सम्पर्क करने वाले जोड़ों को पहले उनकी सुरक्षा की पूरी गारंटी दी जाती थी. उनको बताया जाता था कि शेल्टर में खाना, रहना फ्री होगा, केवल शादी के लिए क़ानूनी कार्यवाही का खर्च देना होगा. ये लोग इन युवक-युवतियों की डिग्री और आईडी अपने कब्जे में कर लेते थे. इसके बाद उनकी शादी करवाकर इन कागजात की एवज में रकम वसूलते थे.  

बिहार : रात में प्रेमिका से मिलने गया था शख्स, लड़की के परिजनों ने की जमकर पिटाई, मौके पर ही मौत

टिप्पणियां

बता दें, पुलिस ने हाल ही में लव कमांडो के चेयरमैन संजय सचदेवा को गिरफ्तार किया था, अब तक उसके बैंक अकाउंट में 48 लाख रुपये मिल चुके हैं, संस्था कई सालों से बिना रजिस्ट्रेशन ही चल रही थी. इसका रजिस्ट्रेशन 2018 में कराया गया. संजय सचदेव पहले केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का ओएसडी रह चुका है. पुलिस ने बड़े पैमाने पर प्रेमी जोड़ों के दस्तावेज बरामद किए हैं. अब संजय सचदेव के करीबी हर्ष मल्होत्रा की तलाश की जा रही है.

दिल्ली : अचानक गर्लफ्रेंड के घर में घुस शख्स ने निकाल ली पिस्तौल, फिर कर डाला यह काम...



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement