NDTV Khabar

दिल्ली पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से बच्चे को बचाया

पुलिस ने सबसे पहले cctv खंगालना शुरू किया. इस दौरान इलाके के सारे CCTV देखने के पुलिस को एक यूपी नंबर की कार पर शक हुआ.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से बच्चे को बचाया

गिरफ्तार आरोपी की फाइल फोटो

नई दिल्ली: 12 जून को तक़रीबन 3 बजे एक जींस के करोबारी जिसका नाम ब्रिजराज है उनके 12 साल के बच्चे का अपहरण कर लिया गया.अपहरण की सुचना रात को थाना स्वरूप नगर को दी गई. कारोबारी के बच्चे की अपहरण की सुचना के बाद आला अधिकारी भी मामले की गंभीरता को देखते हुए छानबीन में जुट गए. पुलिस ने सबसे पहले cctv खंगालना शुरू किया. इस दौरान इलाके के सारे CCTV देखने के पुलिस को एक यूपी नंबर की कार पर शक हुआ. पुलिस को कार के अंतिम चार डिजिट मिले तो साफ़ नहीं दिखाई दे रहे थे.

यह भी पढ़ें: पुणे में एक साल की मासूम से रेप के बाद हत्या, आरोपी सीसीटीवी कैमरे में कैद

पुलिस ने उनको डेवल्प किया तो यह कार शिवकुमार नाम के शख्स की नकली. शिव कुमार आगरा के फतेहाबाद में रहता था. पुलिस ने ट्रेस कर फतेहबाद पहुंची और शिवकुमार को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो पता चला शिवकुमार ,बृजराज का दूर के रिश्ते का भाई है और उसने नरेंदर नाम के शख्स के साथ 12 साल के बच्चे के अपहरण की योजना बनाई. पुलिस के अनुसार आरोपियों ने बच्चे का अपहरण उस समय किया जब वह बाजार से कोई सामान लेने गया था.

यह भी पढ़ें: पत्रकार शुजात बुखारी हत्या मामले में पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी

इस दौरान शिवकुमार ने खुद जाकर नरेंदर को बच्चे को पास बुलाने भेजा ,नरेंदर ने बच्चे को कहा की हम तुम्हारे पिताजी को जानते है उनकी लिबासपुर में फैक्ट्ररी है उसके पास ले चलो. इसके बाद वह बहाने से  बच्चे को कार के पास तक ले आया और फिर कार में बैठा कर रवाना हो गए. शिव कुमार पर तीस लाख का कर्जा था जिसके चलते उसने बच्चे के अपहरण की योजना बना डाली.

VIDEO: पत्रकार बुखारी की हत्या.


टिप्पणियां
शिवकुमार का प्लान था की बच्चे की हत्या करके वो उसके पिता से फिरौती मांगता, क्योंकि बच्चा अपने चाचा शिव कुमार को पहचानता था. इस तरह पुलिस की तुरंत कार्यवाही से बच्चे की जान बच गई.

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement