NDTV Khabar

दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्र की अपहरण के बाद हत्या, 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी गई थी

कई बार अपहरणकर्ताओं की लोकेशन मिलने के बावजूद पुलिस उन्हें पकड़ने में रही नाकामयाब; 22 मार्च को हुआ था अपहरण, 28 को मिला शव

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्र की अपहरण के बाद हत्या, 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी गई थी

छात्र आयुष नौटियाल (फाइल फोटो).

खास बातें

  1. 21 साल के छात्र आयुष का शव द्वारका इलाके में मिला, एक आरोपी गिरफ्तार
  2. रामलाल आनंद कॉलेज में बीकॉम कर रहा था आयुष
  3. परिवार ने फिरौती देने के लिए 10 लाख रुपये जुटाए थे
नई दिल्ली: दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्र की अपहरण के बाद हत्या कर दी गई. उसके परिवार से 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी गई थी. पुलिस की नाकामी के चलते छात्र आयुष नौटियाल को जान गंवाना पड़ी.पुलिस को अपहरणकर्ताओं की लोकेशन भी कई बार मिली पर वह कुछ नहीं कर पाई. दिल्ली पुलिस ने इस मामले में इशाद नाम के 26 साल के युवक को गिरफ्तार किया है.

दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमिश्नर अजय चौधरी के अनुसार आरोपी इशाद ने पुलिस को बताया कि वह मृतक आयुष से डेटिंग ऐप के जरिए मिला था और 22 मार्च को ही तीसरी मुलाकात के दौरान किसी बात को लेकर उनके बीच झगड़ा हो गया जिसके बाद इशाद ने हथोड़े से वार करके आयुष की हत्या कर दी. हत्या के बाद पुलिस को गुमराह करने के लिए मृतक के परिवार को उसी के फोन से व्हाट्सऐप कॉल करके 50 लाख की फिरौती मांगी थी.

पालम थाने की पुलिस की नाकामी के चलते दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्र की हत्या हो गई. छात्र आयुष का अपहरण करने के बाद पचास लाख रुपये की फिरौती मांगी गई थी. फिरौती न मिलने पर उसकी हत्या कर दी गई. छात्र आयुष नौटियाल दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामलाल आनंद कॉलेज में पढ़ता था. वह बी कॉम की पढ़ाई कर रहा था. गत 22 मार्च को आयुष घर से कॉलेज जाने के लिए निकला लेकिन शाम तक घर नहीं लौटा. इस पर उसके परिवार को चिंता हुई और उसे हर जगह ढूंढना शुरू किया गया. मामले की पुलिस को खबर दी गई.

यह भी पढ़ें : ठाणे में स्कूल के समीप 11 साल के छात्र की हत्या, आरोपी गिरफ्तार

बाद में आयुष के पिता दिनेश को व्हाट्सऐप पर मैसेज मिला जिसमें आयुष की फोटो थी और उनसे 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी गई थी. अपहरणकर्ताओं द्वारा भेजे गए फ़ोटो में आयुष के हाथ, पैर, मुंह सब कुछ बंधा हुआ था. इससे उसके परिवार के पैरों तले की जमीन खिसक गई.

यह भी पढ़ें : महज 10 हजार रुपये की फिरौती के लिए अपहरण और हत्या, शौचालय की टंकी में मिला शव

पुलिस को सारा मामला बताया गया. अपहरणकर्ता लगातार 50 लाख की डिमांड कर रहे थे, कभी व्हाट्सऐप कॉल के माध्यम से तो कभी मैसेज से. घर वालों ने फिरौती देने के लिए 10 लाख रुपये का इंतजाम भी किया लेकिन अपहरणकर्ता आयुष के परिवार वालों को घुमाते रहे. वे कभी कहीं बुलाते कभी कहीं. नजफगढ़ से लेकर वसंत कुंज तक घुमाया गया लेकिन कोई भी रकम लेने नहीं आया.

इस दौरान कई बार पुलिस को अपहरणकर्ताओं की लोकेशन मिली लेकिन वह उन्हें नहीं पकड़ पाई. अपहरणकर्ता आयुष के मोबाइल का ही उपयोग कर रहे थे. द्वारका सेक्टर 13 में बुधवार को आयुष की लाश मिली तो उसके परिवार पर कहर टूट पड़ा. अपहरणकर्ताओं ने आयुष की हत्या करके उसकी लाश को फेंक दिया था.

VIDEO : ठाणे में स्कूल के छात्र की हत्या

टिप्पणियां
आयुष के पिता बीमा कंपनी में अधिकारी हैं. उसकी दो बहनें है. पालम थाने की पुलिस की नाकामी साफ झलक रही है. थाने के एसएचओ ने समय रहते कार्रवाई नहीं की जिसकी वजह से नौटियाल परिवार ने अपना बेटा खो दिया.

फिलहाल पुलिस ने इशाद को गिरफ्तार कर लिया है और मामले की जांच कर रही है कि उसके साथ अन्य लोग तो नहीं थे. दोनों के बीच में क्या रिश्ता था इसकी भी जांच की जा रही है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement