किसानों ने जमीन मुआवजा में फर्जीवाड़ा कर हड़पे 60 लाख रुपये, छह पर मामला दर्ज

दादरी जिला में अधिग्रहीत जमीन के मुआवजे में फर्जीवाड़ा करते हुए कुछ किसानों ने करीब 60.43 लाख रुपए की राशि कथित तौर पर हड़प ली. इस सिलसिले में पुलिस ने छह किसानों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.

किसानों ने जमीन मुआवजा में फर्जीवाड़ा कर हड़पे 60 लाख रुपये, छह पर मामला दर्ज

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  • दादरी जिला में अधिग्रहीत जमीन के मुआवजे में फर्जीवाड़ा
  • किसानों ने करीब 60.43 लाख रुपए की राशि कथित तौर पर हड़प ली
  • छह किसानों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया
भिवानी:

दादरी जिला में अधिग्रहीत जमीन के मुआवजे में फर्जीवाड़ा करते हुए कुछ किसानों ने करीब 60.43 लाख रुपए की राशि कथित तौर पर हड़प ली. इस सिलसिले में पुलिस ने छह किसानों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है. यह मामला ‘नेशनल हाईवे ग्रीन कारिडोर 152 डी' के लिए अधिग्रहीत जमीन के मुआवजे से संबंधित है. आरोप है कि किसानों ने बैंक में आए पैसे भी निकाल लिए. जब मामला राजस्व विभाग की जांच में आया तो पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई गई. शिकायत के आधार पर पुलिस ने छह किसानों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. 

राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचआई) ने ‘नेशनल हाईवे ग्रीन कारिडोर' के लिए दादरी जिला के 18 गांवों की जमीन का अधिग्रहण किया था. जमीन के मुआवजे में वृद्धि की मांग को लेकर किसानों ने लगातार 14 महीने से आंदोलन चलाया. कोरोना वायरस को लेकर किसानों ने आंदोलन वापस लिया तो किसानों को मुआवजा देने की प्रक्रिया शुरू की गई. इसी दौरान दादरी शहर के आधा दर्जन किसानों द्वारा फर्जी दस्तावेज प्रस्तुत करते हुए कुल 60 लाख 43 हजार 534 रुपए की मुआवजा राशि ले ली गई. सभी किसान एक ही परिवार के सदस्य हैं.

जांच के बाद जिला राजस्व अधिकारी सुखबीर बूरा ने शिकायत दर्ज करवाई. सुखबीर बूरा ने बताया कि एक पार्टी द्वारा दस्तावेज प्रस्तुत करते हुए मुआवजा के लिए अपना दावा जताया था. रिकार्ड जांच किया गया तो संबंधित जमीन का मुआवजा पहले ही जारी हो चुका था. ऐसे में पूरा रिकार्ड खंगाला गया और यह मामला सामने आया. डीएसपी (मुख्यालय) जोगेंद्र सिंह ने बताया कि राजस्व अधिकारी की शिकायत के बाद छह किसानों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गयी है.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com