NDTV Khabar

होमगार्ड वेतन घोटाला: मंडलीय कमांडेंट समेत 5 आरोपी गिरफ्तार, 4 करोड़ की हेराफेरी का है मामला

सेक्टर-14ए स्थित पुलिस कंट्रोल रूम में बुधवार को हुई प्रेस कान्फ्रेंस में एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि 17 जुलाई को एक होमगार्ड ने उन्हें शिकायती पत्र देकर होमगार्ड्स की ड्यूटी के बाबत फर्जी मस्टर रोल तैयार कर वेतन निकालने की जानकारी दी थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
होमगार्ड वेतन घोटाला: मंडलीय कमांडेंट समेत 5 आरोपी गिरफ्तार, 4 करोड़ की हेराफेरी का है मामला

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  1. सहायक जिला कमांडेंट समेत 5 लोगों की गिरफ्तारी से विभाग में मचा है हड़कंप
  2. गिरफ्तार लोगों में तीन प्लाटून कमांडर भी शामिल हैं
  3. शुरुआती जांच में सिर्फ गौतमबुद्ध नगर में चार करोड़ से अधिक का घोटाला उजागर
गौतमबुद्ध नगर:

करोड़ो रुपये के होमगार्ड्स वेतन घोटाले में होमगार्ड के मंडलीय कमांडेंट (तत्कालीन जिला कमांडेंट, गौतमबुद्ध नगर) और सहायक जिला कमांडेंट समेत पांच लोगों की गिरफ्तारी से विभाग में हड़कंप मचा हुआ है. गिरफ्तार लोगों में तीन प्लाटून कमांडर भी शामिल हैं. बता दें, शुरुआती जांच में सिर्फ गौतमबुद्ध नगर में चार करोड़ से अधिक का घोटाला उजागर हुआ है. सेक्टर-14ए स्थित पुलिस कंट्रोल रूम में बुधवार को हुई प्रेस कान्फ्रेंस में एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि 17 जुलाई को एक होमगार्ड ने उन्हें शिकायती पत्र देकर होमगार्ड्स की ड्यूटी के बाबत फर्जी मस्टर रोल तैयार कर वेतन निकालने की जानकारी दी थी. उस मामले की जांच एसपी सिटी विनीत जायसवाल को सौंपी गई. माह मई-जून-2019 के सात थानों और राजकीय संप्रेक्षण गृह में होमगार्ड्स की ड्यूटियों की सैंपल के तौर पर जांच की गई. 

फर्जी सिपाही बनकर DM ऑफिस में करता था 'ड्यूटी', लोगों से ऐंठता था पैसे, पुलिस ने फिर ऐसे दबोचा


जांच में दो माह में लगभग 114 होमगार्ड का 1327 दिन का वेतन 07 लाख 07 हजार 500 (सैंपल अवधि में कुल आहरित वेतन करीब 50 प्रतिशत) का फर्जी मस्टर रोल तैयार कर वेतन निकालने का सच सामने आया. एसएसपी ने बताया कि अब तक की जांच के आधार पर पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है. गिरफ्तार किए गए लोगों में मंडलीय कमांडेंट अलीगढ़ (तत्कालीन जिला कमांडेंट गौतमबुद्ध नगर) राम नारायण चौरसिया, जिला सहायक कमांडेंट सतीश चंद के अलावा तीन अवैतनिक प्लाटून कमांडर मोन्टू कुमार, शैलेंद्र कुमार और सत्यवीर यादव शामिल हैं.

नोएडा: युवती से गैंगरेप करने वाले सभी पांचों आरोपी गिरफ्तार

इसके आगे एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्तों से पूछताछ और दस्तावेजों की जांच में यह बात सामने आई है कि होमगार्ड विभाग में बीते कई वर्षों से यह हेराफेरी चल रही थी. इसमें तत्कालीन जिला कमांडेंट राज नारायण चौरसिया की सहमति थी. जिला कमांडेंट के निर्देशन में अवैतनिक प्लाटून कमांडर थानों में तैनात होमगार्डों के फर्जी मस्टर रोल तैयार करते थे. इसके बाद थाना प्रभारी व अन्य स्टाफ के फर्जी हस्ताक्षर और मुहर लगाकर मस्टर रोल पर जिला कमांडेंट से अनुमोदन कराकर भुगतान ले लेते थे. इसमें सभी का हिस्सा तय था. उन्होंने बताया कि जो होमगार्ड ड्यूटी पर नहीं होता है, फर्जी मस्टर रोल में उसकी भी हाजिरी दिखाकर वेतन निकाला जाता था. इसके अलावा होमगार्ड की कार्यदिवस की संख्या को भी बढ़ाकर अनुचित रूप से अतिरिक्त वेतन का आहरण किया जाता था. 

टिप्पणियां

अलग-अलग वर्दी पहनकर टिक टॉक वीडियो बनाने का शौक रखता था युवक, पायलट की यूनिफॉर्म में पहुंचा एयरपोर्ट और...

एसएसपी ने बताया कि अब तक की जांच में यह बात सामने आई है कि बीते दो वर्ष में थानों की ड्यूटी के संबंध में फर्जी मस्टर रोल तैयार कर 04 करोड़ से अधिक की धनराशि का घोटाला किया गया है. उन्होंने आशंका जताई कि अन्य प्रशासनिक कार्यालयों में भी इसी प्रकार का फर्जीवाड़ा हो सकता है. इसके साथ ही सबूत मिटाने के मकसद से होमगार्ड ऑफिस में लगी आग के बाबत एसएसपी ने कहा कि अभी इस बात का खुलासा नहीं हुआ है कि आग किसने लगाई है. लेकिन इतना साफ हो गया है कि किसी अज्ञात व्यक्ति ने कार्यालय का दरवाजा तोड़कर कमरे में रखे बॉक्स का भी ताला तोड़ने के बाद बॉक्स में आग लगाई है. उस बॉक्स में 2014 से लेकर अब तक के मास्टर रोल रखे थे. आग लगने की जानकारी डायल-100 पुलिस को दी गई थी. इस मामले की जांच के लिए उन्होंने एसआईटी का गठन कर दिया. इस बीच गुजरात से दो सदस्यीय फोरेंसिक टीम ने मौके का मुआयना किया.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement