NDTV Khabar

पांच लोगों ने गैंगरेप के बाद महिला और उसके दोस्त की हत्या की, पुलिस ने झूठा आरोप जड़कर पति को जेल भेजा

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पांच लोगों ने गैंगरेप के बाद महिला और उसके दोस्त की हत्या की, पुलिस ने झूठा आरोप जड़कर पति को जेल भेजा

क्राइम ब्रांच की गिरफ्त में सामूहिक बलात्कार और दोहरी हत्या के आरोपी.

नई दिल्ली: एक महिला के साथ उसके दोस्त के सामने पहले पांच लोगों ने गैंगरेप किया. इसके बाद महिला और उसके दोस्त की हत्या कर दी. हत्या के आरोपी महिला के पति और उसके रिश्तेदारों को जेल भेज दिया गया. लेकिन दो महीने बाद क्राइम ब्रांच ने खुलासा किया है कि महिला और उसके दोस्त की हत्या उसके पति ने नहीं कराई. यह वारदात एक गैंग ने की है, जिसने महिला के साथ पहले गैंगरेप किया और फिर पुलिस के डर से महिला और उसके दोस्त की हत्या कर दी.

क्राइम ब्रांच के मुताबिक इसी साल 19 फरवरी को सूचना मिली कि मीर विहार में एक तालाब के पास एक महिला का शव मिला है. पुलिस जब मौके पर पहुंची तो करीब 38 साल की पूजा (बदला हुआ नाम) के गले पर एक निशान मिला. जांच में पता चला कि महिला एक दिन पहले से गायब थी. पुलिस को शक था कि महिला की हत्या कहीं और हुई है और सबूत मिटाने के लिए शव मीर विहार में डाल दिया गया. इस मामले में कंझावला थाने में हत्या का केस दर्ज कर जांच शुरू हुई.

20 फरवरी को पुलिस को एक और जानकारी मिली कि मदनपुर डबास इलाके में एक नाले के पास एक पुरुष का शव पड़ा हुआ है. पुलिस मौके पर पहुंची और जांच के बाद पता चला कि शव अरुण नाम के एक युवक का है और वह दिल्ली के कराला इलाके का रहने वाला था. यह युवक भी 18 फरवरी से ही गायब था. इस शख्स की भी कहीं और हत्या कर शव यहां ठिकाने लगाया गया था.

स्थानीय पुलिस ने दोनों मामलों की जांच की तो पता चला कि शादीशुदा पूजा के अरुण से अवैध संबंध थे. स्थानीय पुलिस ने शक के आधार पर महिला के पति और उसके रिश्तेदारों को दोनों की हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया.

क्राइम ब्रांच के अधिकारियों के मुताबिक उन्हें कुछ दिन पहले जानकारी मिली कि बाहरी दिल्ली इलाके में तीन लोगों ने गैंगरेप और दोहरे हत्याकांड को अंजाम दिया है. इसी सूचना पर 26 अप्रैल को क्राइम ब्रांच ने जाल बिछाया और तीन लोगों जसबीर डबास, देवेंद्र कुमार और मंजीत को गिरफ्तार कर लिया. पूछताछ के दौरान उन्होंने अपना जुर्म भी कबूल कर लिया.

आरोपियों के मुताबिक 18 फरवरी को मदनपुर डबास गांव के एक खेत में वे शराब पी रहे थे, तभी उन्होंने देखा कि बाइक सवार एक महिला एक लड़के के साथ वहां घूम रही है. आरोपियों ने दोनों को रोककर पूजा के साथ गैंगरेप किया और फिर पकड़े जाने के डर से अरुण के बेल्ट से दोनों का गला घोंट दिया. इस मामले में स्थानीय पुलिस की जांच पर बड़ा सवाल उठता है कि आखिर उसने कैसे बिना सबूतों के मृतक महिला के पति और उसके रिश्तेदारों को हत्या के जुर्म में जेल भेज दिया.

इस मामले में दो आरोपियों विकास और मोहित की तलाश जारी है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement