NDTV Khabar

कहीं दीवानगी ने छीनी जिंदगी तो कहीं तंत्रमंत्र के चक्कर में गई जान, साल 2018 में क्राइम की वो 7 घटनाएं

दिल्ली का बुराड़ी कांड, सेना के अधिकारी का प्रेमिका का मर्डर, उत्तर प्रदेश में पुलिसकर्मियों का ऐप्पल के अधिकारी की गोली मारकर हत्या जैसी घटनाएं हमेशा लोगों के जहन में रहेंगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कहीं दीवानगी ने छीनी जिंदगी तो कहीं तंत्रमंत्र के चक्कर में गई जान, साल 2018 में क्राइम की वो 7 घटनाएं
नई दिल्ली:

साल 2018 के जाने में अब कुछ दिन ही बचे हैं. खट्टी-मीठी यादों के साथ यह साल भी धीरे-धीरे विदा हो जाएगा. यह साल भी अपराध की घटनाओं के लिए हमेशा याद किया जाएगा. क्राइम की ये घटनाएं ऐसी थीं जो कई दिनों तक मीडिया की सुर्खियां बनीं रही और सरकार से लेकर जांच एजेंसिया इनको सुलझाने में लगीं रही हैं. दिल्ली का बुराड़ी कांड, सेना के अधिकारी का प्रेमिका का मर्डर, उत्तर प्रदेश में पुलिसकर्मियों का ऐप्पल के अधिकारी की गोली मारकर हत्या जैसी घटनाएं हमेशा लोगों के जहन में रहेंगी. इन घटनाओं पर सफाई देने के लिए सरकार को आगे आना पड़ा था. हाल ही में बुलंदशहर में गोकशी के शक में हुई हिंसा के दौरान इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या की भी गुत्थी सुलझ नहीं पाई है और इस मामले में भी कई आरोपी फरार चल रहे हैं. 

दिल्ली का बुराड़ी कांड 
बुराड़ी कांड: भाटिया परिवार के 10 शवों की पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट आई, यहां उलझी पुलिस की जांच
जुलाई के महीने में खबर आई कि दिल्ली के बुराड़ी में एक ही परिवार के शव 11 लोगों के शव बरामद हुए हैं जिसमें 10 शव के फांसी पर लटके हुए थे जबकि एक बुजुर्ग महिला का शव बेड पर पड़ा मिला था. शुरू में माना गया कि ये हत्याएं लूटपाट या दुश्मनी के शक में हुई हैं लेकिन जांच में पता चला कि यह मामला तंत्रमंत्र से जुड़ा हुआ है और इसी चक्कर में इन लोगों ने अपनी जान दे दी. फिलहाल अब इस मामले की जांच बंद कर दी गई है.


अंकित सक्सेना हत्याकांड
अंकित सक्सेना हत्याकांड: शादी करने से रोकने के लिए हुई थी अंकित की हत्या
दिल्ली के ख्याला इलाके में हुई अंकित सक्सेना की हत्या मामले की जांच में पता चला कि हत्या सिर्फ इसलिए की गई क्योंकि वह उसकी शादी होने से रोकना चाहते थे. पुलिस के अनुसार 1 फरवरी के दिन अंकित और उसकी महिला मित्र के बीच आखिरी बार बातचीत हुई थी. इस बातचीत में दोनों ने शादी करने का फैसला किया था. अंकित सक्सेना, मुस्लिम समुदाय की एक लड़की से प्रेम करता था. 

दिल, दिल्लगी और दीवानगी में गई जान
shailza dwivedi
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के छावनी इलाके में बरार स्क्वायर के पास सेना के मेजर अमित की पत्नी की हत्या के मामले में आरोपी नाम निखिल हांडा को गिरफ्तार किया गया था. वह भी सेना में मेजर था. इस घटना के बाद इलाके में ह़डकंप मच गया. शैलजा सुबह 10 बजे आर्मी के बेस अस्पताल फिजियोथेरेपी कराने आई थी. लेकिन करीब 1 बजकर 28 मिनट पर दिल्ली कैंट मेट्रो स्टेशन के पास वरार स्केयर में सड़क पर शैलजा का शव मिला. अमित और निखिल दीमापुर में ही तैनात थे और वहीं पर इनकी जान-पहचान हुई थी. अमित के साथ ही निखिल की बातचीत शैलजा से भी शुरू हुई थी. पुलिस को सीसीटीवी से पता चला है कि घटना वाले दिन निखिल ने शैलजा को अपनी हॉडा सिटी कार में बैठाया कर कहीं ले गया था और उसके बाद उसकी हत्या कर फरार हो गया.

जज की पत्नी और बेटे की हत्या
गुरुग्राम गोलीकांड :  जज की पत्नी के बाद  बेटे की भी मौत, गनर ने बीच बाजार मारी थी गोली
गुरुग्राम में गनर ने जज की पत्नी और बेटे को गोली मार दी थी. इस घटना का वीडियो देखने के बाद हर कोई दहल गया था. पुलिस ने आरोपी गनर को गिरफ्तार कर लिया था.डीसीपी ने बताया कि घटना वाले दिन सिपाही महिपाल बाजार  में जज की पत्नी और बेटे को छोड़कर चला गया था. परिवार ने कई बार महिपाल को ढूंढा. महिपाल कुछ देर बाद वापस आया तो उसे डांटा गया. उसी दौरान उसने गुस्से में जज के परिवार पर हमला किया. 

बवाना में टीचर की हत्या
मियां-बीवी और 'वो': ये है वह मॉडल और उभरती बॉलीवुड एक्ट्रेस, जिसके प्यार में पति ने पत्नी की हत्या करवा दी
दिल्ली के बवाना में टीचर सुनीता की हत्या के मामले में दिल्ली पुलिस ने तीन आरोपियों सुनीता के पति मंजीत, उसकी गर्लफ्रेंड एंजल गुप्ता और एंजल के मुंहबोले पिता को गिरफ्तार किया था. एंजल आरके पुरम इलाके की रहने वाली है. तीनों ने मिलकर हत्या की साज़िश रची थी. हत्या भाड़े के हत्यारों से कराई गई. मंजीत के अवैध सबंधों का उसकी पत्नी सुनीता विरोध करती थी. इस बात पर दोनों में झगड़ा होता था. टीचर सुनीता ने सब कुछ अपनी निजी डायरी में लिखा था. पुलिस ने उसकी डायरी बरामद की है. सुनीता को उस वक्त तीन गोलियां मार दी गई थीं जब वह स्कूटी से अपने स्कूल जा रही थी. 

विवेक तिवारी हत्याकांड
यूपी के DGP ने बताया- विवेक तिवारी हत्याकांड के पीछे पुलिसकर्मियों की यह कमी भी जिम्मेदार
उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में शनिवार तड़के एक पुलिस कॉन्स्टेबल की गोली से 38 साल के विवेक तिवारी की मौत हो गई. वह ऐप्पल के एरिया मैनेजर थे. पुलिसकर्मी ने सिर्फ इस बात पर गोली मार दी थी क्योंकि चेकिंग के दौरान उसने अपनी SUV कार रोकने से पर इनकार कर दिया था. घटना रात के 1.30 बजे लखनऊ के गोमती नगर एक्सटेंशन इलाके की थी. गोली लगने के बाद उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई. इस घटना के बाद दोनों पुलिसकर्मियों को बर्खास्त कर जेल में डाल दिया गया. हालांकि इस दौरान कुछ पुलिसकर्मियों ने इसे गलत बताकर विरोध भी जताया था. 

मां-बाप और बहन की हत्या
दिल्‍ली में माता-पिता और बहन की हत्या करने वाले आरोपी युवक को नहीं है कोई पछतावा, इस ऑनलाइन गेम की थी लत
दिल्ली में 19 साल के सूरज को गिरफ्तार किया गया जिसने अपने माता-पिता और बहन की हत्या कर दी. आरोपी को ऑनलाइन गेम पीयूबीजी (PUBG) खेलने की लत थी और उसने महरौली में किराये पर एक कमरा ले रखा था जिसमें वह कक्षा से गायब होकर अपने दोस्तों के साथ वक्त बिताता था. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी. सूरज उर्फ सरनाम वर्मा ने बुधवार तड़के अपने पिता मिथिलेश, मां सिया और बहन की कथित तौर पर हत्या कर दी थी और घर में तोड़फोड़ की थी ताकि लगे कि वहां लूटपाट हुई है. जांच के दौरान पुलिस ने पाया कि सूरज का एक व्हाट्सअप ग्रुप था जिसमें 9-10 दोस्त थे. इस ग्रुप में लड़कियां भी थीं. वे इसमें कक्षा से गायब होने और घूमने-फिरने की योजनाएं बनाते थे. सूरज नशे का आदी था. वह 12 वीं में फेल हो चुका था. पुलिस को वारदात के बाद घर का दरवाजा अंदर से बंद मिला. कोई लूटपाट नहीं हुई लेकिन घर का सामान बिखरा था. यह सब सूरज ने पुलिस की जांच भटकाने के लिए किया था.

टिप्पणियां

NDTV Special: बुराड़ी केस की अभी तक की कहानी, कब और क्या-क्या हुआ?​


 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement