एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया में नौकरी लगवाने के नाम पर ठगी, रैकेट का भंडाफोड़

एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया में नौकरी लगवाने के नाम पर लोगों को ठगा, गैंग का सरगना साजिद भाई नाम का शख्स

एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया में नौकरी लगवाने के नाम पर ठगी, रैकेट का भंडाफोड़

दिल्ली पुलिस ने ठगी करने वाले आरोपियों को गिरफ्तार किया है.

नई दिल्ली:

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने एक ऐसे रैकेट का भंडाफोड़ किया है जो एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया में नौकरी लगवाने के नाम पर लोगों से ठगी करते थे. गैंग का सरगना साजिद भाई नाम का शख्स है. डीसीपी एयरपोर्ट राजीव रंजन के मुताबिक एटा के रहने वाले दीपक कुमार ने शिकायत दी कि उन्होंने 11 जुलाई को फेसबुक पर एक विज्ञापन देखा जिसमें एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया में नौकरी की वेकैंसी दिखाई गई थी. इसके बाद उन्होंने फेसबुक पर विज्ञापन देने वाले शख्स से संपर्क किया. नौकरी के नाम पर उससे 4 लाख 47 हज़ार रुपये अलग-अलग बैंक एकॉउंटों में जमा करा लिए गए. उसके बाद नौकरी लगवाने का वादा करने वाले ने अपना फोन बंद कर लिया. 

जांच में पता चला कि जिन एकॉउंटों में पैसे जमा कराए गए वो फ़र्ज़ी दस्तावेजों पर खोले गए हैं. आखिरकार 15 अगस्त को पुलिस ने एक एकॉउंट होल्डर शहज़ाद को गिरफ्तार कर लिया. उसके बाद गैंग के सरगना साजिद उसके साथी सुमित उपाध्याय, संजय शर्मा और पवन गुप्ता को गिरफ़्तार कर लिया गया. पूछताछ में पता चला कि इन लोगों ने खोड़ा कॉलोनी में एक फ़र्ज़ी कॉल सेंटर बना रखा था. 

आरोपी पहले फ़ेसबुक पर एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया का विज्ञापन देते, फिर जब लोग नौकरी के लिए लोग फोन करते तो ये कॉल सेंटर से फोन कर बताते कि आपकी नौकरी पक्की हो गई है. उसके बाद 1050 रुपये रजिस्ट्रेशन चार्ज लेकर एक फ़र्ज़ी अपॉइंटमेंट लेटर भेजते और फिर एग्रीमेंट के नाम पर 25550 रुपये लेते. उसके बाद नौकरी का 40 लाख का इंश्योरेंस कराने के नाम पर प्रीमियम के तौर पर 20500 रुपये लेते थे और फिर फोन बंद कर लेते थे. 

इस तरह यह गैंग सैकड़ों लोगों को लाखों रुपये का चूना लगा चुका है. इसमें सुमित वेब डिजाइनर है जो फ़ेसबुक पर विज्ञापन को डिजाइन करके पोस्ट करता था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com